--Advertisement--

पाक विस्थापितों के लाॅन्ग टर्म वीजा फॉर्म में कमियां, 20 जनवरी तक दुरुस्त करने की मोहलत

कोर्ट ने एफआरओ के स्तर पर लाॅन्ग टर्म वीजा के आवेदनों में कमियों का 20 जनवरी तक निस्तारण करने के आदेश दिए हैं।

Danik Bhaskar | Dec 21, 2017, 06:55 AM IST

जोधपुर. राजस्थान हाईकोर्ट के न्यायाधीश संगीत लोढ़ा व विनीत कुमार माथुर की खंडपीठ में बुधवार को पाक हिंदू विस्थापितों की नागरिकता और उनके लाॅन्ग टर्म वीजा के आवेदनों की पेंडेंसी को लेकर सुनवाई हुई। कोर्ट ने एफआरओ के स्तर पर लाॅन्ग टर्म वीजा के आवेदनों में कमियों का 20 जनवरी तक निस्तारण करने के आदेश दिए हैं।


न्यायमित्र कमल जोशी ने बहस करते हुए कोर्ट को बताया, कि औपचारिकताएं पूरी किए बिना लाॅन्ग टर्म वीजा (एलटीवी) के आवेदन आगे भिजवाए जा रहे हैं, जबकि 15 दिसंबर 2014 के नोटिफिकेशन के अनुसार एफआरओ के पास जितने भी एलटीवी एवं एसटीवी (शॉर्ट टर्म वीजा ) से संबंधित आवेदन है, उनकी कमियों को पूरा कर राज्य सरकार को भेजने का प्रावधान किया गया है।

एफआरओ के स्तर पर इनमें कमियों को दुरुस्त किए बगैर ही सीधे केंद्र सरकार को भेज दिए गए। उन्होंने इस बात पर भी आपत्ति जताई, कि एफआरओ के स्तर पर एलटीवी आवेदनों की कमियों को दुरुस्त करने के लिए कैम्प आयोजित किए गए लेकिन पाक विस्थापितों को जानकारी ही नहीं दी गई। ऐसे में वे कैम्प में उपस्थित नहीं हो पाए। कोर्ट के दखल के बाद भी इस काम को हल्के में लिया जा रहा है। स्टेट लेवल कमेटी से भी किसी तरह का सामंजस्य नहीं है।


कोट ने कहा- एलटीवी आवेदनों की कमियां ऑनलाइन शो करें, अावेदकों को भी बताएं
एएजी कांतिलाल ठाकुर के साथ पेश एफआरओ श्वेता धनखड़ ने कोर्ट को बताया, कि शॉर्ट टर्म वीजा का एक भी आवेदन उनके स्तर पर पेंडिंग नहीं है। दोनों पक्ष सुनने के बाद कोर्ट ने मौखिक रूप से कहा, कि अगर एलटीवी आवेदनों में रही कमियों को ऑनलाइन शो नहीं किया जाएगा तो आवेदकों को कैसे पता चलेगा। सभी आवेदनों की कमियों को नोटिफाई करने के साथ-साथ आवेदकों को जानकारी भी दें।

कैम्प की जानकारी समय पर दें, अन्यथा यह क्रम चलता रहेगा और कमियां भी दुरुस्त नहीं हो पाएंगी। एफआरओ धनखड़ ने आवेदनों में कमियों को दुरुस्त करवाने के लिए दो सप्ताह की मोहलत मांगी। कोर्ट ने उनके आग्रह को स्वीकार करते हुए 20 जनवरी तक आवेदनों में कमियों को दुरुस्त करने के आदेश दिए हैं।