• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jaisalmaer
  • Pokran News rajasthan news mid way administration is not able to supervise loss making property crores assets are not monitored

मिड-वे को प्रशासन ने घाटे का सौदा बता कर किया बंद, करोड़ों की संपति की देखरेख नहीं

Jaisalmaer News - जैसलमेर-फलोदी बायपास, जहां पर दो नेशनल हाइवे का मेल होता है, वहां आरटीडीसी विभाग ने पर्यटकों की सुविधा को देखते हुए...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 06:05 AM IST
Pokran News - rajasthan news mid way administration is not able to supervise loss making property crores assets are not monitored
जैसलमेर-फलोदी बायपास, जहां पर दो नेशनल हाइवे का मेल होता है, वहां आरटीडीसी विभाग ने पर्यटकों की सुविधा को देखते हुए मिड-वे का निर्माण करवाया गया था। करोड़ों रुपए की जमीन पर लाखों रुपए खर्च कर प्रशासन द्वारा तैयार किए गए मिड-वेे को दो वर्ष पूर्व प्रशासन ने घाटा बताकर उसे बंद कर दिया। पिछले दो वर्ष से सरकार ने बंद किए गए मिडवे की कोई सार संभाल नहीं कर रहा है। जिसके चलते इन दिनों यह आरटीडीसी मिड-वे असामाजिक तत्वों का अड्डा बना हुआ है। यहां बने भवन तथा परिसर में बने कमरे भी इन दिनों असामाजिक तत्वों की शरण स्थली बनती जा रही है। वहीं दूसरी ओर प्रशासन द्वारा भी इस संबंध में कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिसके चलते करोड़ों रुपए का परिसर इन दिनों लावारिश हालत में पड़ा है।

दो वर्ष से कोई सुध नहीं

आरटीडीसी मिड-वे पोकरण में आने वाले वीआईपी तथा वीवीआईपी के साथ साथ मंत्री और नेताओं के ठहरने का मुख्य स्थान था। पोकरण आने वाले कई नेता इस मिडवे में रुकते थे। लेकिन दो वर्ष पूर्व प्रशासन ने इस आरटीडीसी मिड-वेे को ही बंद कर दिया। जिसके चलते यहां आने वाले वीआईपी तथा वीवीआईपी के साथ साथ मंत्री व नेताओं के रुकने के लिए कोई दूसरा मिड-वे नहीं है। इसके साथ ही दो वर्ष से प्रशासन द्वारा बंद किए गए इस मिड-वेे की सुध लेने वाला भी कोई नहीं है। हाल ही में मिड-वे की स्थिति को देख लगता है जैसे मानो प्रशासन इस भवन को भूल ही गया है।

पोकरण. सार-संभाल के अभाव में असामाजिक तत्वों का अड्‌डा बना है आरटीडीसी मिड-वेे।


असामाजिक तत्वों का अड्डा बना है परिसर

आरटीडीसी मिड-वे की सुध लेनेवाला भी कोई नहीं है। जिसके चलते यह परिसर शाम होते ही असामाजिक तत्वों का अड्डा बन जाता है। लम्बे क्षेत्र में बना यह मिड-वे में बने हट्स तथा मुख्य भवन के आस-पास असामाजिक तत्व बैठे दिखाई देते हैं। इसके साथ ही शराबियों की महफिल भी इस मिडवे परिसर में दिखाई देती है। लेकिन इस सब पर अंकुश लगाने वाला भी कोई नहीं है।


X
Pokran News - rajasthan news mid way administration is not able to supervise loss making property crores assets are not monitored
COMMENT