69 सरकारी कर्मचारी उठा रहे खाद्य सुरक्षा का लाभ, होगी वसूली

Jhalawar News - भवानीमंडी और चौमहला उपखंड में फर्जी तरीके से खाद्य सुरक्षा में नाम जुडवाकर इस योजना का लाभ लेने वाले सरकारी...

Feb 15, 2020, 07:31 AM IST

भवानीमंडी और चौमहला उपखंड में फर्जी तरीके से खाद्य सुरक्षा में नाम जुडवाकर इस योजना का लाभ लेने वाले सरकारी कर्मचारियों पर शुक्रवार को बड़ी कार्रवाई की गई है। ऐसे में 69 सरकारी कर्मचारियों के नाम सामने आए हैं जिनसे अब लाखों रुपए की वसूली की जाएगी।

इसमें 31 सरकारी कर्मचारी भवानीमंडी उपखंड में सामने आए हैं, जबकि 38 सरकारी कर्मचारी गंगधार उपखंड में शामिल हैं। इनमें से अधिक संख्या शिक्षकों की है।

खाद्य सुरक्षा योजना में अपात्र पाए गए 31 सरकारी कर्मचारियों से 2 लाख 66 हजार 580 रुपए वसूले जाएंगे।

भवानीमंडी. सरकारी कर्मचारियों के राशनकार्ड की जांच करने पर खाद्य सुरक्षा योजना में अपात्र पाए गए 31 सरकारी कर्मचारियों से अब 2 लाख 66 हजार 580 रुपए की वसूली होगी। एसडीएम राजेश डागा ने बताया कि भवानीमंडी उपखंड में शिक्षा विभाग के अन्य जिलों के कर्मचारियों के आधार कार्ड और भामाशाह कार्ड से राशन कार्डों की जांच की गई। इसमें राज्य सेवा में कार्यरत अध्यापकों और इनके माता पिता खाद्य सुरक्षा योजना का लाभ प्राप्त कर रहे हैं। इनका नाम इस योजना में दर्ज नहीं हो सकता। इनको नोटिस दिया गया है।कलेक्टर को भी पत्र लिखकर अपात्रों की वसूली की जाने वाली राशि की सूची भेज दी गई है। एसडीएम ने बताया कि खाद्य सुरक्षा योजना के राशन कार्ड में गलत तरीके से लाभ लेने वाले की सूची में पाए गए 31 सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कार्रवाई जारी है।

चौमहला. खाद्य सुरक्षा योजना में गलत तरीके से लाभ लेने के मामले में एसडीएम गंगधार ने शिक्षा विभाग से जुड़े 38 कर्मचारियों के नाम उजागर किए हैं। इनमें से 4 जिले के है व 34 अन्य जिलों के हैं जो इसी जिले में कार्यरत हैं।इन सभी की सूची अग्रिम करवाई के लिए कलेक्टर को दी गईं है।

गंगधार एसडीएम राजेश डागा ने बताया कि शिक्षा विभाग के कर्मचारियों के आधार कार्ड व भामाशाह कार्ड से राशन कार्डों की जांच करवाई तो जांच में 38 सरकारी कर्मचारी गलत तरीके से योजना का लाभ ले रहे थे। इनके नाम सामने आए हैं। नियमानुसार राज्य सेवा में नियुक्त होने के बाद कर्मचारी या उसके परिजन ,माता पिता राज्य सरकार की इस योजना का लाभ नहीं ले सकते हैं, लेकिन इन कर्मचारियों द्वारा इस योजना का लाभ लिया जा रहा है जो अवैध है।स्थानीय कर्मचारियों को नोटिस जारी कर योजना से नाम हटाए जा रहे है।अन्य जिले के निवासी जो इसी जिले में पदस्थापित हैं उनके बारे में उन जिलों के कलेक्टर्स को कार्रवाई के लिए लिखा गया है।

इस सूची में कागड़िया स्कूल के शिक्षक अरुण कुलहरि, मनोजकुमार, सौरभकुमार, बेडला स्कूल के शारीरिक शिक्षक राम अवतार धाकड़, सालरिया स्कूल के शिक्षक अंतिमकुमार मीणा, रेखा रघुवंशी, राजू सैनी, डोडी स्कूल के शिक्षक श्योदान सिंह, कमलेश सैनी, केलूखेड़ा स्कूल के शिक्षक विजयकुमार, सुरेंद्र, लालसिंह, दोबड़ा स्कूल के शिक्षक ओम राज मीणा, अनिलकुमार वर्मा, छान स्कूल के शारीरिक शिक्षक सुरेश चंद्र, घाटी स्कूल के सीताराम मीणा, गुराड़िया झाला स्कूल के मुकेश चंद मीणा, रावतपुरा स्कूल की पूजा राठौर, सेमली सरोद स्कूल के शिक्षक संजय, मकोडिया स्कूल के शिक्षक धर्मराज मीना, हरमीतसिंह, विशालसिंह, राजेश, भड़का स्कूल के शिक्षक महेंद्रसिंह, मनीषकुमार, बनखेड़ी स्कूल के शिक्षक दिनेशकुमार भील, सतीशकुमार राठौर, कुंडला स्कूल के विजयसिंह मीणा, रामकल्याण लौहार, खेजड़िया स्कूल के शिक्षक रिषीपाल, बंजारों का खेड़ा स्कूल के ब्रजेशकुमार, रावन गुरडी स्कूल के शिक्षक गिरधारी, सिंधला स्कूल के राजेंद्रप्रसाद, राति खेड़ी स्कूल के शिक्षक हरिमोहन सैनी, सुभाषचंद, सोमचडी स्कूल के सोनू अंसारी, डोकरी खेड़ी स्कूल के राजकुमार रेगर के नाम है। इन सभी के नाम हटाने की कारवाई की जा रही है।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना