Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» Padmavat Film Show In Jodhpur For Court Justice

पद्मावत फिल्म का राजस्थान में एक शो, दर्शक सिर्फ जस्टिस मेहता की बेंच

याचिकाकर्ता फिल्म उपलब्ध कराएंगे और पुलिस कमिश्नरेट सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करेंगे।

Bhaskar News | Last Modified - Feb 03, 2018, 02:15 AM IST

  • पद्मावत फिल्म का राजस्थान में एक शो, दर्शक सिर्फ जस्टिस मेहता की बेंच
    +2और स्लाइड देखें

    जोधपुर. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद राजस्थान में प्रतिबंधित फिल्म पद‌्मावत का एक शो जोधपुर में सोमवार को होगा। सिनेमा हॉल कोर्ट रूम बनेगा, दर्शकों में होगी हाईकोर्ट जस्टिस संदीप मेहता की बेंच। शो भी इसलिए क्योंकि फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली व कलाकारों के खिलाफ भावनाएं भड़काने व आहत करने की एक एफआईआर डीडवाना में दर्ज है और उस एफआईआर को निरस्त करने के लिए भंसाली की ओर से याचिका दायर हो रखी है। इस याचिका पर फैसला करने के लिए जस्टिस मेहता ने फिल्म की स्क्रीनिंग करने के आदेश दिए हैं। याचिकाकर्ता फिल्म उपलब्ध कराएंगे और पुलिस कमिश्नरेट सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करेंगे। फिल्म देखने के बाद तय होगा कि एफआईआर निरस्त होने योग्य है या नहीं, इस पर दूसरे ही दिन मंगलवार को सुनवाई होगी।

    तीन घंटे के लिए कोर्ट रूम बनेगा सिनेमा हॉल, अगले दिन सुनवाई में फैसला संभव

    केस:वीरेंद्र सिंह और नागपाल सिंह राठौड़ ने डीडवाना थाने में फिल्म में धार्मिक भावना भड़काने, भद्दे सीन दर्शाए जाने और इतिहास के साथ छेड़छाड़ करने के आरोप लगाते हुए भंसाली, फिल्म अभिनेता रणवीर सिंह व अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी। तीनों की ओर से एफआईआर को निरस्त करने के लिए सीआरपीसी की धारा 482 के तहत हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई है।

    सुनवाई: कोर्ट ने पिछली सुनवाई में कहा था कि फिल्म देखे बिना तय नहीं कर सकते कि धार्मिक भावना भड़काई या नहीं। भंसाली के अधिवक्ता रवि भंसाली व निशांत बोड़ा ने बताया कि सुरक्षा देने पर फिल्म दिखा देंगे। कोर्ट ने पूछा, कब तक, जवाब मिला- कल ही दिखाने को तैयार हैं। कोर्ट ने याचिकाकर्ता को निर्देश दिए 9 फरवरी या इससे पूर्व जगह तय कर लेंे। कोर्ट ने ज्यूडिशियल एकेडमी के ऑडिटोरियम या अन्य सिनेमा हॉल का सुझाव दिया।

    बहस:लंच के बाद एएजी शिवकुमार व्यास, पुलिस कमिश्नर राठौड़ व डीसीपी पूर्व डॉ. अमनदीप कपूर पेश हुए। पुलिस कमिश्नर ने दो सप्ताह की मोहलत मांगी। जस्टिस ने नाराजगी जताते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश में स्पष्ट है कि फिल्म प्रदर्शन के लिए राज्य सरकार सुरक्षा व्यवस्था करे। भंसाली के अधिवक्ता बोड़ा ने आग्रह किया कि फिल्म हाई रेज्युलेशन में बनी है, इसलिए ज्यूडिशियल एकेडमी के ऑडिटोरियम में यह संभव नहीं होगी।

    फैसला:कोर्ट ने पूछा कहां दिखाना चाहते तो अधिवक्ता ने जवाब दिया कि सत्यम (आइनोक्स) सिने प्लेक्स में बेहतर रहेगा। पुलिस कमिश्नर व एएजी ने व्यवस्था करने के लिए थोड़ी मोहलत मांगी, इस पर कोर्ट ने 5 फरवरी को किसी भी उपयुक्त हॉल में फिल्म की स्क्रीनिंग करने और पुलिस को सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम करने के निर्देश दिए हैं। याचिका पर अगली सुनवाई 6 फरवरी को होगी।

    अब शो की तैयारी
    - पुलिस कमिश्नरेट की ओर से एएजी को चिट्‌ठी लिखी जाएगी, जिसमें फिल्म दिखाने वालों से पूछा जाएगा कि स्क्रीनिंग के दौरान फिल्म कितने लोग देखेंगे, कहां देखेंगे और शो का समय क्या होगा? कमिश्नर राठौड़ ने बताया कि प्लान के मुताबिक सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे।
    - चूंकि शो के समय सिनेमा हॉल कोर्ट रूम हाेगा, इसलिए उसमें जस्टिस मेहता की बेंच ही होगी और कोई नहीं। याचिकाकर्ता के वकील बोड़ा ने बताया कि उन्हें यह फिल्म सिर्फ कोर्ट को दिखानी है। एफआईआर कराने वाले पक्ष को नहीं क्योंकि फिल्म रिलीज हो चुकी है इसलिए वे कहीं भी जाकर देख सकते हैं।

  • पद्मावत फिल्म का राजस्थान में एक शो, दर्शक सिर्फ जस्टिस मेहता की बेंच
    +2और स्लाइड देखें
  • पद्मावत फिल्म का राजस्थान में एक शो, दर्शक सिर्फ जस्टिस मेहता की बेंच
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×