जोधपुर

--Advertisement--

खाना बनाते वक्त गैस रिसाव से धधका सिलेंडर, तस्वीर देख हादसे का अंदाजा लें

हादसे के वक्त मां खाना बना रही थी और बच्ची भी किचन में ही खेल रही थी, एक साल की बच्ची की मौत, गंभीर झुलसे मां व मामा एम

Dainik Bhaskar

Dec 29, 2017, 07:21 AM IST
baby died and two injured in cylinder blast incident

जोधपुर. भीतरी शहर में जालोरी गेट अंदर महालक्ष्मी स्कूल के पीछे स्थित सुखजी की पोल में किराए पर रहने वाले एक परिवार के यहां गुरुवार शाम खाना बनाते समय गैस रिसाव से सिलेंडर धधक उठा। आग की लपटों ने एक साल की मासूम बच्ची की जान ले ली, जबकि उसकी मां और मामा गंभीर रूप से झुलस गए। इन दोनों को महात्मा गांधी हॉस्पिटल की बर्न यूनिट में भर्ती कराया गया। सूचना मिलने पर शास्त्रीनगर फायर स्टेशन से दो दमकलें मौके पर पहुंचीं और आग पर काबू पाया।

- शास्त्रीनगर अग्निशमन केंद्र के प्रभारी हेमराज शर्मा ने बताया कि गुरुवार शाम 7:25 बजे महालक्ष्मी स्कूल के पीछे सुखजी की पोल में आग लगने की सूचना मिली।

- शहर के भीतरी भाग में आग को देखते हुए फायरमैन मनीष पुरोहित, वीरेंद्र चौधरी, उत्तम देसाई, नरेश कंडारा, अभिजीत व भोमाराम की टीम दो छोटी दमकलों के साथ मौके पर भेजी गई। वहां गैस सिलेंडर में रिसाव के चलते आग लगी थी। थोड़ी मशक्कत के बाद टीम ने आग पर काबू पा लिया।

- आग से एक बच्ची की मौत हो गई थी, जबकि महिला और उसके भाई के झुलसने की सूचना मिलने पर खांडा फलसा थानाधिकारी पूरणसिंह व अन्य की टीम भी मौके पर पहुंची।

हादसे के वक्त मां खाना बना रही थी और बच्ची भी किचन में ही खेल रही थी

- थानाधिकारी पूरणसिंह के अनुसार मूलतया चूरू के पाबूसर और हाल में सुखजी की पोल निवासी राजेंद्र सिंह अपने पिता छत्तर सिंह के साथ पिछले सात-आठ साल से यहां किराए पर रहते हैं और फीणियां बनाने का काम करते हैं। इनके साथ राजेंद्र सिंह का साला वीरूसिंह भी रहता है।

- गुरुवार शाम करीब सवा सात बजे राजेंद्र सिंह की पत्नी सोनू कंवर (26) खाना बना रही थी, उसका भाई वीरूसिंह वहीं बैठा था और एक साल की मासूम बेटी कनिका कंवर भी वहीं खेल रही थी। इसी दौरान गैस सिलेंडर में रिसाव के चलते आग लग गई। पुलिस ने कनिका के शव को एमजीएच मोर्चरी में रखवाया है।

पोल की दो मंजिल पर 7 परिवार किराएदार

- जानकारी के अनुसार सुखजी की पोल वाली इस बिल्डिंग के मालिक देवकिशन सोलंकी हैं। ग्राउंड फ्लोर पर सोलंकी का परिवार रहता है, जबकि पहली व दूसरी मंजिल पर 7 परिवार किराएदार के रूप में रहते हैं। इन्हीं में से एक राजेंद्र सिंह का परिवार दूसरी मंजिल पर रहता है। बताया जा रहा है कि घटना के वक्त राजेंद्र सिंह व उसके पिता दूसरे कमरे में थे।

- आग बुझाने के बाद भी तकरीबन एक घंटे तक इसी रसोईनुमा कमरे में पड़े एक कॉमर्शियल सिलेंडर सहित दो गैस टंकियों से भी गैस का रिसाव हो रहा था। गनीमत रही कि इन दोनों सिलेंडर में ज्यादा गैस नहीं थी, अन्यथा विस्फोट भी हो सकता था।

baby died and two injured in cylinder blast incident
baby died and two injured in cylinder blast incident
X
baby died and two injured in cylinder blast incident
baby died and two injured in cylinder blast incident
baby died and two injured in cylinder blast incident
Click to listen..