जोधपुर

--Advertisement--

करंट लगाकर लड़की से करा रहे थे गंदा काम, 5 महीने दोस्त ने किया था ऐसा

लियर में करीब 5 महीने तक उससे अनैतिक काम कराने के बाद धौलपुर के धीमरी गांव में छोड़ दिया।

Dainik Bhaskar

Dec 03, 2017, 04:10 AM IST
Police freed  girl from accused

धौलपुर। मुंबई में रहने वाली 20 साल की लड़की को उसकी दोस्त ने ग्वालियर में बेच दिया। ग्वालियर में करीब 5 महीने तक उससे अनैतिक काम कराने के बाद धौलपुर के धीमरी गांव में छोड़ दिया। यहां करीब 20 दिन से उससे गलत काम करवाया जा रहा था। युवती के विरोध करने पर उसे करंट लगाते और मारपीट करते। पानी में नशीली गोलियां मिलाकर खिलाई जाती थी। शनिवार को सदर थाना पुलिस और मानव तस्करी यूनिट ने कार्रवाई कर युवती को आरोपियों के चंगुल से छुडवाया। इस पर उसने अपने साथ हुई आपबीती को बताया।

11 नवंबर को लाई गई थी धौलपुर
- युवती ने बताया कि करीब 5 महीने तक ग्वालियर में रखने के बाद 11 नवंबर को उसे धौलपुर के धीमरी गांव में आरोपी ले आए। इसके बाद यहां पर भी उसे अनैतिक काम के लिए मजबूर किया गया।
- उसने ने आरोप लगाकर कहा कि वह अनैतिक काम करने से मना करती थी तो आरोपी उसके साथ मारपीट करते थे। वह फिर भी नहीं मानती थी तो करंट लगाते थे और पानी में मिलाकर कुछ पिला देते थे। इससे वह नशे में जाती थी

दोस्त के साथ घूमने आई ग्वालियर, रेशमपुरा में छोड़ा

- 20 साल युवती ने बताया कि वह मूलत: पाली की रहने वाली है। वह मुंबई में अपने भाई के पास रहती थी। वहां पर उसकी दोस्त की एक दोस्त से उसकी दोस्ती हुई। उसकी दोस्त ने ग्वालियर घूमने के लिए कहा। दोस्त के साथ वह करीब 6 महीने पहले ग्वालियर आई थी।
- उसकी दोस्त ने ग्वालियर में रेशमपुरा में उसे एक घर में छोड़ दिया, जहां पर उसे बंधक बनाकर रखा गया। वहां पर उससे मारपीट कर करंट लगाकर वेश्यावृत्ति करने के लिए मजबूर किया गया।
- युवती ने बताया कि करीब 5 महीने तक उसे ग्वालियर में रेशमपुरा और बदनापुरा में रखा गया और गलतकाम करवाया गया। फिर धौलपुर भेज दिया गया।
- लड़की ने बताया कि माता-पिता की पहले ही मृत्यु हो चुकी है।

ऐसे हुआ खुलासा : गलत काम के लिए आने वाले व्यक्तियों से लगाई थी बचाने की गुहार
- आरोपियों के चंगुल से निकली लड़की ने बताया कि आरोपी उसके पास जिसे भी भेजते थे, वह उनसे इस दलदल से निकालने की गुहार लगाती थी।
- यही नहीं युवती ने बताया कि उसने एक युवक को अपने घर का पता भी लिखकर दिया था। उसमें अपने परिचित का नंबर भी दिया था।
- युवती ने युवक से यहां से निकलने की काफी गुहार लगाई थी। इसके बाद उस युवक ने कई लोगों को धीमरी गांव में बंधक बनी युवती की दास्तां बताई और उसे बचाने की कही। युवक की बात हवा की तरह शहर में ऐसी फैली कि पुलिस और प्रशासन तक भी पहुंच गई थी।

धीमरी में पहले भी सामने आ चुके हैं अनैतिक काम के कई मामले
- पुलिस के अनुसार, इस गांव में बेड़िया जाति के 30-35 परिवार रहते हैं। यहां पर अधिकांश लड़कियां और अधिकांश लोग अनैतिक काम के धंधे से जुड़े हैं। यहां पर इस धंधे को बड़ी सजगता से अंजाम दिया जाता है।
- इस गांव में पहले में भी पुलिस कई बार दबिश देकर युवतियों को छुड़ा चुकी है। कुछ महीने पहले मध्यप्रदेश की पुलिस ने भी धीमरी में छापामार कार्रवाई की थी। एकबार तो पूरे गांव के लोग ही - पुलिस के डर से गांव छोड़ कर भाग गए। वहीं बीते दिन यहां से कुछ नाबालिगों को भी इसी धंधे में धकल दिया था। तब भी पुलिस ने कार्रवाई की थी।
बता दें कि पुलिस की ओर से यहां पर समय समय पर कार्रवाई तो की जाती है पर कभी भी स्थाई समाधान नहीं निकाला जा रहा है। इस कारण कुछ दिन बाद ही यह धंधा यहां पर जोर पकड़ने लगता है।

भास्कर की सूचना पर कार्रवाई : मानव तस्करी यूनिट के साथ पुलिस ने दी दबिश
- भास्कर को सूत्रों से सूचना मिली की धीमरी गांव में मुंबई की एक युवती को बंधक बनाकर अनैतिक काम करवाया जा रहा है। इसके बाद टीम ने युवती की सूचना एसडीएम ओपी सहारण और सदर थाना एसएचओ मो.नियाज को दी। सदर थाना एसएचओ मो. नियाज ने युवती के बारे में सुनकर कहा कि उन्हें इसकी सूचना मिल चुकी है।
- भास्कर की सूचना के बाद पुलिस ने शुक्रवार को मुखबिर को भेजकर मामले की जांच करवाई, जो कि सूचना सही पाई गई। फिर शनिवार को पुलिस ने मानव तस्करी यूनिट के साथ ज्वाइंट ऑपरेशन कर 20 साल की लड़की को आरोपियों के चंगुल से मुक्त करवाया। कार्रवाई में मानव तस्करी यूनिट के इंचार्ज बनय सिंह, कांस्टेबल वासुदेव, लखन राम, नटवर, ओमवीर, महिला कांस्टेबल बृजलता मौजूद थी।

Police freed  girl from accused
X
Police freed  girl from accused
Police freed  girl from accused
Click to listen..