पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Jaisalmer News Rajasthan News 60 Percent Booking Canceled In Jhatkamarch Due To Fear Of Corona Virus

कोरोना वायरस के डर से पर्यटन को झटकामार्च में ही 60 प्रतिशत बुकिंग हो गई रद्द

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वायरस को लेकर हर कोई दहशत में है। खासतौर पर जैसलमेर आने वाले सैलानियों में इसका भय ज्यादा देखा जा रहा है। पिछले दिनों इटली के सैलानियों के ग्रुप में अधिकांश को कोराेना होने तथा उनके जैसलमेर में दो दिन तक रुकने की खबर ने जैसलमेर के पर्यटन को बहुत बड़ा नुकसान पहुंचा दिया है। अब जैसलमेर आने वाले सैलानी डरे हुए हैं।

काेराेना के डर के चलते आगामी मार्च माह में भी बड़ी तादाद में देसी सैलानियों के आने की उम्मीद थी और होटल व रिसोर्ट में अच्छी बुकिंग थी लेकिन 60 प्रतिशत से ज्यादा बुकिंग दो दिन में ही रद्द हो गई है। सैलानी लगातार बुकिंग कैंसिल करवा रहे हैं और जानकार बताते हैं कि आगामी दो चार दिन में मार्च माह की लगभग सभी बुकिंग कैंसिल होने की आशंका है।

रामदेवरा रूणिचा नगरी में भी कोरोना को लेकर लोग बचाव के तरीके अपना रहे है। बाबा रामदेव के मंदिर में रोजाना सैकड़ों लोगों के पहुंचने को लेकर मंदिर पुजारियों द्वारा मास्क पहनकर पूजा अर्चना की जा रही है। इसके साथ ही दर्शनार्थियों के संपर्क में आने वाले पुजारियों द्वारा भी मास्क पहनकर ही चरणामृत दिया जा रहा है। पुजारियों का कहना है कि मंदिर में रोजाना सैकड़ों लोग आते है कई दर्शनार्थी भी मास्क पहनकर रूणिचा पहुंच रहे है। इसलिए सावधानी के रूप में मास्क का उपयोग किया जा रहा है।

चार दिन में 50 से 60 फीसदी बुकिंग कैंसिल हो चुकी है

इस बार पूरे साल सीजन बेहतर रही। सैलानियों की अच्छी आवक रही और किसी भी तरह का व्यवधान नहीं आया। लेकिन सीजन के आखिरी पड़ाव पर कोरोना के डर ने सैलानियों के कदम रोक दिए हैं। गत दो दिनों में भी बड़ी संख्या में बुकिंग कैंसिल हो चुकी है। ऐसे में अब लगता है कि मार्च माह की सीजन पूरी तरह से पिट जाएगी।
मयंक भाटिया, पर्यटन व्यवसायी


पर्यटन स्थलों के आस-पास के 399 मकानों का किया कोरोना वायरस सर्वे

जैसलमेर | जैसलमेर में भी कोरोना वायरस की रोकथाम व बचाव के लिए अब चिकित्सा विभाग द्वारा विशेष सतर्कता बरती जा रही है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ बीके बारूपाल ने बताया कि उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ एमडी सोनी एवं एसएमओ डाॅ कृति पटेल के निर्देशन में शनिवार को शहरी क्षेत्र में पुलिस लाईन, अचलवंशी काॅलोनी, पर्यटन स्थल सोनार दुर्ग स्थित जैन मंदिर क्षेत्र, डिब्बा पाडा के आसपास के क्षेत्र में विभागीय कार्मिकों एवं आशा सहयोगिनियों की गठित चार टीमों द्वारा कोरोना वायरस संबंधी सर्वे कार्य व जागरूकता अभियान चलाया गया। विभाग द्वारा गठित सर्वे टीमों द्वारा शनिवार को कुल 399 घरों में 1 हजार 468 लोगों का सर्वे किया गया। विभागीय कार्मिकों द्वारा कोरोना वायरस के लक्षण व बचाव के तरीकों के बारे में संवाद कर विस्तार से जानकारी प्रदान की गई। विभागीय कार्मिकों द्वारा आमजन को कोरोना वायरस से बचाव के लिए आवश्यक सजगता एवं सतर्कता बरतने तथा हाथ धुलाई पर विशेष ध्यान रखने की अपील की गई। सर्वे काम में सामान्य खांसी के संभावित लक्षणों से ग्रसित पाए गए 4 रोगियों को जिला अस्पताल जवाहिर अस्पताल में स्वास्थ्य जांच करवाने व चिकित्सकीय परामर्श लेने की सलाह दी गई।

डाॅ बारूपाल ने बताया कि विभागीय मेडिकल टीम द्वारा शनिवार को स्वाइन फ्लू मरीज के निवास गोपा चौक के आसपास के क्षेत्र के 167 घरों में निवास करने वाले 641 लोगों की स्क्रीनिंग की गई तथा 4 लोगों को टेमी फ्लू की दवा दी गई। मेडिकल टीम द्वारा स्वाइन फ्लू के लक्षणों, बचाव एवं रोकथाम के संबंध में जागरूक किया गया। उन्होंने बताया कि स्वाइन फ्लू मरीज वर्तमान में जवाहिर अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में उपचारित है तथा स्वस्थ है।

कोरेना वायरस फैलने के संदर्भ में लगातार बढ़ रही चिंता को देखते हुए सेना व वायुसेना द्वारा ऐहतियात के तौर पर कई प्रकार के कदम उठाए गए हैं जिनमें खासतौर जिन मिलिट्री स्टेशन में हॉस्पिटल की सुविधा नहीं है वहां पर संदिग्ध कोरोना वायरस से पीड़ित जवानों के लिए आइसोलेशन वार्ड बनाए जा रहे है। सेना व वायुसेना के सभी स्टेशनों में माॅस गेदरिंग पर रोक लगा दी हैं। खासकर तौर पर पीटी व परेड पर अस्थाई रोक लगाई गई हैं। इसके साथ ही देश भर में सेना व वायुसेना को भी ऐहतियात के तौर पर सतर्क किया गया हैं। सभी सैन्य बलों के जवानों को जब तक बेहद जरुरी ना हो, होटल रेस्टोरेंट न जाने की सलाह दी गई हैं। जैसलमेर में वायुसेना में मिलिट्री हॉस्पिटल स्थापित किया हुआ हैं। ऐसे में किसी भी जवान के संदिग्ध रूप के ग्रसित होने पर उसे उपचार के लिए वायुसेना के हॉस्पिटल भिजवाया जाएगा।

इस साल सीजन में जैसलमेर अाने वाले सैलानियों की संख्या में इजाफा हुआ है। लगातार देसी सैलानी जैसलमेर भ्रमण पर आ रहे हैं। मार्च माह में भी बड़ी तादाद में देसी सैलानियों के आने की उम्मीद थी और होटल व रिसोर्ट में अच्छी बुकिंग थी, लेकिन अब कोरोना वायरस के चलते नुकसान हो रहा है और सैलानी यहां आने से कतरा रहे हैं। आमतौर पर होली से पहले तक देसी सैलानियों की आवक कम हो जाती है और होली के दौरान जैसलमेर में विदेशी सैलानी बड़ी संख्या में आते हैं। लेकिन अब कोरोना वायरस के भय से विदेशी भी अपनी बुकिंग कैंसिल करवा रहे हैं। आगामी दिनों में जैसलमेर में पूरी तरह से ऑफ सीजन का असर नजर आएगा।

कोरोना का असर जैसलमेर में नहीं है। लेकिन सैलानियों में कोरोना को लेकर दहशत है। इसके चलते 50 से 60 प्रतिशत बुकिंग कैंसिल हो चुकी है। सीजन का आखिरी दौर पूरी तरह से पिट चुका है। पृथ्वीराज, होटल व्यवसायी


होली की सीजन पर असर, उम्मीद से कम आए विदेशी सैलानी

जैसलमेर. मास्क लगाकर जैसलमेर का भ्रमण करते सैलानी।
खबरें और भी हैं...