• Home
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • defence minister nirmala sitharaman will fly a sortie in the sukhoi 30 MKI fighter aircraft
--Advertisement--

देश के मुख्य फाइटर जेट सुखोई में उड़ान भरेगी रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण

रंक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण लगातार सैनिकों के बीच जाकर उनका हौंसला बढ़ा रही है।

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 07:18 PM IST
बाड़मेर के उत्तरलाई एयर बेस पर मिग-21 में सवार निर्मला सीतारमण। बाड़मेर के उत्तरलाई एयर बेस पर मिग-21 में सवार निर्मला सीतारमण।

जोधपुर। केन्द्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण अब देश के मुख्य फाइटर जेट सुखोई में उड़ान भरेगी। रक्षा मंत्रालय का कामकाज संभालने के बाद से लगातार जवानों के बीच जाकर उनसे मुलाकात करने वाली रक्षा मंत्री सत्रह जनवरी को जोधपुर एयर बेस से सुखोई फाइटर में उड़ान भरेगी। ऐसा करने वाली वह पहली महिला रक्षा मंत्री होगी। यह है कार्यक्रम…

- सैन्य सूत्रों का कहना है कि रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण का गत माह जोधपुर में सुखोई से उड़ान भरने का कार्यक्रम तय था, लेकिन वे हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री के चयन की प्रक्रिया में शामिल होने शिमला चली गई। ऐसे में वे जोधपुर नहीं आ सकी। अब एक बार फिर उनका जोधपुर में सुखोई में उड़ान भरने का कार्यक्रम तय हो गया है। वे बुधवार सुबह जोधपुर में सुखोई फाइटर जेट से उड़ान भरेगी।

- रक्षा मंत्री का पदभार संभालने के बाद से निर्मला सीतारमण लगातार सीमा क्षेत्र का दौरा कर जवानों से मिलने के साथ ही रक्षा तैयारियों का जायजा ले रही है। हाल ही उन्होंने विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य का दौरा किया था। इससे पूर्व वे बाड़मेर में उत्तरलाई एयर बेस का दौरा भी कर चुकी है। साथ ही वे पोकरण में टैंक की सवारी भी कर चुकी है।

ऐसा है फाइटर जेट सुखोई

- जब हमारा लड़ाकू विमान सुखोई-30एमकेआई उड़ान भरता है तो फिर आसमान में उसी का वर्चस्व होता है। अपने आप में कई खूबियों को समेटे यह विमान हर तरह की परिस्थितियों में दुश्मन के किसी भी विमान के मुकाबले कई मायनों में बेहतर माना जाता है। भारत के पास अभी 220 सुखोई विमान है।

- यह 2600 किलोमीटर प्रति घंटा, एक बार में तीन हजार किलोमीटर की दूरी तक हमला बोल सकता है। हवा से हवा में ईंधन ले यह आठ हजार किलोमीटर तक जा सकता है। यह आठ हजार किलोग्राम भार के चौदह बम ले जा सकता है। अब इसे ब्रम्होस मिसाइल ले जाने में भी सक्षम बना दिया गया है।

- सुखोई तीन सौ पचास किलोमीटर दूर तक नजर रख एक साथ बीस लक्ष्यों को देख सकता है। आठ सबसे खतरनाक लक्ष्य की पहचान कर उन्हें भेद सकता है। इसमें लगी वार्निंग यूनिट इसकी तरफ बढ़ रही किसी भी मिसाइल के बारे में काफी पहले से बता कर बचाव का पूरा समय उपलब्ध कराता है। साथ ही उस मिसाइल को जाम करने की क्षमता भी रखता है। यह विमान सैटेलाइट नेविगेशन से जुड़ा होने के कारण खराब से खराब मौसम में भी अासानी से उड़ान भर हमले बोल सकता है।

अगली स्लाइड्स में देखें अन्य फोटो

ऐसा है सुखोई फाइटर जेट। दो दिन पस्चात रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण इसमें उड़ान भरेगी। ऐसा है सुखोई फाइटर जेट। दो दिन पस्चात रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण इसमें उड़ान भरेगी।
पोकरण में एक तोप की जानकारी लेती रक्षा मंत्री। पोकरण में एक तोप की जानकारी लेती रक्षा मंत्री।
पोकरण फायरिंग रेंज में टैंक पर सवार रक्षा मंत्री। पोकरण फायरिंग रेंज में टैंक पर सवार रक्षा मंत्री।
तोप की जानकारी लेते हुए निर्मला सीतारमण। तोप की जानकारी लेते हुए निर्मला सीतारमण।