पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Udaipurwati News Rajasthan News Babulal Who Tried To Self Determination By Hurting Himself For Breaking The House After Assuming Encroachment In The Juga Broke His Fifth Day

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गुड़ा में अतिक्रमण मानकर मकान तोड़ने की बात से आहत होकर आत्मदाह का प्रयास करने वाले बाबूलाल ने पाचवें दिन दम तोड़ा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गुड़ा ढहर में पहाड़ी के निकट ढाणी घाटी वाली में रविवार को वन विभाग की कार्रवाई के विरोध में आत्मदाह का प्रयास करने वाले बाबूलाल सैनी ने गुरुवार रात करीब सवा सात बजे जयपुर के एसएमएस अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इससे कुछ देर पहले ही एडीएम राजेंद्र अग्रवाल ने एसएमएस अस्पताल पहुंचकर उसकी कुशलक्षेम पूछी थी। उन्हें भी बाबूलाल की मौत की सूचना झुंझुनूं पहुंचने पर मिली। अग्रवाल ने कहा कि बाबूलाल के भाई ने उसका उपचार ठीक से करवाने का आग्रह किया, जिस पर उन्होंने अस्पताल के चिकित्सकों को निर्देश दिए। रविवार को सुबह वन विभाग की टीम तथा राजस्व के पटवारी ने गुड़ा ढहर के निकट ढाणी घाटी वाली में संयुक्त सर्वे किया था। उसके बाद वहां निर्माणाधीन मकान को अतिक्रमण मानते हुए कार्रवाई को आगे बढ़ाने लगे तो इसी दौरान पीड़ित बाबूलाल सैनी ने वन विभाग की टीम का विरोध करते हुए अपने शरीर पर तेल छिड़क कर आग लगा ली थी।

बाबूलाल को जलते हुए छोड़ कर वन विभाग के रेंजर सहित पूरी टीम वहां से गाड़ियों में बैठ कर भाग गई। बाबूलाल के परिजनों ने उसकी आग बुझा कर पहले पौंख सीएचसी पहुंचाया था। वहां से झुंझुनूं रेफर कर दिया गया। वहां उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसे तुरंत जयपुर रैफर कर दिया गया था। जयपुर में इलाज के दौरान गुरुवार रात सवा सात बजे एसएमएस अस्पताल के बर्न यूनिट में उसने दम तोड़ दिया। इस मामले में वन विभाग रेंजर श्रवण बाजिया सहित तीन जनों को एपीओ कर दिया गया था।

बाबूलाल सैनी

ये है वो तस्वीर जिसमें आग की लपटों में घिरे बाबूलाल को बचाने की बजाय भाग रहे हैं वनकर्मी

6 जुलाई को नोटिस चश्पा किया और अगले ही दिन तोड़ने पहुंच गए थे

विवाद बढ़ने पर बोले थे अफसर-अतिक्रमण हटाने नहीं वे तो सीमाज्ञान कराने गए थे

गुड़ा गांव की ढाणी घाटी में पहाड़ी के पास ग्यारसीलाल सैनी के तीन पुत्र प्रकाश, माेतीलाल व बाबूलाल सैनी ने मकान बना रखे हैं। सात जुलाई को सुबह करीब सात बजे वन विभाग के रेंजर श्रवण कुमार बाजिया के नेतृत्व में टीम इनके यहां पहुंची। टीम ने एक माह पहले प्रकाश सैनी काे अतिक्रमी माना था। सहायक वन संरक्षक कोर्ट में मामला था। कोर्ट के निर्देशों पर एक दिन पहले ही यानी छह जुलाई को बाबूलाल के भाई प्रकाश के यहां नोटिस चस्पा किया था। रविवार को फिर टीम पहुंच गई थी। अतिक्रमण तोड़ने की बात से आहत होकर बाबूलाल ने आत्मदाह का प्रयास किया था। लपटों से घिरा हुआ बाहर खड़े वन विभाग के रेंजर श्रवणकुमार बाजिया की तरफ दौड़ा और उन्हें पकड़ लिया। रेंजर बाजिया ने युवक को धक्का देकर खुद को छुड़वाया और उसे जलता हुआ छोड़कर पूरी टीम वहां से भाग गई थी। विवाद बढ़ने के बाद अधिकारी बोले थे कि वे तो सीमाज्ञान कराने गए थे।

पीड़ित ने रेंजर को भी पकड़ लिया था, इसके बावजूद किसी ने भी आग बुझाने का प्रयास नहीं किया। (फाइल फोटो)

आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज कराया था भाई ने

मोतीलाल पुत्र ग्यारसीलाल ने रिपोर्ट दी है कि उसके भाई बाबूलाल ने मकान को नहीं तोड़ने की गुहार लगाई लेकिन टीम ने बाबूलाल को घेर लिया तो उसने अपने आप को आग लगा ली। इसके अलावा पुलिस ने बाबूलाल के पर्चा बयान के आधार पर भी वन अधिकारियों के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया था। गुढ़ागौड़जी के एसएचओ हरदयालसिंह का कहना है कि बाबूलाल के भाई ने आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज करवाया था। जिसकी जांच कर कार्रवाई की जाएगी। आत्मदाह करने के मामले में रेंजर श्रवण सिंह बाजिया सहित तीन कर्मचारियों को एपीओ किया गया है। प्रधान वन संरक्षक ने क्षेत्रीय वन अधिकारी श्रवणसिंह बाजिया, वनपाल ओमपाल सिंह तथा वन रक्षक सुनिधर को एपीओ किया है।

उपखंड कार्यालय पर आज होगा प्रदर्शन

बाबूलाल सैनी को न्याय दिलवाने के लिए चौफुल्या में होने वाला प्रदर्शन अब शुक्रवार को उदयपुरवाटी उपखंड मुख्यालय पर किया जाएगा। मूलचंद खरीट ने बताया कि प्रदर्शन सुबह 11 बजे होगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

और पढ़ें