Home | Rajasthan | Jodhpur | News | 35 years after Bhagu Singh's border went beyond

35 साल से पहले पशु चराते सीमा पार चला गया था भगुसिंह, परिजनों को नहीं पता जिंदा है भी या नहीं

गजानंद की रिहाई की खबर से बाड़मेर की लक्ष्मी कंवर की बूढ़ी आंखों में जगी आस

Bhaskar News| Last Modified - Aug 11, 2018, 06:23 AM IST

35 years after Bhagu Singh's border went beyond
35 साल से पहले पशु चराते सीमा पार चला गया था भगुसिंह, परिजनों को नहीं पता जिंदा है भी या नहीं

  • पाक से रिहा होकर आए लोगों ने बताया- भगु पाक जेल में बंद
  • रिहाई के लिए कई बार गुहार लगाई, कोई खबर तक नहीं मिली

बाड़मेर.  50 साल से पति भगुसिंह की राह देख रही  लक्ष्मी कंवर(65) को पाक जेल में बंद जयपुर निवासी गजानंद की रिहाई से उम्मीद जगी है। लक्ष्मी के अनुसार 1983 में भगुसिंह पड़ोसी गांव गोहड़ का तला में पशु चराने गए थे।

गलती से उन्होंने सीमा पार की तो पाक रेंजर्स ने भारतीय जासूस समझकर उन्हें पकड़ लिया। इसके बाद वे लौटे नहीं। छोटे बेटे अर्जुनसिंह ने बताया कि पाक से रिहा होकर आए लोगों ने बताया कि वे कोटलखपत जेल में बंद हैं। पिता की रिहाई के लिए कई बार गुहार लगाई लेकिन आज तक उनकी खबर नहीं मिली। लक्ष्मी कहती हैं कि 35 साल बाद अब सरकार ये तो बताए कि वे जिंदा है या नहीं। आंखें बंद होने से पहले उनके दर्शन हो जाए तो आखिरी ख्वाहिश भी पूरी हो जाए। अभी केवल उनकी तस्वीर देखकर ही दिल को बहला रहे हैं।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now