15 साल से बच्चियों को कोख में मार रहा 9वीं पास शख्स, पत्नी को भी सिखाया यह घिनौना काम, आरोपी 4 बार जेल भी गया, बाहर आकर फिर करने लगा वही काम

खुद को बताता डॉक्टर, पत्नी नर्स की तरह रहती, 15 जिलों में बना रखा है अपना नेटवर्क, बना रखा है आलीशान बंगला 

Bhaskar News

Apr 14, 2019, 02:30 PM IST
Jhunjhunu Rajasthan News in Hindi Virgo murder case

झुंझुनूं (राजस्थान)। कन्या भ्रूण हत्या के मामलों में प्रदेश में एक और आरोपी को हिस्ट्रीशीटर घोषित किया गया है। पुलिस ने झुंझुनूं जिले के सिंघाना निवासी रवि सिंह को हिस्ट्रीशीटर घोषित किया है। इन मामलों में वह चार बार गिरफ्तार हुआ और हर बार जेल से बाहर आने के बाद इसी धंधे में वापस लग गया। उसे सिंघाना थाने का हिस्ट्रीशीटर घोषित किया गया है। यह अभी हाईकोर्ट से जमानत पर रिहा है।

एसपी गौरव यादव ने बताया कि पीसीपीएनडीटी सैल के राज्य समुचित प्राद्यिकारी डॉ.समित शर्मा और जिला पीसीपीएनडीटी सैल के जिला समुचित प्राद्यिकारी रवि जैन की सिफारिश पर उसे इस लिस्ट में डाला गया है। इसके बाद पुलिस उस पर लगातार नजर रख सकेगी। रविसिंह 2004 से इस धंधे में लगा है और जैसे-जैसे वह पैसा कमाता गया। वह अपने साथ कई लोगों को जोड़ता गया। स्थिति यह हो गई कि उसके लोग सोनोग्राफी मशीन खरीदकर हर छोटे से छोटे गांव में अवैध सेंटर चलाने लगे। पीसीपीएनडीटी ब्यूरो के अनुसार लोगों को उस पर इतना भरोसा था कि जो रिपोर्ट वह देता उसे ही वे सही मान लेते। इससे पहले जोधपुर निवासी बालेसर के पूर्व बीसीएमओ डॉ. इम्तियाज को प्रदेश का पहला हिस्ट्रीशीटर घोषित किया गया था।

ब्यूरो के अनुसार रविसिंह अपने इस काम में इतना माहिर हो गया कि वह दिन रात इसी में लगा रहता। उसे जैसे पैसे का नशा सा हो गया। पीसीपीएनडीटी ब्यूरो के अनुसार रविसिंह जब भी जेल से बाहर आता वह नई मशीन खरीद कर वापस इसी धंधे में लग जाता। एक केस के वह 40 से 70 हजार रुपए लेता। जिसमें 30 से 50 हजार रुपए में लिंग जांच करता और औसतन 20 हजार रुपए में गर्भपात करवाता।

खुद को डॉक्टर बताता, पत्नी नर्स की तरह रहती, 15 जिलों में बना रखा है अपना नेटवर्क, सिंघाना में आलीशान बंगला
रवि सिंह केवल नौंवी पास है, लेकिन 15 साल में उसने अपना ऐसा नेटवर्क बनाया कि बेटियों को कोख में मारने की इच्छा रखने वाले लोग इसके पास चले आते। वह खुद को किसी डॉक्टर की तरह पेश करता। इस तरह से रहता कि किसी को शक तक ना हो। पत्नी सुमनसिंह को भी उसने यह काम सीखा दिया। जो नर्स की तरह उसके काम में मदद करती। इसने करीब 15 जिलों में अपना नेटवर्क बनाया।

दो प्रमुख सहयोगी, उनका भी बड़ा नेटवर्क : रवि सिंह के दो प्रमुख सहयोगी हैं। अवधेश पांडे और हनुमानसिंह। अवधेश पांडे पर पीसीपीएनडीटी के अभी तक 4 केस दर्ज हो चुके हैं। अवधेश पाण्डे पिछले दिनों महेन्द्र चौधरी के साथ खेतड़ी में लिंग जांच करते हुए पाया गया था, लेकिन जब टीम वहां पहुंची तो वह अवैध सोनोग्राफी मशीन को मौके पर ही छोडक़र भागने में सफल हो गया था। बताया जा रहा है कि इन दोनों को भी बड़ा नेटवर्क है।

कब-कब गया जेल में...
23 अक्टूबर 2015 : पहली बार यह 23 अक्टूबर 2015 में लिंग जांच के आरोप में पकड़ा गया। खेतड़ी स्थित श्री ओम डायग्नोस्टिक सेंटर से इसे पकड़ा। इसका साथी अवधेश पांडे भी शामिल था।
19 अप्रैल 2016 : बिसाऊ में पकड़ा गया। एलएचवी भानूमती, एएनएम सुनीता व गंगा के साथ वाहन चालक पवन व सहयोगी सुमेर व राजकुमार को भी पीसीपीएनडीटी एक्ट में आरोपी बनाया।
11 जून 2017 : खेतड़ी के बबाई कस्बे में लिंग जांच करते पकड़ा। कार्रवाई में रविसिंह, मुख्य सहयोगी सुमेर सिंह, राजेन्द्रसिंह व संदीप कुमार को भी गिरफ्तार किया गया।
14 अगस्त 2018 : अंतिम बार झुंझुनूं के सोलाना गांव में गिरफ्तार हुआ। कार्रवाई में रवि सिंह के साथ ही सुनिल कुमार व फुलपति को लिंग जांच के आरोप में पकड़ा गया था।

बेहिसाब संपत्ति, इसके बावजूद लालच थमा नहीं : पीसीपीएनडीटी ब्यूरो के मुताबिक रविसिंह का सिंघाना में आलीशान बंगला है। इसके अलावा जयपुर में एक कपड़ा फैक्ट्री है। बीकानेर में करीब 25 हैक्टेयर जमीन और मकान है। चार गाड़ियां हैं। इसके अलावा कई जिलों में उसके नाम से या रिश्तेदारों के नाम पर करोड़ों की संपत्ति है। इसके बावजूद वह एक के बाद एक मामलों में गर्भपात करवाता रहा है। पैसों के लालच में रवि सिंह कन्या भ्रूण हत्या जैसा अपराध भी बड़ी आसानी से कर देता है। उसे ना तो पुलिस का खौफ है और ना ही किसी की जान जाने का। जिस आदमी का मेडिकल साइंस से दूर-दूर तक नाता नहीं। वह एक दिन में कम से कम 7-8 गर्भवती महिलाओं की जांच कर गर्भपात करवाता है।

X
Jhunjhunu Rajasthan News in Hindi Virgo murder case
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना