--Advertisement--

अधिक मास: कुछ त्योहार पहले तो कुछ का करना पड़ेगा लंबा इंतजार

15 मई से पहले 10 और उसके बाद 20 दिन का आएगा अंतर, 2001 के बाद 2018 में अधिक मास

Danik Bhaskar | Jan 03, 2018, 05:03 AM IST

जोधपुर. नववर्ष 2018 की शुरुआत जहां पंच योग से हुई है, वहीं 15 मई से पहले हिंदू तीज-त्योहार हर साल की बजाय 10 दिन पहले पड़ेंगे। वहीं इसके बाद के पर्व 20 दिन से एक महीने देरी से मनाए जाएंगे। ऐसा 18 साल बाद 15 मई के बाद पड़ने वाले अधिक मास की वजह से होगा।

- पंडितों के अनुसार, त्यौहारों के इस बदले गणित के अनुसार कुछ त्यौहार पहले और कुछ के लिए लंबा इंतजार करना पड़ेगा। इनमें सबसे प्रमुख दीपावली पर्व इस बार 19 दिन की देरी से मनाया जाएगा। मई के बाद पड़ने वाले दूसरे त्यौहारों में भी ऐसा ही अंतर दिखेगा।

- 15 मई से पहले मनाए जाने वाले त्यौहार अमावस्या स्नान, बसंत पंचमी, माघी पूर्णिमा, महाशिवरात्रि, होली, चैत्र नवरात्र आदि त्यौहार बीते साल के मुकाबले 10 दिन पहले मनाए जाएंगे। महाशिवरात्रि 13 फरवरी और होली एक मार्च को मनाई जाएगी, जबकि 2017 में महाशिवरात्रि 24 फरवरी और होली 13 मार्च को आई थी।

तुला, धनु, वृश्चिक और मकर में मंगल का फेर दिखाएगा सकारात्मक असर

नए साल मे ग्रह गोचरों का फेर सभी के जीवन में खुशहाली, पारिवारिक समृद्धि और उन्नति के मौको की ओर इशारा कर रहा है। वहीं कुछ ग्रहों की चाल लोगों पर तिरछी नजर भी डालेगी। खासकर मंगल का वृश्चिक, तुला, धनु, मकर और कुंभ में विचरण कई मायनों में सकारात्मक और कुछ मायनाे में नकारात्मक प्रभाव देने वाला रहेगा।

16 मई से 13 जून तक रहेगा अधिक मास

इससे पहले अधिक मास वर्ष 2001 में था, जबकि इसके बाद 2036 में पड़ेगा। 2018 में ज्येष्ठ मास अधिक मास होगा। इसलिए दो ज्येष्ठ रहेंगे। अधिक मास 18 मई से 13 जून तक रहेगा। इस अवधि में मांगलिक कार्य वर्जित होंगे।