Hindi News »Rajasthan »Jhunjhunu» सेमिनार में युवाओं को बताए सेना में भर्ती होने के टिप्स

सेमिनार में युवाओं को बताए सेना में भर्ती होने के टिप्स

भास्कर संवाददाता | झुंझुनूं सैनिक एकेडमी झुंंझुनूं की ओर से नगर परिषद के सामने स्थित परिसर में सेना में जाने के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 03:45 AM IST

सेमिनार में युवाओं को बताए सेना में भर्ती होने के टिप्स
भास्कर संवाददाता | झुंझुनूं

सैनिक एकेडमी झुंंझुनूं की ओर से नगर परिषद के सामने स्थित परिसर में सेना में जाने के इच्छुक युवाओं के लिए मोटिवेशनल सेमिनार हुआ। इसमें बड़ी संख्या में युवाओें ने भाग लिया। एकेडमी के चेयरमैन डॉ. मुकेश एस. मूंड ने युवाओं से संवाद करते हुए सेना में भर्ती के लिए टिप्स दिए। उन्होंने बताया कि किसी भी सफलता के लिए धुन और संकल्प सबसे महत्वपूर्ण होता है। सेना भर्ती में पारदर्शिता के बावजूद लोग दलालों के चंगुल में फंस कर अपनी पूंजी खो देते हैं। कई बार अपमान का कड़वा घूंट भी पीना पड़ता है।

डॉ. मूंड ने कहा कि उनके पिता सेना में रहे। परिवार के अनेक सदस्य सेना में पहुंचे, यही सकारात्मक सोच सैनिक एकेडमी की स्थापना का कारण बनी। उन्होंने कहा कि प्रतिभा ही पहचान दिलाती है। सैनिक एकेडमी में अनुशासन, स्थाई फैकल्टी तथा गुणवत्ता युक्त शिक्षण सामग्री, शांत और सुरक्षित माहौल सफलता की निशानी है। शिक्षण सामग्री स्वयं तैयार करते हैं। स्थाई व अनुभवी फैकल्टी द्वारा कराया गया अध्यापन, चयनित अध्ययन सामग्री, प्रेक्टिस पेपर व आपकी लगन व दृढ़ इच्छा शक्ति ही चयन करवा सकती है। गणित, मानसिक योग्यता व सामान्य विज्ञान वे स्वयं पढ़ाते हैं। उत्तम आवास, भोजन के साथ ही सबसे बड़ी बात अनुशासन की है। रुपए लेकर पेपर उपलब्ध करवाना, मेडिकल अनफिट को फिट करवाना व उन्हें बहलाना अनुचित है। मूंड ने कहा कि शेखावाटी में ऐसा कोई गांव नहीं है जहां से सैनिक एकेडमी झुंझुनूं से सलेक्शन नहीं हुए हों। अनेक परिवार ऐसे हैं भी हैं, जिनमें दो या दो से अधिक सलेक्शन हुए हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |
Web Title: सेमिनार में युवाओं को बताए सेना में भर्ती होने के टिप्स
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Jhunjhunu

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×