• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jhunjhunu
  • Jhunjhunu News rajasthan news yogesh who used to give his own id for fear became the driver of pickup to escape the police even worked as a pulldar

खौफ जमाने के लिए खुद की आईडी देकर जाने वाला योगेश पुलिस से बचने के लिए पिकअप का ड्राइवर बना, पल्लेदार तक का काम किया

Jhunjhunu News - शहर के एक ज्वैलरी शो रूम पर पांच महीने पहले 15 सितंबर 2019 को लूट व ज्वैलर जतिन सोनी की हत्या के मुख्य आरोपी को पुलिस...

Feb 15, 2020, 09:16 AM IST
Jhunjhunu News - rajasthan news yogesh who used to give his own id for fear became the driver of pickup to escape the police even worked as a pulldar

शहर के एक ज्वैलरी शो रूम पर पांच महीने पहले 15 सितंबर 2019 को लूट व ज्वैलर जतिन सोनी की हत्या के मुख्य आरोपी को पुलिस गिरफ्तार शुक्रवार को झुंझुनूं पहुंची। शाम को एसपी जगदीशचंद्र शर्मा ने एक प्रेस क्रांफ्रेस कर उसकी गिरफ्तारी की पूरी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि चार पांच राज्यों में पुलिस उसकी तलाश में टीम बनाकर पीछा कर रही थी। उसके गुजरात में होने के कुछ सबूत मिले तो दबिश दी गई, लेकिन वह वहां से भागकर बीकानेर आ गया। जहां पुलिस ने उसे दबोच लिया। इस दौरान योगेश को भी सामने लाया गया, लेकिन उसे बापर्दा रखा गया और इस पर्दे के पीछे वही चेहरा था जो महज पांच महीने पहले वारदात के समय अपना आई कार्ड देकर गया था और कहा था कि पुलिस को बता देना योगेश आया था। वारदात को अंजाम देकर भागने के बाद योगेश कई राज्यों से होता हुआ गुजरात के वापी पहुंचा और वहां पुलिस से बचने के लिए कभी पिकअप का ड्राइवर बनकर रहा तो कभी पल्लेदारी करता रहा।

खाते में पैसे खत्म हुए, दूसरे का एटीएम उपयोग किया, 14 हजार रुपए हर महीने कमाता


वारदात के बाद पुलिस ने जिस तरह से बदमाशों की घेराबंदी की। उसके कारण लूटा हुआ माल जल्द ही बरामद हो गया था। बदमाश इसका बंटवारा नहीं कर सके। ऐसे में योगेश के पास लूटे गए माल का कुछ भी हिस्सा नहीं पहुंच सका। उसके पास केवल जतिन के गले की चेन थी। जिसे वह लेकर फरार हुआ था। फरारी के दौरान जल्द ही उसके पास पैसे खत्म हो गए तो उसने गुजरात के वापी में ड्राइवरी और पल्लेदारी की। दिहाड़ी मजदूरी से वह महीने के करीब 14 हजार रुपए कमा लेता। इस बीच उसके खाते में भी रकम नहीं बची। हालांकि एक बार उसने गुजरात में एटीएम भी यूज किया, लेकिन यह कार्ड किसी परिचित का था।


बीकानेर के मकान में बाथरुम में नहाते हुए मिला, बोला, एक दिन तो मुझे आना ही था

बीकानेर के पूंगल रोड पर योगेश का मकान है। पिछले कुछ समय से पुलिस लगातार इस मकान पर नजर रखे हुए थी। पुलिस को यकीन था कि एक दिन योगेश यहां जरुर आएगा। आखिर यही हुआ और गुरुवार को जैसे ही वह यहां आया पुलिस ने दबिश दी। पुलिस की टीम जब घर के अंदर पहुंची तो योगेश नहा रहा था। पुलिस ने उसे धर दबोचा था। इसके बाद उसकी पहली प्रतिक्रिया यही थी। साहब, एक दिन तो मुझे आना ही था। पुलिस अब इससे पूछताछ कर रही है। गौरतलब है कि 15 सितंबर 2019 को माननगर स्थित प्रकाश ज्वैलर्स पर आए चार बदमाशों ने शो रूम लूट लिया था और जाते समय ज्वैलर जतिन को गोली मार दी थी। जिससे उसकी नौ अक्टूबर को मौत हो गई थी।


पिता ने कहा, मेरे बेटे ने इनका क्या बिगाड़ा था, इन्हें फांसी दो


योगेश की गिरफ्तारी की खबर पाकर जतिन के पिता चंद्रप्रकाश साेनी कोतवाली पहुंचे। बाकी दिनों की तुलना में आज उनके कदमों में जैसे ताकत आ गई थी। इस दौरान एसपी जगदीशचंद्र शर्मा वहां प्रेस क्रांफ्रेस कर रहे थे। चंद्रप्रकाश उनके सामने हाथ जोड़कर खड़े हो गए। आंखों में आंसू थे। जुबान लड़खड़ाने लगी थी फिर गुस्से से बोले, साहब, इनसे पूछिए- मेरे बेटे ने इनका क्या बिगाड़ा था। पिता ने आरोपियों को फांसी देने की मांग की। इस दौरान जतिन के ताऊ राजकुमार साेनी, चचेरे भाई नटवर साेनी, स्वर्णकार समाज सेवा समिति के अध्यक्ष विश्वनाथ साेनी सज्जन साेनी, कुमावत समाज के ख्यालीराम कुमावत भी मौजूद थे।

खुलासा : एक साल पहले जतिन को चेन बनाने के लिए कहा था, मना किया तो पाली रंजिश, साथियों के साथ लूटने पहुंचा


पुलिस के अनुसार अभी तक की पूछताछ में सामने आया है कि करीब एक साल पहले योगेश जतिन के शो रुम पर आया था। तब उसने जतिन को चेन बनाने के लिए कहा और बदले में चेक देने को कहा। इस पर जतिन ने उसे मना कर दिया। पुलिस के अनुसार तभी से जतिन ने रंजिश पाल ली।

अाराेपी याेगेश चारणवासी काे शाम काे सीजेएम काेर्ट में पेश किया गया। पुलिस ने शिनाख्त परेड के लिए कहा। इस पर न्यायाधीश ने उसे जेल भेजने के अादेश दिए। पुलिस याेगेश काे शिनाख्त परेड के बाद फिर से रिमांड पर लेगी।

5 राज्या में कई शहर खंगालती रही टीम : योगेश को पकड़ने के लिए पुलिस ने टीमें बनाई। यह टीम गुजरात, हरियाणा, उत्तरप्रदेश, पंजाब समेत राजस्थान में भी कई जगहों पर दबिश देती रही। टीम में काेतवाल गाेपाल सिंह ढाका, साइबर सैल के हैडकांस्टेबल दिनेश कुमार, पवन कुमार, सुभाषचंद्र, जितेंद्र, कांस्टेबल संदीप, संदीप कुमार, प्रवीण, याेगेंद्र और चालक ओमपाल शामिल थे। पुलिस ने बताया कि याेगेश चारणवासी (36) के खिलाफ विभिन्न थानाें में संगीन धाराओं में 12 मामले दर्ज हैं। 2016 मे जिला कारागृह झुंझुनूं मे जेल प्रहरी पर फायरिंग करने के मामले में उसे 4 वर्ष के कारावास की सजा हो चुकी है। जतिन हत्याकांड के बाद योगेश पर 10 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया गया था।

जतिन के पिता चंद्रप्रकाश सोनी कोतवाली में एसपी से मिले और आरोपियों को फांसी देने की मांग की।

Jhunjhunu News - rajasthan news yogesh who used to give his own id for fear became the driver of pickup to escape the police even worked as a pulldar
X
Jhunjhunu News - rajasthan news yogesh who used to give his own id for fear became the driver of pickup to escape the police even worked as a pulldar
Jhunjhunu News - rajasthan news yogesh who used to give his own id for fear became the driver of pickup to escape the police even worked as a pulldar
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना