--Advertisement--

बेखौफ बजरी माफिया, रोज बाइपास होकर 70 डंपर गांव के रास्ते शहर में ला रहे हैं

सूर्यास्त से सूर्योदय तक धड़ल्ले से सप्लाई, मुंहमांगे दाम पर बेचते हैं

Danik Bhaskar | Jan 01, 2018, 07:30 AM IST

जोधपुर. बजरी पर सुप्रीम कोर्ट की रोक के बाद राज्य सरकार ने विभागीय प्रोजेक्ट्स में तो इसे काम लेने के लिए आंशिक राहत दे दी है। उधर आम आदमी अब भी बजरी पर रोक से परेशान है। इस रोक के बीच बजरी का अवैध कारोबार करने वाले कारगुजारियों से बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसे ही अवैध बजरी माफिया बाजार में मुंहमांगे दामों पर बजरी बेच रहे हैं। खनन विभाग और पुलिस की नियमित चैकिंग नहीं होने के कारण शहर से सटे गांवों-ढाणियों में दहशत पैदा कर दी है। रात के अंधेरे में बजरी से भरे कई ट्रक बेलगाम गति से गुजरते हैं और बाईपास होते हुए शहर में सप्लाई कर रहे हैं। विभाग व पुलिस इक्का-दुक्का कार्रवाई कर रहे हंै, लेकिन नियमित चेकिंग व सख्ती नहीं होने से बजरी माफिया बेखौफ काम को अंजाम दे रहे हैं।


रोज 50 से 70 डंपर आते हैं
बजरी माफिया पूरी तरह बेखौफ होकर काम अंजाम देते हैं। ग्रामीणों का कहना है कि अंधेरा ढलते ही बजरी के ट्रक धड़ल्ले से दौड़ने लगते हैं। यह ट्रक और डंपर खनन स्थल के लिए रहवासीय क्षेत्रों से होकर गुजरते हैं। देर रात बजरी लेकर बेलगाम गति से शहर की ओर जाते हैं। यह दौर सुबह सात से आठ बजे तक चलता रहता है।

ग्रामीणों के अनुसार करीब 50 से 70 ट्रक और डंपर रोज अवैध रूप से बजरी खनन कर ले जाते हंै। इन्हें शहर के अलग-अलग स्थानों पर मुंहमांगे दामों पर बेचा जाता है। अधिकांशत: पुलिस खान विभाग का मामला बताकर कार्रवाई नहीं करती है। इधर खान विभाग सीमित संसाधन होने का रटा-रटाया जवाब देकर जिम्मेदारी इतिश्री करता है। विभागों की नाकामी से बजरी माफिया के हौंसले बुलंद हैं।

लगातार कार्रवाई करने का दावा
बजरी पर रोक के बाद से दो फोरमैन के नेतृत्व में अलग-अलग टीमें बनाकर आकस्मिक चैकिंग हर रोज होती है। जहां तक पालासनी और गनोलिया गांव से अवैध खनन और फिक्स रूट की बात है तो हम पुलिस को साथ लेकर इस पर भी कार्रवाई करेंगे।
रणजीत सिंह चौहान, एमई खनिज विभाग

पीछा किया तो हाईवे पर बजरी गिरा भागे

चेकिंग के लिए विभाग की टीम गत मंगलवार को जोधपुर-नागौर हाईवे पर थी। टीम ने एक ट्रक को रोका, उसमें बजरी भरी थी। टीम कोई कार्रवाई करती उससे पहले ही ट्रक का मालिक आया। वह ट्रक को ड्राइवर सहित भगा ले गया। टीम ने गाड़ी से पीछा किया तो ट्रक ने हाईवे पर ही बजरी को गिरा दिया। इस संबंध में खनिज विभाग की ओर से करवड़ थाने में एक मुकदमा दर्ज करवाया गया है।