• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jhunjhunu
  • Jhunjhunu News rajasthan news apart from the social evils education has promoted as a result that from the military services to the administrative and judicial sector

सामाजिक कुरीतियों को छोड़कर शिक्षा को बढ़ावा दिया, नतीजा यह कि सैन्य सेवाओं से लेकर प्रशासनिक और न्यायिक क्षेत्र में आगे बढ़ा समाज

Jhunjhunu News - भास्कर संवाददाता | झुंझुनूं जिले में कायमखानी समाज आज दादा नवाब कायम खां की शहादत की याद में कायमखानी दिवस...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:45 AM IST
Jhunjhunu News - rajasthan news apart from the social evils education has promoted as a result that from the military services to the administrative and judicial sector
भास्कर संवाददाता | झुंझुनूं

जिले में कायमखानी समाज आज दादा नवाब कायम खां की शहादत की याद में कायमखानी दिवस मनाएगा। उनकी शहादत 600 साल पहले हुई थी। कार्यक्रम में सामाजिक कुरीतियों को छोड़ कर समाज को आगे बढ़ाने, शिक्षा का अधिकाधिक प्रचार करने और युवाओं के उच्च सेवा क्षेत्रों में अवसरों पर चर्चा भी की जाएगी। दरअसल, कायमखानी समाज ने शुरुआत से ही शिक्षा पर जोर दिया जिससे समाज के युवा भारतीय प्रशासनिक सेवा, न्यायिक सेवा और राजस्थान प्रशासनिक सेवा के क्षेत्र में आगे बढ़ रहे हैं। े कई ऐसे लोग हैं जो अब वे युवाओं को प्रेरित करते हैं। गुरुवार को कायमखानी दिवस पर सवेरे साढ़े आठ बजे धनूरी में पौधरोपण का कार्यक्रम होगा। इसके बाद सवेरे 11 बजे झुंझुनूं स्थित खेतड़ी महल में कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। परवेज धनूरी ने बताया कि इसमें सामाजिक विकास पर चर्चा की जाएगी। इसके बाद समाज के छात्रावास की जमीन के आवंटन को लेकर कलेक्टर को ज्ञापन देंगे।

उच्च सेवाओं में बेटियां भी आगे : वैसे तो समाज के कई ऐसे चेहरे हैं जो भारतीय प्रशासनिक सेवा से लेकर राजस्थान प्रशासनिक सेवा और न्यायिक सेवा में महत्वपूर्ण पदों पर हैं, लेकिन समाज की बेटियों ने भी अलग पहचान बनाई है। जिले के अकेले नूआं गांव की कई बेटियां इसमें आगे हैं। गांव की प्रवीण बानो न्यायिक सेवा में हैं तो फराह खान इनकम टैक्स में डिप्टी कमिश्नर हैं। इशरत जहां कर्नल हैं। सीगड़ी की शबाना खान वैज्ञानिक हैं।

शिक्षा के सहारे इस तरह आगे बढ़ा समाज : पूरे देश में इस समाज की आबादी करीब 22 लाख है और इनमें से 99 प्रतिशत आबादी झुंझुनूं, सीकर, चूरू और नागौर समेत राजस्थान के अन्य जिलों में रहती है। समाज ने शुरुआत से ही शिक्षा पर जोर दिया। समाज में मृत्यु भोज, दहेज प्रथा जैसी कुरीतियों पर भी रोक लगी। राजस्थान में समाज के आठ छात्रावास हैं। राजस्थान कायमखानी महासभा के संयोजक कर्नल शौकत खान बताते हैं कि समाज हमेशा से भाईचारे को बढ़ावा देता आया है। आज समाज की कई प्रतिभाएं महत्वपूर्ण क्षेत्रों में कार्यरत हैं।

सबसे अधिक सैन्य सेवाओं में, समाज को इन पर गर्व





शौर्य की कहानियां पाठ्यक्रम में शामिल की मांग: समाज की ओर से शिक्षा मंत्री से मिल कर कैप्टन अयूब खान और मेजर एमएच खान के शौर्य की कहानियां पाठ्य पुस्तकों में शामिल करने की मांग की गई है। समाज के शिक्षा मंत्री को बताया गया कि ये दोनों ही अदम्य साहस के धनी थे। इन्होंने शौर्य की बदौलत दुश्मन को परास्त किया। इनकी कहानी पाठ्यक्रम में शामिल होनी चाहिए।

शिक्षा ही सबसे बड़ी पहचान : समाज ने शिक्षा को ही अपनी सबसे बड़ी पहचान बनाया है। यही कारण है कि आज इस समाज के युवा बेहतरीन अवसर प्राप्त कर रहे हैं। बेटियां भी विभिन्न उच्च सेवा क्षेत्रों में आगे बढ़ी हैं। -कर्नल शौकत खां, पीआरओ, बिड़ला इंस्टीट्यूट

सैन्य सेवाओं में दिखाया पराक्रम : समाज के युवाओं ने सैन्य सेवाओं में पराक्रम दिखाया है। प्रथम विश्व युद्ध से ही समाज के लोग इस सेवा से जुड़ते रहे। कई परिवार हैं जिनकी चार पांच पीढिय़ां सेना से जुड़ी हुई हैं। -कैप्टन लियाकत खान, किडवाना

Jhunjhunu News - rajasthan news apart from the social evils education has promoted as a result that from the military services to the administrative and judicial sector
X
Jhunjhunu News - rajasthan news apart from the social evils education has promoted as a result that from the military services to the administrative and judicial sector
Jhunjhunu News - rajasthan news apart from the social evils education has promoted as a result that from the military services to the administrative and judicial sector
COMMENT