--Advertisement--

स्वाइन फ्लू: देश में सर्वाधिक मौत जोधपुर में, इनमें 84% मरीजों के इलाज में देरी हुई

राजस्थान में 1 से 30 जनवरी तक 683 पॉजिटिव मरीज, इनमें 47 की मौत, जोधपुर में 19 ने दम तोड़ा

Danik Bhaskar | Jan 31, 2018, 08:22 AM IST

जोधपुर. स्वाइन फ्लू से मौत के मामले में इस महीने जोधपुर पूरे देश में पहले स्थान पर पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट पर मंगलवार को 21 जनवरी तक के आंकड़े जारी किए हुए थे। इसके अनुसार पूरे देश में स्वाइन फ्लू से 36 मरीजों की मौत हुई, इनमें 26 मरीज राजस्थान में इस बीमारी का शिकार हुए। राजस्थान में भी सबसे ज्यादा 14 मरीजों की मौत जोधपुर में हुई।

- इसी तरह 30 जनवरी तक प्रदेश में मौत का आंकड़ा 47 पहुंच गया, जिनमें 19 मरीज जोधपुर में काल का ग्रास बने। यह आंकड़ा देशभर में सर्वाधिक है। यही नहीं, जोधपुर में स्वाइन फ्लू से मौत की दर भी प्रदेशभर के औसत और राजधानी जयपुर से ज्यादा है।

- ये आंकड़े बता रहे हैं, कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए जा रहे काम, कहीं भी धरातल पर नहीं हैं। सबसे बड़ी जिम्मेदारी फील्ड में तैनात डॉक्टरों की है, वे संदिग्ध मरीजों की स्क्रीनिंग नहीं कर रहे, यह तक नहीं बताया जा रहा कि मरीज को सही इलाज कहां मिलेगा। यह खुलासा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्वाइन फ्लू से दम तोड़ने वाले एक-एक मरीज पर की गई ऑडिट में हुआ है।

- विभाग के अतिरिक्त निदेशक डॉ. रविप्रकाश माथुर ने बताया, कि प्रदेश में स्वाइन फ्लू से मरने वाले मरीजों में 84 प्रतिशत की मौत का कारण इलाज में देरी है। कारण, फील्ड में डॉक्टर ना तो मरीज की सही स्क्रीनिंग कर रहे है और ना ही इलाज के लिए सही जगह रेफर कर रहे हैं। जोधपुर में 29 जनवरी तक दम तोड़ने वाले 18 मरीजों में से 10 की मौत देरी से इलाज मिलने के चलते हुई।

- पूरे प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों के मुकाबले मृत्यु दर 6.4% रही। यह जयपुर में महज 2.42%, जबकि जोधपुर में 21.15% रही। हालांकि पाली में मौत की दर 23.07% है, लेकिन वहां 4 मरीज काल का ग्रास बने। राजस्थान के अलावा जम्मू कश्मीर में 6, पंजाब में 3 और हरियाणा में 1 मरीज की मौत हुई।

4 और पॉजिटिव, एक महिला मरीज की मौत

- शहर में मंगलवार को स्वाइन फ्लू के चार और मरीज सामने आए हैं, जबकि एक महिला मरीज की मौत हो गई। इससे पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 72 हो गया है, वहीं 19 मरीजों की मौत हुई है।

- भीलों का बास जालोर निवासी महिला को सोमवार को एमडीएमएच में भर्ती किया गया, जिसकी मंगलवार सुबह मौत हो गई।


छह साल के बच्चे को स्क्रब टाइफस, अलर्ट जारी
- शहर में नए वायरस स्क्रब टाइफस का भी मरीज सामने आया है। इसकी सूचना मिलते ही संयुक्त निदेशक डॉ. संजीव जैन ने रजिस्टर्ड पते पर रोकथाम के लिए सीएमएचओ ऑफिस से टीम भेजी, लेकिन टीम के पहुंचने से पहले ही परिजन मरीज को जयपुर के निजी हॉस्पिटल में ले गए हैं।

- डॉ. जैन ने बताया कि बनाड़ में एकता नगर खसरा नं 4 निवासी अजय जाखड़ (6) पुत्र शिव जाखड़ को एमडीएमएच में स्क्रब टाइफस बीमारी के चलते भर्ती किया गया। टीम पहले एमडीएमएच गई, लेकिन वहां मरीज नहीं मिला। बाद में घर गई तो परिजन उसे जयपुर इलाज के लिए ले जा चुके थे। उन्होंने बताया कि 15 दिन पहले कढ़ी गांव केकड़ी अजमेर से मरीज अजय यहां आया था।