--Advertisement--

डॉक्टर बोला- रुपए तो खूब कमाए, उसकी लालसा नहीं; अब तो लिंग जांच का नशा-सा हो गया है

पूछताछ में किया खुलासा- जोधपुर में 30 अवैध मशीनों से हर माह एक हजार भ्रूण लिंग जांच, 40-50 करोड़ रुपए का कारोबार

Danik Bhaskar | Jan 08, 2018, 03:08 AM IST

जोधपुर. शेखावाटी अंचल की तरह ही जोधपुर संभाग में भी पोर्टेबल सोनोग्राफी मशीनों से अवैध रूप से भ्रूण की लिंग जांच का काम बड़े पैमाने पर हो रहा है। इसके चलते जोधपुर भी अब भ्रूण लिंग जांच की मंडी बन रहा है। जोधपुर में शनिवार को हुई डेकॉय कार्रवाई में रंगे हाथ पकड़े गए निलंबित बीसीएमओ डॉ. इम्तियाज ने जांच टीम की पूछताछ में बताया, ‘रुपए तो खूब कमा लिए, अब लालसा नहीं है, अब तो भ्रूण लिंग जांच का नशा सा हो गया है। अब तो एक-दो दिन जांच नहीं करूं तो बेचैनी सी होने लगती है।’

- डॉ. इम्तियाज ने यह भी खुलासा किया कि जोधपुर में नवीनतम तकनीकी की मोबाइल जैसी दिखने वाली 25 से 30 पोर्टेबल सोनोग्राफी मशीनें हैं जिन्हें भ्रूण लिंग जांच के काम में लिया जाता है।

- पूछताछ में यह भी सामने आया कि जोधपुर में इन अवैध सोनोग्राफी मशीनों से प्रतिमाह 1000 से 1200 गर्भवतियों की भ्रूण लिंग जांच कर पहचान बताई जाती है।

- इसमें लिप्त लोग प्रतिवर्ष 40 से 50 करोड़ का अवैध कारोबार करते हैं। कमोबेश यही स्थिति शेखावाटी में है, जिनमें भी करीब 15 अवैध सोनोग्राफी मशीनों द्वारा 50 करोड़ का अवैध कारोबार प्रतिवर्ष किया जाता है।


पिता से सीखा भ्रूण लिंग जांच का काम

- डॉ. इम्तियाज ने अपने पिता डॉ. मोहम्मद नियाज से यह काम सीखा। उसके पिता काे भी 2016 में मकराना में भ्रूण लिंग जांच के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

- उसके कुछ महीनों बाद ही बीसीएमएचओ पद पर कार्यरत डॉ. इम्तियाज को पहली बार गिरफ्तार किया गया था।

- उसके कुछ महीनों बाद जोधपुर में हुई दूसरी डेकॉय कार्रवाई में आरोपी डॉ. इम्तियाज भागने में सफल रहा था। गत दिवस जोधपुर में डॉ. इम्तियाज को तीसरी बार रंगे हाथ पोर्टेबल मशीन के साथ पकड़ा है।