Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» Before Booking Please Check That Registration Of The Marriage Garden

बुकिंग से पहले जांच लें कि मैरिज गार्डन, हॉल का रजिस्ट्रेशन है या नहीं

निगम की अपील: क्योंकि रजिस्टर्ड नहीं हैं तो सीज होंगे

Bhaskar News | Last Modified - Dec 19, 2017, 07:41 AM IST

बुकिंग से पहले जांच लें कि मैरिज गार्डन, हॉल का रजिस्ट्रेशन है या नहीं

जोधपुर. नगर निगम ने शहर में बिना रजिस्ट्रेशन संचालित होने वाले मैरिज गार्डन व शादी हॉल के संचालकों को रजिस्ट्रेशन करवाने की हिदायत देते हुए कहा, कि अगर जांच के दौरान कोई मैरिज गार्डन, प्लेस या हॉल बिना रजिस्ट्रेशन पाया जाता है तो उसे हाथोहाथ सीज करने की कार्रवाई की जाएगी। निगम ने शहर के लोगों को भी आगाह करते हुए कहा, कि वे मैरिज गार्डन या शादी हॉल की बुकिंग करवाते समय ही जांच लें कि जो गार्डन या हॉल बुक करवा रहे हैं उसका रजिस्ट्रेशन हो चुका है या नहीं?

गौरतलब है कि दैनिक भास्कर के 12 दिसंबर के अंक में ‘शहर के 65 वार्डों में 300 मैरिज गार्डन व शादी हॉल...सबकी पार्किंग सड़क पर’ शीर्षक से खबर प्रकाशित कर शादियों के सीजन में सड़कों पर लगने वाले जाम की दिक्कतों को उजागर किया गया था।

इसके बाद निगम आयुक्त आेपी कसेरा ने सार्वजनिक सूचना प्रकाशित करवाकर मैरिज गार्डन व हॉल के संचालकों को भी रजिस्ट्रेशन करवाने आैर बुकिंग करवाने वाले लोगों को बुकिंग से पहले रजिस्ट्रेशन की जांच कर लेने की अपील की है। लोगों को आगाह किया गया है कि अगर वे इसकी अनदेखी करेंगे तो उनके शादी-समारोह में खलल पड़ सकता है।


सालाना 15 हजार से ज्यादा की वसूली, पार्किंग की अनदेखी
प्रत्येक मैरिज प्लेस व हॉल से निगम प्रति बुकिंग सफाई के 2 हजार वसूलने के अलावा यूडी टैक्स, फायर एनआेसी व रजिस्ट्रेशन के नवीनीकरण की एवज में हर साल 15 हजार रुपए से ज्यादा की वसूली करता है, फिर भी अफसर पार्किंग को लेकर लापरवाह ही हैं। हालांकि हाईकोर्ट इस मामले को लेकर निगम अफसरों को कई बार फटकार भी लगा चुका है।


निगम बायलॉज में 10% इंटरनल पार्किंग जरूरी
निगम बायलॉज के अनुसार ऐसे भवनों में 10% इंटरनल पार्किंग होना जरूरी है। विशेषज्ञों के अनुसार इसे 50% किया जाना जरूरी है। हालांकि सरकार ने अब मैरिज प्लेस की अनुमति के लिए उसके आगे 60 फीट चौड़ी सड़क की अनिवार्यता कर दी है, जिससे थोड़ी राहत मिलेगी।


समारोह के दौरान करेंगे सीज
बिना रजिस्ट्रेशन चल रहे मैरिज गार्डन व हॉल के संचालकों को निगम रियायत नहीं देगा। ऐसे भवनों को निगम तुरंत सीज करेगा, भले उस समय उक्त गार्डन या हॉल में शादी समारोह भी क्यों नहीं चल रहा हो।
- घनश्याम आेझा, महापौर

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jodhpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: buking se pehle jaanch len ki mairij gaaardn, hol ka rjistreshn hai yaa nahi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×