--Advertisement--

पुलिस ने महिला समर्थकों को पीटा, आसाराम के वकील ने विरोध किया तो धक्के मार हटाया

सुराणा पुलिस पर महिलाओं को लाठियों से पीटने का आरोप लगाते रहे।

Dainik Bhaskar

Jan 07, 2018, 07:50 AM IST
आसाराम के वकील ने पुलिस कार्रवाई का विरोध किया तो पुलिस उनसे भी उलझ पड़ी। आसाराम के वकील ने पुलिस कार्रवाई का विरोध किया तो पुलिस उनसे भी उलझ पड़ी।

जोधपुर. आए दिन आसाराम के समर्थकों पुलिस में बढ़ती झड़प शनिवार को चरम पर पहुंच गई। उदयमंदिर थानाधिकारी मदन बेनीवाल अासाराम के अधिवक्ता सज्जनराज सुराणा के बीच तीखी नोकझोंक भी हुई। फिर आवेश में आते हुए बेनीवाल ने सुराणा को धक्का देकर मौके से हटाया। बाद में कुछ वकीलों ने बीच-बचाव कर मामला शांत करवाया। सुराणा पुलिस पर महिलाओं को लाठियों से पीटने का आरोप लगाते रहे।

कुछ महिला समर्थकों को पुरुष कांस्टेबल ने महिला कांस्टेबल के साथ जबरन खींचकर जीप में बिठाया। वहीं दूसरी ओर अासाराम के मामले में शनिवार को भी सुनवाई अधूरी रही, अगली सुनवाई 16 जनवरी को होगी।

शनिवार को कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस आसाराम को लेकर कोर्ट पहुंची। आसाराम के आते ही महिला पुरुष समर्थकों में आसाराम के दर्शन करने के लिए होड़ लग गई। कई समर्थक आसाराम के नजदीक चले गए। पुलिस ने समर्थकों को मौके से हटाकर आसाराम को कोर्ट रूम में पहुंचाया। इस बीच अव्यवस्था की सूचना मिलने पर थोड़ी देर बाद उदयमंदिर थानाधिकारी मदन बेनीवाल भी जाब्ते के साथ कोर्ट पहुंच गए।

आसाराम की पैरवी कर अधिवक्ता सुराणा कोर्ट रूम से बाहर गए और वे जिला सेशन न्यायालय के बाहर मीडियाकर्मियों से सुनवाई के संबंध में बातचीत कर रहे थे। इस बीच पुलिस महिला समर्थकों को डंडे बरसाते हुए भगा रही थी। थानाधिकारी बेनीवाल भी महिलाओं को लाठी मारते हुए मौके से हटा रहे थे। महिलाओं को पिटता देख अधिवक्ता सुराणा ने मीडियाकर्मियों से बातचीत बीच में छोड़कर बेनीवाल को टोका और बोले-क्यों लाठी चला रहे हैं? वे आसाराम के एडवोकेट हैं? इसकी वे शिकायत करेंगे। शिकायत की बात सुनते ही बेनीवाल बिगड़ गए और सुराणा को धक्के मारकर मौके से हटाया। इस पर वहां मौजूद आसाराम के समर्थकों कुछ वकीलों ने आपत्ति जताई।

सुराणा कहते रहे कि महिलाओं काे लाठियां मारते हो, यह गलत है? इस पर पुलिस और गुस्सा हो गई और वहां मौजूद समर्थकों पर लाठियां भांजकर उन्हें मौके से हटाया। इस बीच कुछ महिला समर्थकों को पुलिस ने जबरन खींचकर जीप में बिठाया। पुरुष कांस्टेबलों ने भी महिला समर्थकों के हाथ खींचे और उन्हें जीप में बिठाने में महिला कांस्टेबलों की मदद की। इस पर आसाराम के अन्य समर्थकों आसाराम के वकील ने कड़ी आपत्ति जताई। जब आसाराम कोर्ट से वापस आया तो उसने भी साधकों पर आंखें निकाल कर उन्हें शांत रहने की नसीहत दी, लेकिन बेकाबू समर्थक उनके इशारे भी अनसुने करते रहे।

X
आसाराम के वकील ने पुलिस कार्रवाई का विरोध किया तो पुलिस उनसे भी उलझ पड़ी।आसाराम के वकील ने पुलिस कार्रवाई का विरोध किया तो पुलिस उनसे भी उलझ पड़ी।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..