• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jhalawar
  • Bhawani mandi News rajasthan news the husband and wife living separately for 10 years have been resigned by lok adalat

10 साल से अलग रह रहे पति-पत्नी को लोक अदालत ने राजीनामा कर मिलवाया

Jhalawar News - अदालत परिसर में शनिवार को न्याय कार्य के साथ पौधरोपण प्रेम भी दिखाई दिया। एडीजे डाॅ. प्रभातकुमार अग्रवाल ने...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:30 AM IST
Bhawani mandi News - rajasthan news the husband and wife living separately for 10 years have been resigned by lok adalat
अदालत परिसर में शनिवार को न्याय कार्य के साथ पौधरोपण प्रेम भी दिखाई दिया। एडीजे डाॅ. प्रभातकुमार अग्रवाल ने पौधरोपण कर, राष्ट्रीय लोक अदालत की शुरुआत की। इसमें राजीनामा योग्य प्रकरणों का निस्तारण किया गया। इसमें दस साल से अलग रह रहे पति-प|ी के मध्य भी समझौता करवाया गया।

मिश्रौली के पास खारपा निवासी भैरूलाल मेहर 25 और सुनेल की सपना 22 शादी के बाद से पारिवारिक मन मुटाव से अलग-अलग रह रहे थे। एडीजे अग्रवाल के सामने मामला सामने आने पर उन्होंने दोनों पक्षों की समझाइश करवाकर एक साथ रहने को राजी किया। दोनों अदालत में अलग-अलग ही आए थे, लेकिन समझौते के बाद हमेशा के लिए एक साथ रहने के लिए खुशी-खुशी रवाना हो गए। रुपए लेन-देन के कुल 168 प्रकरणों का निस्तारण किया जाकर राशि 1 करोड़, 87 लाख 12,089 रुपए के समझौते करवाए गए। जिनमें एमएसीटी एक्ट के तहत 11 प्रकरणों का निस्तारण कर, 42 लाख 34,500 रुपए का पक्षकारों में समझौता करवाया गया। फौजदारी के 8 प्रकरण, दीवानी के 40 प्रकरण, 138 एनआई एक्ट के 38 प्रकरणों का निस्तारण किया जाकर 87 लाख 39, 389 रुपए का पक्षकारों में समझौता करवाया गया। इसी तरह प्रीलिटिगेशन के 29 प्रकरणों में बैंकों के 13 लाख 95,300 रुपए वसूल करवाए गए। इसके साथ ही 10 वर्ष पुराने 2 एमएसीटी प्रकरण, एवं 05 वर्ष पुराने 01 एमएसीटी प्रकरण, 12 दीवानी प्रकरण तथा 06 एनआई एक्ट के प्रकरणों का निस्तारण किया गया। इसके लिए आज तीन बैंच का गठन किया गया था। जिसमें एडीजे डाॅ. प्रभात अग्रवाल, एसीजेएम मोहनलाल जाट व रचना वैष्णव की अध्यक्षता में लोक अदालत में पक्षकारों के मध्य राजीनामे करवाए गए। इस अवसर पर पचपहाड़ तहसीलदार बालचंद मीणा, अभिभाषक अध्यक्ष विधानचन्द्र, लोक अभियोजक लोकेश गुप्ता, वकील कैलाश जैन, विमल नाहर, विकास पाटीदार, हरीश खण्डेलवाल, रमेशचंद नागर मौजूद थे।

भवानीमंडी. राष्ट्रीय लोक अदालत शिविर में एडीजे अग्रवाल सुनवाई करते हुए।

दो बच्चों के माता-पिता साथ रहने को राजी

चौमहला. राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार शनिवार को न्यायालय परिसर में अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट मोहम्मद आजम खान की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। जिसमें राजीनामे से 43 प्रकरणों का निस्तारण किया गया।

लोक अदालत में 2 वर्ष से अलग रह रहे पति-प|ी ने वापस साथ रहने का निर्णय लिया। इसमें बिलावली का खेड़ा निवासी विष्णु बाई व पति दिलीप सिंह निवासी निपानिया कालू 2 वर्ष से अलग अलग रह रहे थे इन दोनों के दो बच्चे भी हैं। लोक अदालत में दोनों ने एक साथ रहने के लिए राजी हाे गए। उनकाे फूल माला पहनाई गई। लोक अदालत में 138 एनआई एक्ट में 6,47320 की समझौता राशि के अवार्ड जारी किए गए। साथ ही बैंकों के अठारह लाख से अधिक की राशि के राजीनामे स्वीकार किए गए। लोक अदालत के दौरान पौधरोपण भी किया गया। वकील रतनलाल राठौर, सलामत अली फौजदार, अभियोजन अधिकारी रमेश कुमार अटल, बार संघ अध्यक्ष लियाकत अली, सचिव दीपक प्रजापति, रामचंद्र सिंह झाला, मानसिंह परमार, असग़र अली, राजेंद्र छानवाल, भैरूलाल राठौऱ, लोकेश त्रिवेदी, हरीश भंडारी, एहसान मोहमद, कार्यालय कर्मचारी नरेंद्र बारागामा, विवेक डोंगरा, शुभम सिंघल, रामकिशन, मनोज नकवाल का सहयोग रहा।

भास्कर न्यूज | भवानीमंडी

अदालत परिसर में शनिवार को न्याय कार्य के साथ पौधरोपण प्रेम भी दिखाई दिया। एडीजे डाॅ. प्रभातकुमार अग्रवाल ने पौधरोपण कर, राष्ट्रीय लोक अदालत की शुरुआत की। इसमें राजीनामा योग्य प्रकरणों का निस्तारण किया गया। इसमें दस साल से अलग रह रहे पति-प|ी के मध्य भी समझौता करवाया गया।

मिश्रौली के पास खारपा निवासी भैरूलाल मेहर 25 और सुनेल की सपना 22 शादी के बाद से पारिवारिक मन मुटाव से अलग-अलग रह रहे थे। एडीजे अग्रवाल के सामने मामला सामने आने पर उन्होंने दोनों पक्षों की समझाइश करवाकर एक साथ रहने को राजी किया। दोनों अदालत में अलग-अलग ही आए थे, लेकिन समझौते के बाद हमेशा के लिए एक साथ रहने के लिए खुशी-खुशी रवाना हो गए। रुपए लेन-देन के कुल 168 प्रकरणों का निस्तारण किया जाकर राशि 1 करोड़, 87 लाख 12,089 रुपए के समझौते करवाए गए। जिनमें एमएसीटी एक्ट के तहत 11 प्रकरणों का निस्तारण कर, 42 लाख 34,500 रुपए का पक्षकारों में समझौता करवाया गया। फौजदारी के 8 प्रकरण, दीवानी के 40 प्रकरण, 138 एनआई एक्ट के 38 प्रकरणों का निस्तारण किया जाकर 87 लाख 39, 389 रुपए का पक्षकारों में समझौता करवाया गया। इसी तरह प्रीलिटिगेशन के 29 प्रकरणों में बैंकों के 13 लाख 95,300 रुपए वसूल करवाए गए। इसके साथ ही 10 वर्ष पुराने 2 एमएसीटी प्रकरण, एवं 05 वर्ष पुराने 01 एमएसीटी प्रकरण, 12 दीवानी प्रकरण तथा 06 एनआई एक्ट के प्रकरणों का निस्तारण किया गया। इसके लिए आज तीन बैंच का गठन किया गया था। जिसमें एडीजे डाॅ. प्रभात अग्रवाल, एसीजेएम मोहनलाल जाट व रचना वैष्णव की अध्यक्षता में लोक अदालत में पक्षकारों के मध्य राजीनामे करवाए गए। इस अवसर पर पचपहाड़ तहसीलदार बालचंद मीणा, अभिभाषक अध्यक्ष विधानचन्द्र, लोक अभियोजक लोकेश गुप्ता, वकील कैलाश जैन, विमल नाहर, विकास पाटीदार, हरीश खण्डेलवाल, रमेशचंद नागर मौजूद थे।

अकलेरा में 133 लंबित मामले निबटाए

अकलेरा. माननीय राल्सा एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार तालुका विधिक सेवा समिति अकलेरा एवं मनोहरथाना मुख्यालय पर शनिवार को सभी प्रकृति के लम्बित एवं प्री-लिटिगेशन विवादों के निस्तारण हेतु वर्ष 2019 हेतु द्वितीय राष्ट्रीय लेाक अदालत का आयोजन किया गया।

इससे पूर्व माननीय रालसा के ही निर्देश पर न्यायालय परिसर में पौधरोपण किया गया। जिसमें अपर जिला एवं सैशन न्यायाधीश असीम कुलश्रेष्ठ, वरिष्ठ सिविल न्यायाधीश, विनोद कुमार बैरवा, सिविल न्यायाधीश राजवीर कौर, अभिभाषक परिषद के अध्यक्ष रामावतार गुप्ता तथा अधिवक्ताओं व न्यायिक कर्मचारियों ने मिलकर पीपल, शीशम, शहतूत आदि छायादार पौधे लगाए गए। लोक अदालत में न्यायालयों में लम्बित व बैंक लोन आदि प्री-लिटिगेशन संबंधी कुल 133 प्रकरणों का निस्तारण किया गया। इनमें एमएसीटी के 42 प्रकरण अवार्ड राशि 21619085 रुपए, आपराधिक प्रकृति के 47 प्रकरण, 138 एनआई एक्ट के 16 प्रकरण अवार्ड राशि 2671325 रुपए, पारिवारिक विवाद संबंधी 23 प्रकरण, अन्य सिविल मामलों के 5 प्रकरण एवं प्री-लिटिगेशन स्तर के 6 प्रकरण समझौता राशि 75600 रुपए सम्मिलित हैं।

लोक अदालत ने मिलाया पति-प|ि को: करीब 4 साल पुराने प्रकरण में प्रार्थी सारोलाकलां निवासी जीतेन्द्र जोशी ने आपसी मन मुटाव के चलते अपनी प|ी ज्योति से तलाक के लिए न्यायालय में अर्जी दाखिल की थी। सुनवाई के दौरान न्यायालय ने अपने स्तर पर दोनों पक्षों में समझाइश के प्रयास भी किए अन्ततः दोनों पक्ष आज राष्ट्रीय लोक अदालत में उपस्थित होकर आपसी मन मुटाव दर किनार करते हुए भविष्य में एक दूसरे के साथ एक ही छत की नीचे रहने को राजी हो गए। जिसके साथ ही एक घर टूटने से बच गया। यह जानकारी सचिव विनोद कुमार गौड़ ने प्रदान की।

खानपुर में 90 प्रकरणों का निस्तारण

खानपुर.
राजस्थान व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण झालावाड़ के निर्देशों की अनुपालना में न्यायिक मजिस्ट्रेट आशीष मीणा की अध्यक्षता में कार्यालय ताल्लुका विधिक सेवा समिति खानपुर पर शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत में 90 प्रकरणों का निस्तारण कर 12 लाख 96 हजार 139 रुपए की वसूली की गई। सचिव राशिद खान ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में फौजदारी 14 प्रकरण, धारा 138 के 51 प्रकरण, वैवाहिक 15 प्रकरण, दीवानी मामलों 9 प्रकरण, बैंक रिकवरी 1 प्रकरण का निस्तारण कर 12 लाख 96 हजार 139 रुपए की समिति द्वारा वसूली की गई।

Bhawani mandi News - rajasthan news the husband and wife living separately for 10 years have been resigned by lok adalat
Bhawani mandi News - rajasthan news the husband and wife living separately for 10 years have been resigned by lok adalat
X
Bhawani mandi News - rajasthan news the husband and wife living separately for 10 years have been resigned by lok adalat
Bhawani mandi News - rajasthan news the husband and wife living separately for 10 years have been resigned by lok adalat
Bhawani mandi News - rajasthan news the husband and wife living separately for 10 years have been resigned by lok adalat
COMMENT