राष्ट्रीय लोक अदालत : 8 बैंच गठित कर राजीनामा योग्य प्रकरण निबटाए

Jaisalmaer News - राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली के निर्देशानुसार शनिवार को सुबह 10 बजे से जिला मुख्यालय पर स्थित एडीआर...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:45 AM IST
Jaisalmer News - rajasthan news national lok adalat set up 8 bands and settle resignable cases
राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली के निर्देशानुसार शनिवार को सुबह 10 बजे से जिला मुख्यालय पर स्थित एडीआर सेंटर व सभी न्यायालयों में तथा पोकरण मुख्यालय में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। इसमें प्री-लिटिगेशन प्रकरणों तथा राजीनामा योग्य सभी प्रकरणों का निस्तारण किया गया। जिला व तालुका मुख्यालय पर राष्ट्रीय लोक अदालत के लिए कुल 8 बैंचें गठित की गईं।

जिला एवं सेशन न्यायाधीश आशुतोष कुमार, न्यायाधीश पारिवारिक न्यायालय अनीता शर्मा, सचिव शरद तंवर, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट मनोज मीना तथा न्यायिक मजिस्ट्रेट संध्या पूनिया ने की। पोकरण मुख्यालय पर अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश, पोकरण डाॅ. सूर्यप्रकाश पारीक, अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रिया टावरी तथा न्यायाधिकारी ग्राम न्यायालय सांकड़ा जितेंद्र कुमार की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन हुआ। लोक अदालत में सदस्य अधिवक्तागण स्वरूप सिंह तंवर, अरविंद कुमार गोपा, मदन सिंह सोढा, कंवराज सिंह राठौड़, गिरिराज पुरोहित, सुखराम विश्नोई, कूंपसिंह राठौड़, जसवंत दैया, ओमप्रकाश रंगा, महेश जोशी, मोहम्मद इकबाल तथा सामाजिक कार्यकर्ता मुकेश गज्जा, रामेश्वरी पुरोहित, बराईदीन सांवरा, सीमा तंवर, चंद्रप्रकाश व्यास ने भाग लिया। इन्होंने पक्षकारों के मध्य समझाइश कराते हुए तथा लोक अदालत के लाभ बताए व प्रकरणों के निस्तारण में सक्रिय सहयोग दिया।

शरद तंवर ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में बैंकों ने ऋणियों को ऋण की बकाया राशि व ब्याज में अधिकतम छूट का लाभ देते हुए लोक अदालत की भावना से प्रकरणों के निस्तारण में अपनी रुचि दिखाई। राष्ट्रीय लोक अदालत में न्यायालय में जाने से पूर्व ही निस्तारण हो जाने से बैंकों को न्यायालय में दावा लगाने के लिए कोर्ट फीस, वकील खर्चा नहीं करना पड़ा।

जैसलमेर. राष्ट्रीय लोक अदालत परिवेदनाएं सुनते अधिकारी।

भूमि संबंधित दीवानी विवाद का निस्तारण

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण जैसलमेर द्वारा आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में वरिष्ठ सिविल न्यायालय के पीठासीन न्यायाधीश मनोज मीणा के समक्ष पारिवारिक सदस्यों के मध्य भूमि संबंधित विचाराधीन दीवानी वाद को आपसी समझाइश द्वारा राजीनामा सुलह करके सुलझाया गया। वादी की तरफ से अधिवक्ता विमलेश पुरोहित तथा परिवादीगण के अधिवक्ता अरविंद कुमार गोपा द्वारा सहयोग प्रदान किया गया। लोक अदालत के सदस्य मदनसिंह सोढा व बराईदीन सांवरा उपस्थित रहे।

X
Jaisalmer News - rajasthan news national lok adalat set up 8 bands and settle resignable cases
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना