--Advertisement--

खाते में मिनिमम से कम बैलेंस, तब भी बैंक 1 माह बाद ही काट सकते हैं चार्ज

आरबीआई के अनुसार बैंक को न्यूनतम से कम राशि होने पर मैसेज भेजना जरूरी

Danik Bhaskar | Mar 05, 2018, 06:21 AM IST

जोधपुर. ग्राहक के खाते में न्यूनतम बैलेंस से कम अमाउंट होने पर भी अब बैंक सीधे चार्ज नहीं काट सकते। ऐसी स्थिति में बैंक की ओर से उपभोक्ता को एक अलर्ट मैसेज और ई-मेल भेजना होगा। उन्हें खाताधारक को एक माह का ग्रेस पीरियड देना होगा। इस अवधि में अगर न्यूनतम बैलेंस राशि जमा करवा दी जाती है तो ग्राहक से कोई चार्ज नहीं वसूला जाएगा। निश्चित अवधि तक खाते में मिनिमम बैलेंस नहीं होने पर ही एकाउंट से चार्ज काट सकेंगे। यह सारी जानकारी आरबीआई ने सूचना के अधिकार के तहत पूछे गए सवाल के जवाब में दी है। हालांकि तमाम बैंक आरबीआई की ऐसी कोई गाइडलाइन नहीं मिलने की बात कर रहे हैं।

- दरअसल बैंकों के सेविंग और करेंट अकाउंट में न्यूनतम बैलेंस से कम राशि होने पर कुछ राशि काट दी जाती है।

- हर बैंक ने न्यूनतम बैलेंस को लेकर अलग-अलग कायदे बना रखे हैं। कुछ बैंक में यह न्यूनतम 1000 रु. तो कुछ में 5 हजार है। सब बैंकों के कटौती चार्ज भी अलग-अलग हैं।

एसबीआई

एसबीआई सेविंग एकाउंट में मेट्रो सिटी और अरबन में खाते में न्यूनतम राशि 3 हजार, सेमी अरबन में 2 हजार और रूरल में 1000 रुपए रखना जरूरी है। करेंट एकाउंट में मिनिमम बैलेंस 10 हजार रुपए है। खाताधारकों के न्यूनतम खाते की गणना क्वार्टरली होती है एवं न्यूनतम से कम बैलेंस पर चार्ज कटता है। हर माह सिस्टम बैलेंस चेक करता है, कम होने पर कटौती कर लेता है।

एसबीआई के मुख्य प्रबंधक ने बताया कि एसबीआई में न्यूनतम बैलेंस कम होने पर कटौती से पहले एसएमएस देने या ईमेल संबंधी आरबीआई की कोई गाइडलाइन नहीं है। अगर ऐसी कोई गाइडलाइन है तो बैंक उसे फॉलो करेगा। फिलहाल क्वार्टरली खाते की जांच कर देखा जाता है कि न्यूनतम बैलेंस या नहीं। उसके बाद कटौती की जाती है।

बीओबी

सेविंग खाते में न्यूनतम बैलेंस 1 हजार रु. एवं करेंट खाते में 10 हजार रुपए है। इसमें अगर कटौती होती है तो ग्राहक पर चार्ज लगता है। बैलेंस अगर 999 रु. से 500 हो तो चार्ज 50 प्रतिशत, 250 से 499 हो तो 80 प्रतिशत और 250 रु. से कम हो तो 100 प्रतिशत चार्ज वसूला जाता है।

बैंक ऑफ बड़ौदा के सीनियर मैनेजर रमाकांत शर्मा ने बताया कि मंथली एवरेज बैलेंस को मिलाकर मंथली एवरेज निकाल ली जाती है। अगर उसमें कमी है तो नियमानुसार कटौती होती है। बीओबी न्यूनतम बैलेंस कम होने पर ग्राहक को एसएमएस के जरिए सूचना देती है। अगर मेल या पत्र देने की गाइडलाइन होगी तो उसे भी पूरा किया जाएगा।

पंजाब नेशनल

पंजाब नेशनल बैंक के सेविंग अकाउंट में न्यूनतम 2000 रुपए रखना जरूरी है। इसी प्रकार बैंक के करंट अकाउंट में न्यूनतम 10 हजार रुपए मेंटेन रखने का नियम बनाया गया है। हर माह के अंत में ग्राहक के बैलेंस चेक में अगर राशि कम होती है तो सिस्टम पैसा काट लेता है।

पीएनबी के मंडल प्रमुख चंद्रप्रकाश आगल ने बताया कि पूरी तरह आरबीआई के निर्देश फॉलो करते हैं। अगर न्यूनतम बैलेंस कटौती से पहले एसएमएस या मेल देना है तो हमारा सिस्टम उसे पूरी तरह फॉलो करेगा। फिलहाल बैंक क्वार्टरली और मंथली बेस पर देखती है कि खाताधारक के खाते में न्यूनतम राशि है या नहीं? इसके बाद सिस्टम स्वतः कटौती करता है।