--Advertisement--

आखिरी दिन ऑफिस में TIME पर पहुंचने का इंजीनियर ने निकाला यह तरीका

यह हैं झुंझनू जिले के पिलानी के रहने वाले रूपेश कुमार वर्मा। ये बेंगलुरु में सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं।

Danik Bhaskar | Jun 16, 2018, 01:35 PM IST

झुंझनू, राजस्थान। कोई भी मैसेज तभी सार्थक है, जब वो ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे। इसके लिए लोग कई तौर-तरीके अपनाते हैं। ये महाशय इस तरह का आइडिया लेकर आए। ऑफिस के आखिरी दिन ये घोड़े पर सवार होकर पहुंचे। देखते ही वे सोशल मीडिया पर छा गए। उनका मकसद लोगों में ट्रैफिक प्रॉब्लम को लेकर जागरुक करना था।

- यह हैं झुंझनू जिले के पिलानी गांव के रहने वाले रूपेश कुमार वर्मा। ये बेंगलुरु में सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। 14 जून को इनका ऑफिस में आखिरी दिन था। आमतौर पर ऑफिस का आखिरी दिन यादगार बनाने के लिए लोग पार्टी वगैरह देते हैं, लेकिन इन्होंने कुछ अलग तरह का आइडिया निकाला।
- रूपेश घोड़े पर बैठकर ऑफिस पहुंचे। उन्होंने एक बोर्ड भी लटका रखा था। जिसपर लिखा था- 'सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में आखिरी दिन।'

- रूपेश फॉर्मल ड्रेस पहनकर घोड़े पर बैठे हुए थे। हालांकि वे इसे ट्रैफिक प्रॉब्लम से जोड़कर देखते हैं। वे कहते हैं कि ट्रैफिक प्रॉब्लम के कारण लोगों का कीमती समय बर्बाद होता है। लोग इस प्रॉब्लम का मिलकर सोल्यूशन खोजें।
- रूपेश के घर से ऑफिस की दूरी करीब 10 किमी है। वे सुबह 7 बजे घर से निकले और दोपहर 2 बजे ऑफिस पहुंचे। रूपेश पहले आर्मी में जाना चाहते थे, लेकिन सॉफ्टवेयर इंजीनियर बन गए। अब वे खुद का स्टार्टअप शुरू करेंगे।

Related Stories

Related Stories