Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» Rail Thieves Gang Busted In Jodhpur

फार्म में भरते थे रेलवे इंजीनियर का नंबर, टिकट कन्फर्म की जानकारी पर दबिश

एक दिन में चेन्नई एक्स. और सूर्यनगरी एक्स. में 80 यात्रियों का लगेज चोरी हुआ था, 6 लाख के जेवर बरामद

Bhaskar News | Last Modified - Feb 15, 2018, 06:10 AM IST

फार्म में भरते थे रेलवे इंजीनियर का नंबर, टिकट कन्फर्म की जानकारी पर दबिश

जोधपुर. लंबी दूरी की ट्रेनों में लूट और चोरी की वारदात करने वाले गिरोह का पर्दाफाश जीआरपी ने किया है। जीआरपी ने गिरोह के 2 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से 6 लाख रुपये के सोने के गहने भी बरामद हुए हैं। 28 नवंबर को चेन्नई से जोधपुर आ रही सुपरफास्ट और बांद्रा टर्मिनस से आने वासी सूर्यनगरी एक्सप्रेस से 80 यात्रियों के लगेज चोरी हो गए थे। थी। इनमें सूरत निवासी कारोबारी सुरेश चांडक परिवार के साथ जोधपुर में एक शादी में आ रहे थे। 21 नवंबर को सूर्यनगरी एक्सप्रेस के सैकंड एसी कोच में सफर कर रहे थे। रास्ते में किसी ने सूटकेस से 22 तोला सोने के आभूषण और एक लाख रुपए की घड़ी चुरा ली थी। यह पूरा मामला बड़े रोचक तरीके से खुला।

आरोपियों ने रिजर्वेशन फार्म में लिखा था रेलवे इंजीनियर का नंबर

पूरा मामला पटना में तैनात एक रेलवे इंजीनियर के मोबाइल नंबर से खुला। आरोपियों ने रिजर्वेशन फार्म पर रेलवे इंजीनियर का मोबाइल नंबर लिख रखा था। चोरी की घटना के बाद यात्रियों ने कोच में सफर कर रहे कुछ लोगों पर आशंका जताई थी। पुलिस ने इस आधार सभी रिजर्वेशन फार्म चेक कराए। इस उन्हें पटना में तैनात एक रेल इंजीनियर का मोबाइल नंबर मिला।

एसपी (जीआरपी, अजमेर) सुनील कुमार विश्नोई का कहना है कि उन्होंने इस पूरे मामले में रेलवे इंजीनियर के बात की तो पता चला कि उन्होंने ट्रेन में यात्री ही नहीं की। 26 जनवरी को इंजीनियर के मोबाइल नंबर पर रिजर्वेशन की सूचना मिली। उन्होंने जीआरपी को सीट नंबर और ट्रेन नंबक की जानकारी दी। इस पर आबू रोड जीआरपी के हैड कांस्टेबल चंद्रप्रकाश, कांस्टेबल हरिमोहन, घेवरचंद और ओमप्रकाश को बिहार भेजा गया।

पुलिस ने टीम ने ट्रेन से पटना के खुसरुपुर में स्टेशन रोड निवासी नंदकिशोर उर्फ नंदू उर्फ देवेंद्र उर्फ दिनेश जायसवाल (61) पुत्र देवकीलाल और बिहार के वैशाली जिले में फतेहपुर राघवपुर निवासी राजू यादव उर्फ मनोज (30) पुत्र चंद्रशेखर यादव को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने चांडक के सूटकेस से जेवर चुराने की वारदात स्वीकार कर ली। पुलिस ने इन्हें 16 फरवरी तक रिमांड पर लिया है। इनसे पुलिस फर्जी नाम के आधार कार्ड, ताले तोड़ने में प्रयुक्त कटर, पेचकस, चाकू, टॉर्च इत्यादि भी बरामद किए हैं।

वेटिंग में हावड़ा जाने का टिकट...26 जनवरी को आई कन्फर्मेशन की सूचना

जीआरपी एसएचओ दिलीप सिंह के अनुसार पटना में रेलवे इंजीनियर अनिल कुमार के मोबाइल नंबरों का बदमाशों ने दूसरी बार उपयोग किया। बदमाशों ने टिकिट काउंटर से हावड़ा से पटना तक का टिकिट 31 जनवरी के लिए कराया था, जो वेटिंग में था। 26 जनवरी को टिकिट कन्फर्म हुआ, तो इंजीनियर के मोबाइल पर इसका मैसेज आया। इसकी सूचना मिली, तो टीम अलर्ट हो गई। आबू रोड से एक टीम रवाना कर दी गई और 31 जनवरी को चिन्हित सैकंड एसी कोच में बैठे बदमाशों से पुलिस टीम ने पहले तो बातों में उलझाया और पुष्टि हुई, तो दोनों को पकड़कर आबू रोड ले आए।

ज्यादा वारदातें हावड़ा, पटना और उड़ीसा की ट्रेनों में

थानाधिकारी सिंह की टीम इन दोनों को लेकर जेवर बरामदगी के लिए बिहार के खुसरुपुर व वैशाली के नगर गांव पहुंचीं और वहां कई दिनों की मशक्कत के बाद आखिरकार 6 लाख रुपए कीमत के जेवर बरामद कर लाए। इनमें कुंदन का हार, कानों की एक जोड़ी झुमकियां, दो चेन, दो ब्रेसलेट, दो गिन्नी व अन्य आभूषण शामिल हैं। इस गिरोह ने पुलिस पूछताछ में हावड़ा, पटना, उड़ीसा सहित अन्य राज्यों में इसी तरह की वारदातें स्वीकार किया है। पुलिस इनसे राजस्थान में हुई इसी तरह की अन्य वारदातों की जानकारी ली जा रही है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×