Home | Rajasthan | Jodhpur | News | No one filed a lawsuit even after 24 hours of fight and riot

अफवाहों ने बढ़ाया तनाव, बंद बाजार के बीच ईद मिलादुन्नबी का जुलूस भी निकला

सूरसागर में शुक्रवार रात को हुए उपद्रव का तनाव और डर शनिवार को भी बरकरार रहा, लेकिन शांति बनी रही।

Bhaskar news| Last Modified - Dec 03, 2017, 06:29 AM IST

1 of
No one filed a lawsuit even after 24 hours of fight and riot

जोधपुर. सूरसागर में शुक्रवार रात को हुए उपद्रव का तनाव और डर शनिवार को भी बरकरार रहा, लेकिन शांति बनी रही। दिन में ईद मिलादुन्नबी का जुलूस भी निकला। इस बीच बार-बार पत्थरबाजी लोगों के जमा होने की अफवाहें भी चलीं तो दोनों पक्षों के लोग सड़कों पर आते रहे, मगर पुलिस उन्हें समझा कर फिर से घरों में भेजती रही। पूरे दिन व्यापारियों का मोहल्ला से सुभाष चौक तक का पूरा बाजार भी बंद रहा। पुलिस कमिश्नर अशोक राठौड़ और दोनों डीसीपी समीर कुमार सिंह अमनदीप कपूर ने पूरे क्षेत्र में राउंड लेकर शांति बनाए रखने की अपील की। बाद में सूरसागर थाने में भी दो राउंड में दोनों वर्गों के मौजीज लोगों की बैठक लेकर सद्भाव बनाने के प्रयास किए गए। सूरसागर विधायक सूर्यकांता व्यास भी व्यापारियों के मोहल्ले में दोनों पक्षों के घरों में गईं और समझाइश की। शनिवार को सूरसागर थानाधिकारी मुक्ता पारीक की ओर से करीब 35 नामजद आरोपियों और करीब 100 अन्य लोगों के खिलाफ जानलेवा हमले, राजकार्य में बाधा, तोड़फोड़, आगजनी का केस दर्ज किया गया। उधर, शुक्रवार रात को बाइक पर ट्यूशन से घर जा रहे सूरज सोनी और हेमंत सांखला को सूरसागर बाइपास रोड पर पुलिस ने डंडे मारे। इस दौरान हेमंत का आईफोन मोबाइल टूट गया। हेमंत ने सूरसागर थाने में एडीसीपी विपिन कुमार के खिलाफ शिकायत दी है। 

पथरावकी अफवाह ने बढ़ाई टेंशन 
ईदमिलादुन्नबी जुलूस के लिए हर साल से ज्यादा लोग सूरसागर में जुट गए। शहर के विभिन्न हिस्सों से भी लोग इसमें शामिल हुए। फिर जुलूस के दौरान कुछ युवक हाथों में डंडे तलवारें लेकर चल रहे थे और नारे भी लगा रहे थे। कुछ युवकों ने जुलूस को सुभाष चौक तक ले जाने की जिद की, मगर पुलिस ने तय रूट से आगे जाने नहीं दिया तो थोड़ी तकरार हुई। इस दौरान किसी ने अफवाह फैला दी, कि वे लोग जुलूस में जा रहे हैं और पीछे उनके घरों पर पथराव हो रहा है। यह सुन कर जुलूस में शामिल युवक पलटे और हाथों में डंडे लिए हुए अपने घरों की ओर जाने लगे। इस हरकत ने दूसरे पक्ष के लोगों को घरों से बाहर निकाल दिया। तब पुलिस बीच में आई और बताया कि कहीं भी पथराव नहीं हो रहा है। लोगों ने अपने घरवालों को सुरक्षित देख कर जुलूस को आगे बढ़ा दिया। 

सावचेती: अफवाहों से बिगड़ता है माहौल आमजन इनसे सचेत रहे 
सूरसागरमालियों का बास व्यापारियों का मोहल्ला इलाके में शुक्रवार रात कुछ शरारती तत्वों ने सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने का प्रयास किया था, लेकिन पुलिस टीम ने तत्परता से स्थिति पर जल्द नियंत्रण कर लिया। शुक्रवार रात से ही पूरे इलाके में पर्याप्त पुलिस बल तैनात किया गया है। फिलहाल, स्थिति शांतिपूर्ण है। अफवाहों से शनिवार को भी माहौल बिगाड़ने की कोशिश हुई, लेकिन इसे सफल नहीं होने दिया। आमजन से यही अपील है कि अफवाह फैलाने वालों से सावधान रहें। 
- समीर कुमार सिंह, डीसीपी (वेस्ट) 

शांति बहाली: दोनों वर्गों की दो दौर की वार्ता से निकला रास्ता 

पुलिसउपायुक्त समीर कुमार सिंह के साथ दोनों पक्षों के प्रमुख लोगों की वार्ता सूरसागर थाने में हुई। दोनों ही पक्षों ने तनाव के लिए दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की। इनमें भाजयुमो जिलाध्यक्ष महेंद्र तंवर, मुकेश लोढ़ा, पंडित राजेश दवे, महेंद्र सिंह राजपुरोहित, मोहम्मद आरिफ कुरैशी, अब्दुल सत्तार कुरैशी, शहजाद भाई, बाबू भाई सहित कई अन्य लोग शामिल थे। वार्ता के बाद सूरसागर पुलिस ने शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार युवकों को कोर्ट में पेश किया। वहां उनकी जमानत स्वीकार कर ली गई। जुलूस के रूट में बदलाव करने की जिद और पथराव की अफवाहों से एक बार तनाव बढ़ा, लेकिन पुलिस ने बताया कि किसी ने पथराव नहीं किया है, तो जुलूस आगे बढ़ गया। 

No one filed a lawsuit even after 24 hours of fight and riot
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now