• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jhalawar
  • विधायक सरकारी योजनाएं बताने लगे तो ग्रामीण बोले-लाभ दिलाने के लिए अफसर-कर्मी Rs.10 हजार तक ले रहे
--Advertisement--

विधायक सरकारी योजनाएं बताने लगे तो ग्रामीण बोले-लाभ दिलाने के लिए अफसर-कर्मी Rs.10 हजार तक ले रहे

सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का ग्रामीणों को लाभ दिलाने की एवज में अधिकारियों व एजेंटोंं द्वारा 10 हजार रुपए तक...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:10 PM IST
विधायक सरकारी योजनाएं बताने लगे तो ग्रामीण बोले-लाभ दिलाने के लिए अफसर-कर्मी Rs.10 हजार तक ले रहे
सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का ग्रामीणों को लाभ दिलाने की एवज में अधिकारियों व एजेंटोंं द्वारा 10 हजार रुपए तक की अवैध वसूली की गई है। जिन लोगों ने रुपए दे दिए, उनको योजनाओं का लाभ मिल गया और जो रुपए नहीं दे सके वे आज तक विभागों के चक्कर लगा रहे हैं। अधिकारियों व एजेंटो की इस करतूत का खुलासा विधायक आपके द्वार कार्यक्रम में हुआ। ग्रामीणों ने विधायक कंवरलाल मीणा व एसडीएम सांवरमल रैगर को शिकायत करते हुए शपथ पत्र लिए कि उनसे योजना का लाभ दिलाने के लिए रुपए लिए गए। ये वसूली अलग-अलग योजना के हिसाब से की गई। करीब 50 ग्रामीणों ने रुपए लेने की बात कही।

विधायक आपके द्वारा कार्यक्रम के तहत मंगलवार को क्षेत्रीय विधायक व प्रशासनिक अमला उनके साथ मोहनपुरा गांव पहुंचे। यहां जनसुनवाई के दौरान विधायक ने ग्रामीणों को सरकार की जनकल्याण कारी योजनाओं के बारे में बताया तो ग्रामीणों ने सरकारी योजनाओं का लाभ लेने से मना कर दिया। कारण जानने पर ग्रामीणों ने बताया कि योजना में लाभ दिलाने की एवज में उनसे 1 हजार रुपए से लेकर 10 हजार रुपए तक लिए गए। ये उन्हें वापस दिलाए जाएं। इस पर विधायक व एसडीएम ने ग्रामीणों को मामले की जांच कराकर दोषी के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया।

मनोहरथाना. विधायक आपके द्वार अभियान के दौरान विधायक से शिकायत करते ग्रामीण।

ग्रामीणों ने शपथ पत्र देकर कहा-हमसे लिए रुपए

एसडीएम रैगर ने मामले को गंभीरता से लेते हुए ग्रामीणों से प्रार्थना पत्र व पैसे के लेनदेन को लेकर कार्मिकों के नाम-पते सहित शपथपत्र लिए। पूरे मामले की जांच कराने की बात कही। एसडीएम ने स्पष्ट कहा कि जांच में दोषी पाए जाने वाले के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।

इन योजनाओं में वसूली करने का आरोप

ग्रामीणों ने बताया कि सरकारी अधिकारियों व एजेंटों ने शौचालय निर्माण, प्रधानमंत्री अावास योजना, खाद्य सुरक्षा योजना सूची में नाम जोड़ने के लिए अलग-अलग योजना के हिसाब से एक हजार रुपए से लेकर 10 हजार रुपए तक वसूले हैं।


पीएम आवास, शौचालय निर्माण की किस्त के बदले रुपए लिए

1. ग्रामीण धुलीलाल तंवर ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ लेने के लिए 10 हजार रुपए सचिव को दिए, इसके बाद योजना का लाभ तो मिल गया, लेकिन तीसरी किस्त का भुगतान नहीं किया गया।

3. कंवरीबाई तंवर ने बताया कि मेड़बंदी के नाम पर 5 हजार रुपए सचिव रूपचन्द मीणा ने लिए। लेकिन, आज तक कोई राशि उसके खाते में नहीं डाली गई।


2. मोहनपुरा निवासी गौरीलाल ने बताया कि शौचालय निर्माण का भुगतान लेना था, इसके लिए डीलर, जनपद व सचिव तीनों ने एक-एक हजार रुपए ले लिए। अभी तक काम नहीं किया, अब रोज विभाग के चक्कर कटा रहे हैं।

4. मोहनपुरा गांव के ही मांगीलाल ने बताया कि उसको भी खाद्य सुरक्षा योजना सूची में नाम जुड़वाने की एवज में अधिकारियों ने 2 हजार रुपए ले लिए, लेकिन अभी तक नाम नहीं जुड़ा।

X
विधायक सरकारी योजनाएं बताने लगे तो ग्रामीण बोले-लाभ दिलाने के लिए अफसर-कर्मी Rs.10 हजार तक ले रहे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..