--Advertisement--

घर-दुकान बेरहमी से जलाए, बेटियों के ब्याह के गहने तक लूट ले गए

सामराऊ प्रकरण: दो दिन के तांडव के बाद सिसकता मिला गांव, दहशतजदा परिवार, सबकुछ लुटने से बिलखते ग्रामीण

Dainik Bhaskar

Jan 17, 2018, 05:04 AM IST
loot and burning incidents during samrau violence

जोधपुर. जलकर राख हुए आशियाने, जिन्हें पीढ़ियों की मेहनत और बरसों की खून-पसीने की कमाई से तिनका-तिनका कर बसाया था। कमरों से बाहर निकालकर फूंका हुआ एक-एक घरेलू सामान। बक्से-संदूक और आलमारियां तोड़ चुन-चुनकर लूटे गए गहने, कीमती सामान और रकम। अपने हाथों से बसाई गृहस्थी का कतरा-कतरा इस तरह तबाह हुआ देखकर फूट-फूटकर रोते महिला-पुरुष। बेबस, बेचैन और खौफजदा बुजुर्ग और मासूम आंखें। बेरहमी की इंतेहा इतनी कि चंद दिनों बाद होने वाले बेटियों के ब्याह के लिए पेट काटकर बनवाए गहने तक उपद्रवी लूटकर ले गए। अरमानों से संजोए दहेज के सामान को भी राख कर दिया। दो दिन के कोहराम, उपद्रव और लूट-मार के बाद मंगलवार को सामराऊ गांव इसी हालत में सिसकता मिला। पीढ़ियों से यहां रह रहे परिवार पलभर में बर्बाद हो गए। इन परिवारों की आंखों में आतंक के अलावा आश्चर्य भी है। आतंक क्यों? यह तो ऊपर बताए दृश्य से ही साफ है। आश्चर्य इसलिए कि जिस हत्या के बाद ये घटनाक्रम चला इसमें किसी का कोई लेना-देना तक नहीं है। जिस गांव में ये बरसों से शांतिपूर्वक रह रहे थे वहीं नजरों के सामने उनका संसार उजाड़ दिया गया।


उधर घटना के बाद मारवाड़ राजपूत सभा के अध्यक्ष हनुमानसिंह खांगटा, पीसीसी सदस्य महेन्द्रसिंह भाटी, पूर्व पंचायत समिति सदस्य गंगासिंह पांचला, पूर्व उपसरपंच ओमसिंह भाटी, कुंदनसिंह भाटी, भंवरसिंह जयचंद, पदमसिंह भाटी, गजेसिंह उदावत, गुलाबसिंह उदावत, पूर्व सरपंच भाण्डु पप्पूसिंह सहित राजपूत समाज के वरिष्ठ लोगों ने सामराऊ पहुंचकर पीड़ित परिवारों से मिलकर घटना की निंदा की व पुलिस प्रशासन से न्याय की मांग की।

चंद दिनों बाद होनी है बिटिया की शादी: खुशियों के आंगन में अब आंखें नम

किशनसिंह की बिटिया की 3 मार्च को शादी होनी है। घर में तीन भाइयों, एक बहन व एक पड़ोसी का करीब 100 तोला सोना, डेढ़ किलो चांदी व डेढ़ लाख रु. थे। उपद्रवियों की भीड़ अलमारी तोड़ लूट ले गई। पर्वतसिंह की पुत्री गायत्री कंवर की 6 फरवरी को ब्याह तय है। पर्वतसिंह के भाई पूरणसिंह ने बिलखते हुए बताया कि तैयारियों के सिलसिले में परिजन जोधपुर गए थे। घटनाक्रम में घर से 80 तोला चांदी, सात तोला सोना व 35 हजार नगदी लूट ली गई। दहेज के लिए घर में रखे बाइक, टीवी, फ्रिज, शादी के कपड़े भी जला डाले।

जमीन बेचकर लगाई थी दुकान, हुई खाक
अभयसिंह ने बताया की डेढ़ साल पहले जमीन बेचकर रेडिमेड कपड़ों की दुकान लगाई थी। उपद्रवियों ने विशेष तौर पर निशाना बनाया। उसकी दुकान का सारा फर्नीचर, लाखों रुपए का सामान और नगदी सबकुछ आग के हवाले कर दिया।

रावला-झोंपड़े, किसी को भी नहीं छोड़ा
उपद्रवियों ने सवाई सिंह के रावले के सारे सामान को आग लगा दी। किसनसिंह, सोहनसिंह, मदनसिंह, करणसिंह व परबत सिंह के घर भी जला दिए। करमसोत ढाणी में गोपसिंह के दो झोंपड़ों और भैरूसिंह की ढाणी में दो झोंपड़े जलाए। कानसिंह के यहां दो लाख कीमत की टाइलें तोड़ दी।

दिव्यांग बच्चे व सास-ससुर सहित बचाई जान
उपद्रवियों ने सूरज कंवर पत्नी माेहन सिंह के परिजनों को निकालकर उत्पात शुरू किया। सूरज कंवर ने दिव्यांग बच्चे व बुजुर्ग सास-ससुर के साथ भागकर जान बचाई। सुबह आए तो घर से 7 तोला सोना, चांदी, दो लाख रु. गायब व घरेलू सामान जलाया हुअा था।

ठिठुरते हुए खेतों में परिवार ने गुजारी रात
उपद्रवियों के हमले के बाद गजेसिंह उनके बुजुर्ग माता-पिता, तीन भाईयों व उनकी पत्नियों व बच्चों ने रात ठिठुरते हुए खेत में गुजारी। सुबह अपने घर पहुंचे तो सबकुछ तबाह था। इसे देख तीन महिलाओं की तबीयत बिगड़ गई व उन्हें अस्पताल ले जाना पड़ा।

बेनीवाल बोले- निर्दोषों के घर जलाना गलत, भीड़ में घुसे उत्पातियों की कारस्तानी थी
सामराऊ में हिंसा की खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने निंदा की। उन्होंने कहा कि निर्दोष लोगों के घरों को नुकसान पहुंचाने वाले भीड़ में घुसे कुछ शरारती तत्व थे, जो व्यक्तिगत रंजिश निकालने आए थे। एक किसान परिवार जिसके बेटे की हत्या कर दी गई, उसे न्याय दिलाने के लिए पुलिस-प्रशासन से वार्ता हुई थी। इसमें हत्या से पहले और बाद के पूरे प्रकरण की विस्तृत जांच एडीएम स्तर के अधिकारी से कराने पर सहमति बनी थी। इतना ही नहीं, देचू, लोहावट और मतोड़ा थानाधिकारी के खिलाफ लगे आरोपों के संबंध में उनकी प्रदेश के डीजीपी से भी फोन पर बात हुई थी।

loot and burning incidents during samrau violence
loot and burning incidents during samrau violence
loot and burning incidents during samrau violence
X
loot and burning incidents during samrau violence
loot and burning incidents during samrau violence
loot and burning incidents during samrau violence
loot and burning incidents during samrau violence
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..