एनअारसी, सीएए दलितों व पिछड़ों के लिए घातक : आजाद

Jaisalmaer News - भाजपा व संघ पर बरसे, कहा भारत को मनुस्मृति देश बनाने में लगे हैं केंद्र सरकार की अाेर से एनअारसी अाैर सीएए का...

Feb 15, 2020, 10:51 AM IST
Pokran News - rajasthan news narc caa fatal to dalits and backward azad
भाजपा व संघ पर बरसे, कहा भारत को मनुस्मृति देश बनाने में लगे हैं

केंद्र सरकार की अाेर से एनअारसी अाैर सीएए का विराेध करते हुए भीम सेना प्रमुख चंद्रशेखर आजाद रावण ने कहा कि यह अल्पसंख्यकाें, दलिताें अाैर अादिवासियाें के लिए घातक है। इसके लागू हाेने के बाद वह दिन दूर नहीं अल्पसंख्यकों दलितों के लिए परेशानियां बढ़ जाएंगी। इसलिए 23 फरवरी काे एनअारसी अाैर सीएए के विराेध में बंद का अाह्वान किया गया है। बंद का समर्थन करना चाहिए। उन्होंने पाेकरण में एक सभा काे संबाेधित करते एनआरसी, सीएए और धर्म के आधार पर लाने वाले कानून का विरोध करने की बात कही। इस अवसर पर मंच पर भीम सेना प्रमुख के साथ साथ संविधान विचार मंच का गिगराज, काजी इस्माइल भणियाणा, भीम आर्मी जोधपुर के मुकेश सोढ़ा, मुस्लिम राष्ट्रीय अध्यक्ष इमरान खां, जोधपुर पूर्व पार्षद रहीना बानो, उर्मिला मेवाड़ा उपस्थित थे। भाषण के दाैरान उन्हाेंने भाजपा अाैर संघ की नीतियाें की अालाेचना की तथा कहा कि इससे समाज के एक बड़े वर्ग काे खतरा है। उन्होंने आरोप लगाया कि ये लोग भारत को मनुस्मृति देश बनाने में लगे हैं । सभा के दौरान उपस्थित भीम सेना, एससी, अल्पसंख्यक लोगों से 23 को देश बंद का आह्वान किया।

प्रधानमंत्री मोदी वोट बंदी के लिए इस तरह के कानून ला रहे हैं

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर कटाक्ष करते हुए चंद्रशेखर ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा पूर्व में कालेधन का हवाला देकर आम आदमी को परेशान कर नोटबंदी की। अब प्रधानमंत्री के पास कोई चुनावी हथकंडा नहीं है इसलिए वह वोटबंदी के लिए इस तरह का कानून ला रहे हैं। उन्होंने कहा कि लम्बे समय से चल रहा राममंदिर का मुद्दा भी अब शांत हो गया है । उन्हाेंने अाराेप लगाया कि एनआरसी, सीएए का सहारा लेकर अब नागरिकता छीनने का कानून लाया जा रहा है।

मोदी और स्मृति ईरानी अपनी डिग्री नहीं दिखा पाए और लोगों से दस्तावेज मांग रहे हैं

उन्होंने कहा कि एनपीए के लिए आपको अपने भारत में रहने के दस्तावेज देने होंगे। ऐसे में सरकार ने कहा कि 1955 से पहले के दस्तावेज दिखा दो। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और स्मृति ईरानी से भी तो लोगों ने डिग्री दिखाने की बात कही। जब वे डिग्री नहीं दिखा पा रहे हैं तो लोगों से दस्तावेज किस लिए मांग रहे हैं।

शाहीनबाग की महिलाओं का आभार जताया

सभा के दौरान भीम सेना प्रमुख ने दिल्ली के शाहीन बाग में शामिल महिलाओं के साथ-साथ जामिया, जेएनयू डीयू, एएनयू के विरोध प्रदर्शन में शामिल मुस्लिम महिलाओं के प्रति अाभार जताया अाैर इसे सही करार किया। उन्होंने कहा कि दिल्ली में एक शाहीन बाग है। देशमें एेसे तमाम शाहीन बाग बनने चाहिए। उन्हाेंने कहा कि दिल्ली की जनता ने चुनाव में भाजपा काे नकार कर उचित जवाब दे दिया है। यह भाजपा के लिए एक बड़ा सबक है। उन्होंने कहा कि हमारा आंदोलन तब जारी रहेगा जब तक सरकार मुल्क में लाने वाले काले कानून सीएए, एनआरसी व एनपीआर को नहीं रोकते।

स्वतंत्रता में किसी जाति ने नहीं पूरे मुल्क ने सहयाेग दिया था

चंद्रशेखर ने कहा कि आजादी के दौरान किसी एक जाति ने बल्कि पूरे मुल्क के लोगों ने स्वतंत्रता में सहयोग दिया था और जो लोग अंग्रेजों से माफी मांग रहे थे। वह आज हमसे हमारे भारतीय होने का प्रमाण मांग रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज के लोकतंत्र में, बाबा साहेब के संविधान को लेकर हम खड़े होते हैं । हम सब राष्ट्र की एकता अाैर अखंडता बनाए रखने के लिए कृत संकल्पित हैं।

अल्पसंख्यकों और आदिवासियों के अधिकार छीनने काआरोप

भीम सेना प्रमुख चंद्रशेखर आजाद रावण ने कहा कि यह सरकार धर्म के नाम पर कानून ला रही है । इसके चलते सरकार दलितों, अल्पसंख्यकों और आदिवासियों के अधिकारों का हनन कर रही है। इसे हम होने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि 23 फरवरी को बंद के दौरान एकजुटता दिखानी होगी ताकि सरकार हमारे हकों के साथ खिलवाड़ न कर सके। अब वक्त आ चुका है जब दलित अल्पसंख्यकों को चेत जाना चाहिए।

अम्बेडकर सर्किल पर एनआरसी व सीएए के विरोध में सभा, 23 फरवरी काे बंद का अाह्वान

पाेकरण. एनअारसी के विराेध में अायाेजित अामसभा में उपस्थित जनसमूह।

X
Pokran News - rajasthan news narc caa fatal to dalits and backward azad
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना