विक्रम संवत्सर 2077 की शुरुआत इस बार 25 मार्च से होगी

Jhunjhunu News - भास्कर संवाददाता | झुंझुनूं विक्रम संवत्सर 2077 की शुरुआत इस बार 25 मार्च से होगी। तीन साल बाद इस बार 2020 में एक अधिक...

Jan 16, 2020, 07:45 AM IST
Buhana News - rajasthan news vikram samvatsar 2077 will begin this time from 25 march
भास्कर संवाददाता | झुंझुनूं

विक्रम संवत्सर 2077 की शुरुआत इस बार 25 मार्च से होगी। तीन साल बाद इस बार 2020 में एक अधिक मास होगा। इसे पुरुषोत्तम मास भी कहा जाता है। यानी हिंदू संवत्सर के अनुसार इसमें 12 की जगह 13 महीने होंगे। इसमें आश्विन के दो महीने होंगे। आश्विन महीना तीन सितंबर को शुरू होगा जो 31 अक्टूबर तक रहेगा। यानी इसकी अवधि करीब दो महीने की रहेगी। इन दो महीने के बीच की अवधि वाला एक महीने का समय अधिक मास रहेगा। इस बार पितृ मोक्ष अमावस्या के अगले दिन नहीं, बल्कि पूरे एक महीने बाद शारदीय नवरात्र शुरू होंगे।

इसके बाद जितने भी त्यौहार आएंगे वे 10 से 20 दिन या इससे कुछ अधिक देरी से आएंगे। इस बार दीपावली 14 नवंबर को होगी। इससे पहले यह 2018 में था तब भाद्रपद के दो महीने हुए थे।

पंडित रोहित पुजारी ने बताया कि पुराणों के अनुसार अधिक मास का कोई स्वामी नहीं होने से देवताओं ने इसे अशुद्ध माना था। इसके बाद भगवान विष्णु ने उपाय बताया कि आज से इसे अधिक मास को वे अपना नाम दे रहे हैं। तब से इस माह का नाम पुरुषोत्तम मास पड़ा। इसमें भागवत कथा व अन्य मांगलिक कार्यों का शुभारंभ हुआ। सौर मास 365 दिन का अौर चंद्र मास 364 दिन का होता है।

इससे हर साल 11 दिन का अंतर आता है, जो तीन साल में बढ़ कर एक महीने से कुछ अधिक होता जाता है। यह 2018 में भाद्रपद में था तो अब आश्विन में हो रहा है। इस अंतर को पाटने के लिए अधिक मास की व्यवस्था की गई है।

धर्म
श्राद्धपक्ष के एक माह बाद शुरू होंगे शारदीय नवरात्र

अधिक मास में दो तिथियां कृष्ण पक्ष चतुदर्शी तथा शुक्ल पक्ष की तृतीया का क्षय 18 अक्टूबर को होगा। इस कारण 17 सितंबर को श्राद्ध पक्ष के एक महीने बाद 17 अक्टूबर को शारदीय नवरात्र प्रारंभ होगा। श्राद्ध पक्ष की सर्व पितृ अमावस्या के अगले दिन शारदीय नवरात्र शुरू हो जाते हैं, लेकिन नए साल में अमावस्या व नवरात्र के बीच एक महीने का अंतर रहेगा। इस अवधि में 18 सितंबर को अधिमास के रुप में प्रथम आश्विन की शुरुआत होगी। इस मास को शुद्ध मास की गणना में नहीं गिना जाता। इसलिए अधिक मास की संज्ञा दी गई है।

X
Buhana News - rajasthan news vikram samvatsar 2077 will begin this time from 25 march
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना