• Home
  • Rajasthan News
  • Jhalawar News
  • प्रसूताओं को नहीं मिल रही एंटीबायटिक व कैल्शियम की दवा, बाजार से लाते हैं मरीज
--Advertisement--

प्रसूताओं को नहीं मिल रही एंटीबायटिक व कैल्शियम की दवा, बाजार से लाते हैं मरीज

जिला अस्पताल में अाेपीडी -2000 गायनिक विभाग ओपीडी- 300 भास्कर न्यूज| झालावाड़ प्रसूताओं के लिए एंटी बायटिक व...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:45 AM IST
जिला अस्पताल में अाेपीडी -2000

गायनिक विभाग ओपीडी- 300

भास्कर न्यूज| झालावाड़

प्रसूताओं के लिए एंटी बायटिक व कैल्शियम ये दोनों ही दवाइयां बहुत आवश्यक है, लेकिन ये दोनों ही दवाइयां अस्पताल के निशुल्क दवा काउंटरों पर मौजूद नहीं है। ऐसे में प्रतिदिन 300 मरीजों को बिना दवाइयों के निराश लौटना पड़ रहा है।

दवा काउंटर संचालकों का भी कहना है कि उन्होंने 10 दिन पहले सप्लाई के लिए अस्पताल के औषधी भंडार को सूचना दे रखी है, लेकिन उनके पास अभी तक यह दवाइयां नहीं पहुंची है। ऐसे में उनको भी मरीजों की खरी-खरी सुननी पड़ रही है। अस्पताल के काउंटरों पर 7 दिन से यह दवाइयां नहीं है। सबसे ज्यादा परेशानी सिजेरियन प्रसव वाली प्रसूताओं को आ रही है। उनको इंफेक्शन से बचाने के लिए एंटीबायटिक एमोक्सिक्लेब टेबलेट की आवश्यकता होती है, लेकिन उनको भी यह दवाइयां बाजार से खरीदना पड़ रही है। महंगी होने के कारण कुछ लोग इनको कम मात्रा में खरीद रहे हैं।

जिला औषधी भंडार से सप्लाई प्राप्त नहीं होने पर अस्पताल प्रशासन इन दवाइयों की लोकल खरीद भी नहीं कर रहा है। इससे पहले लोकल खरीद की गई थी, लेकिन वह भी खत्म हो गई है। इससे परेशानी बढ़ गई है। कैल्शियम टेबलेट नहीं आने से ऑर्थोपेडिक के मरीज भी परेशान है, उनको भी बाजार से दवाइयां खरीदनी पड़ रही है।

रोजाना 300 मरीज लाैटते हैं निराश, सात दिन से नहीं है दवाइयां

ये दवाइयां बहुत महंगी

निशुल्क दवा योजना के तहत मिलने वाली एमोक्सिक्लेब एंटीबायटिक टेबलेट मात्र छह गोली बाजार में 109 रुपए की मिलती है। सिजेरियन प्रसूताओं को डिस्चार्ज के समय तीन टेबलेट प्रतिदिन के हिसाब से 7 दिन की टेबलेट लिखी जाती है। इसी प्रकार त्वचा व फंगस रोग की टेबलेट भी बाजार भी 1200 रुपए तक की बताई जा रही है।

अस्थि विभाग में आने वाले मरीज भी हो रहे परेशान

कैल्शियम आयरन की दवाइयां नहीं होने से अस्थि विभाग ओपीडी में आने वाले मरीज भी परेशान है। अस्थि विभाग के निशुल्क दवा काउंटर पर प्रतिदिन 200 से 250 मरीज आते हैं, लेकिन उनको भी यह दवाइयां नहीं मिल रही है। मरीज आने पर उनकी पर्ची पर क्राॅस लगाकर उनको बाजार से खरीदने को कहा जा रहा है।

काउंटरों पर दवाइयां नहीं अस्पताल प्रशासन को जानकारी तक नहीं

अस्पताल में पिछले सात दिन से निशुल्क दवा काउंटरों पर छह प्रकार की दवाइयां मौजूद नहीं है। बड़ी संख्या में मरीज बिना दवाइयों के निराश लौट रहे हैं, लेकिन अस्पताल प्रशासन को इसकी जानकारी तक नहीं है। काउंटरों पर दवाइयां नहीं होने के बारे में अधिकारियों से जानकारी की गई तो उन्होंने बताया कि दवाइयां खत्म होने की उनको जानकारी नहीं है।

ये दवाइयां अस्पताल में नहीं

जानकारी के अनुसार अस्पताल के निशुल्क दवा काउंटरों पर एंटी बायटिक एमोक्सिक्लेव, कैल्शियम, नोजल ड्रॉप व त्वचा व फंगस रोग के लिए इट्राकोनाजोल, बीसी बी-कामप्लेक्स नहीं है।



इनको नहीं मिली दवाइयां