--Advertisement--

इस महिला को पुलिस ने लिया है रिमांड पर, कुछ ऐसा क्राइम किया है इसने

लिस दल पर हमले के बाद वह अपने पति और उसके दोस्त दीपाराम के साथ भाग गई थी।

Danik Bhaskar | Dec 19, 2017, 04:06 AM IST
हमले के बाद यह महिला अपने पति और उसके दोस्त दीपाराम के साथ चूनाभट्टा से भाग गई थी। हमले के बाद यह महिला अपने पति और उसके दोस्त दीपाराम के साथ चूनाभट्टा से भाग गई थी।

पाली . राजस्थान की जैतारण पुलिस ने 15 दिसंबर को चेन्नई पुलिस पर हमले के आरोप में तेजाराम जाट, उसकी पत्नी विद्यादेवी और बेटी सुगना को गिरफ्तार किया। आरोपी तेजाराम को सोमवार को कोर्ट के आदेश पर जेल भेजा गया, जबकि पत्नी और बेटी को 16 दिसंबर को जेल में भेज दिया था।

- पूछताछ में विद्यावती ने बताया कि पुलिस दल पर हमले के बाद वह अपने पति और उसके दोस्त दीपाराम के साथ चूनाभट्टा से भागी थी।

- इस बारे में उससे गहनता से पूछताछ कर चेन्नई से चोरी हुए जेवरात के बारे में भी पता लगाया जा रहा है।

इंस्पेक्टर को लगी बुलेट अब तक नहीं मिली

- चेन्नई पुलिस के इंस्पेक्टर को लगी बुलेट अब तक नहीं मिल पाई है।

- पुलिस के साथ एफएसएल की टीम ने घटनास्थल के आसपास का इलाका छान मारा, मिटटी की मेटल डिटेक्टर से जांच कराई गई, लेकिन इंस्पेक्टर के शरीर को छलनी कर निकली गोली नहीं मिली।
- अब पुलिस को बैलेस्टिक एक्सपर्ट की राय और एफएसएल की रिपोर्ट के साथ नेचर ऑफ मार्क के मिलान की रिपोर्ट का इंतजार है।

- यह रिपोर्ट मिलने के बाद पाली पुलिस इंस्पेक्टर की मौत के मामले में आगे की कार्रवाई करेगी और तथ्यात्मक जांच रिपोर्ट चेन्नई पुलिस को भी भेजेगी।

- इस जांच रिपोर्ट के बाद चेन्नई पुलिस इस पूरे प्रकरण की विभागीय जांच करेगी।

क्या है पूरा मामला

- गत 16 नवंबर को चेन्नई में महालक्ष्मी ज्वैलर्स की दुकान की छत में सुराख कर साढ़े तीन किलो सोना, पांच किग्रा चांदी व लाखों रुपए चोरी हो गए थे।

- ज्वैलर बाबरा हाल चेन्नई निवासी सुरेश जैन ने रामावास निवासी नाथूराम पिंडेल, खारिया नींव निवासी दीपाराम जाट व बिलाड़ा के घाणा मगरा निवासी दिनेश चौधरी के खिलाफ केस दर्ज कराया था।

-आरोपियों को पकड़ने के लिए चेन्नई के कोलातुर थाने के इंस्पेक्टर पेरियापांडियन ने अपने साथी इंस्पेक्टर मुनी शेखर, दो हेड कॉन्स्टेबल और एक कॉन्स्टेबल के साथ आरोपी नाथूराम के भाई तेजाराम के करोलिया सरहद में चूनाभट्टा पर 12 दिसंबर की रात को दबिश दी।

- इस दौरान ढाई बजे चेन्नई के पुलिस दल पर आरोपियों की महिलाओं ने पत्थरों और लाठियों से हमला बोला था।

साथी तो बच निकले, पेरियापांडियन फाटक पर फंस गए

- हमले के दौरान इंस्पेक्टर मुनी शेखर समेत चारों पुलिसकर्मी जान बचाकर दीवार फांद कर बाहर की तरफ चले गए, लेकिन भागते समय इंस्पेक्टर पेरियापांडियन लोहे की फाटक पर चढ़ गए। फाटक के ऊपर लोहे की एंगल निकली हुई थी, जिससे वे फाटक पर ही फंस गए।

- इसी दौरान बाहर खड़े इंस्पेक्टर मुनी शेखर ने हमलावरों पर फायर करने के लिए पिस्टल निकाली और उसे अनकॉक करते समय ही एक्सीडेंटल गोली चली, जो इंस्पेक्टर पेरियापांडियन की बांह के नीचे लगते हुए आरपार हो गई जिससे उनकी मौत हो गई।

चेन्नई पुलिस के इंस्पेक्टर टीवी पेरियापांडियन को श्रद्धांजलि देते हुए चेन्नई पुलिस की महिला टीम। चेन्नई पुलिस के इंस्पेक्टर टीवी पेरियापांडियन को श्रद्धांजलि देते हुए चेन्नई पुलिस की महिला टीम।
चेन्नई पुलिस के इंस्पेक्टर टीवी पेरियापांडियन की मौत साथी की गोली लगने से हो गई थी। घटना स्थल का मुआयना करने पहुंचे पुलिस अफसर। चेन्नई पुलिस के इंस्पेक्टर टीवी पेरियापांडियन की मौत साथी की गोली लगने से हो गई थी। घटना स्थल का मुआयना करने पहुंचे पुलिस अफसर।
चेन्नई पुलिस के इंस्पेक्टर टीवी पेरियापांडियन। चेन्नई पुलिस के इंस्पेक्टर टीवी पेरियापांडियन।
चेन्नई पुलिस के इंस्पेक्टर टीवी पेरियापांडियन को लगी साथी इंस्पेक्टर टीएम मुनी शेखर  की पिस्टल से बुलेट अब तक नहीं मिल पाई है। चेन्नई पुलिस के इंस्पेक्टर टीवी पेरियापांडियन को लगी साथी इंस्पेक्टर टीएम मुनी शेखर की पिस्टल से बुलेट अब तक नहीं मिल पाई है।