पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Jalore News Rajasthan News 6 Lakh 65 Thousand Children Will Be Fed The Medicine To Kill Insects In The Stomach

6 लाख 65 हजार बच्चों को पिलाई जाएगी पेट में कीड़े मारने की दवा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के द्वारा राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस का शुभारंभ बुधवार को सीएमएचओ डॉ. बीएल बिश्रोई ने बच्चों को एलबेंडाजॉल की गोली खिलाकर किया। शहर के प्रताप चौक स्थित राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में हुए शुभारंभ समारोह के मुख्य अतिथि सीएमएचओ डॉ. बीएल बिश्नोई ने कृमि मुक्ति दिवस का महत्व बताते हुए कहा कि पेट में कीड़े होने से बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास रूक जाता हंै। वहीं अध्ययन संबंधी कार्यों में मन भी नहीं लगता है। उन्होंने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से शिक्षा विभाग तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के सहयोग से एक से 19 साल तक के बच्चों को एलबेंडाजॉल की गोली देकर कृमि मुक्त करने के अभियान को सफल बनाने का आहवान किया। समारोह में उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एस.के. चौहान ने बताया कि विभाग की और से इस बार 6 लाख 65 हजार 099 बच्चों को स्कूल, कॉलेज तथा तकनीकी संस्थानों में व 1 लाख 93 हजार 927 बच्चों को आंगनबाड़ी केंद्रों पर एलबेंडाजॉल की दवा खिलाई जाएगी। इसके लिए विभाग की ओर से प्रशिक्षण भी दिया जा चुका है और तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। जिले में राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के प्रचार प्रसार के लिए विभिन्न आईईसी गतिविधियां की जा रही है। कार्यक्रम का संचालन जिला कार्यक्रम प्रबंधक चरणसिंह ने किया। इस अवसर पर स्कूल के प्राचार्या बसंती माथुर, बाल विकास अधिकारी अशोक विश्नोई, खंड मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. भजनलाल मौजूद रहे।

जालोर. राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर बालिकाओं को गोली खिलाते हुए।

प्रतियोगिताओं का हुआ आयोजन

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की और से शुभारंभ कार्यक्रम के दौरान स्कूल में विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इस दौरान मेहंदी, चित्रकला, कब्बडी, गुब्बारा फोड़ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें मेहंदी प्रतियोगिता में प्रथम रेणुका, द्वितीय फिरोजा, तृतीय पूजा, चित्रकला प्रतियोगिता में प्रथम गुडिय़ा, द्वितीय काजल, तृतीय कल्पना, गुब्बारा फोड प्रतियोगिता में प्रथम सरस्वती, द्वितीय युविका सिंह व तृतीय केशरनाथ रहे। इन्हे अतिथियों द्वारा पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।

खबरें और भी हैं...