--Advertisement--

स्वाइन फ्लू का बदला वायरस महिलाओं के लिए खतरनाक, 14 मौतें, इनमें भी 9 महिलाएं

घबराएं नहीं, बच्चे, बुजुर्ग व गर्भवती सावचेत रहें, जिन्हें पहले से बीमारियां हैं, उन्हें जागरूक रहने की जरूरत

Danik Bhaskar | Jan 25, 2018, 07:35 AM IST

जोधपुर. स्वाइन फ्लू का बदला हुआ वायरस दिनों दिन खतरनाक होता जा रहा है। यह वायरस महिलाओं पर भारी पड़ रहा है। नए साल के 24 दिन हो गए हैं। इस अवधि में 52 मरीज पॉजिटिव आ चुके हैं, जिसमें 15 की मौत हो गई है। हालात यह है कि इन 52 में से 23 मरीज तो महिलाएं ही हैं और 15 मरने वालों में भी 9 महिलाएं शामिल हैं।

राजस्थान की बात करें तो 559 मरीज पॉजिटिव आ चुके हैं जिसमें 33 की मौत हो चुकी है। अकेले जोधपुर में 15 की मौत हो चुकी है। यानी प्रदेश में मरने वालों में आधे तो जोधपुर के ही हैं। बुधवार को जोधपुर में तीन नए स्वाइन फ्लू के मरीज सामने आए। इनमें रातानाडा निवासी चार साल का एक बच्चा भी शामिल है। दूसरा 15 साल का रामदेवजी का चौक निवासी अौर तीसरा 48 साल का पुरुष पुराना गिरिधर मंदिर सिनेमा के पीछे का निवासी है। चार साल का बच्चा मिलिट्री हॉस्पिटल से और बाकी दो महात्मा गांधी अस्पताल से मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती हुए हैं।

गर्भवतियों को खतरा... प्रेग्नेंसी के 27वें से 40वें सप्ताह के बीच बरतें अधिक सावधानी

नया वायरस खतरनाक साबित होता जा रहा है। महिलाओं को यह अपनी चपेट में ले रहा है। 24 दिनों में नौ महिलाओं की मौत हो चुकी हैं। महिलाओं को विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। हालांकि जोधपुर में जिन महिलाओं की मौत हुई हैं, उनमें गर्भवती कोई नहीं थी, लेकिन डॉक्टरों का कहना है कि गर्भवती को विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। बदले हुए स्टेन के चलते मरीजों का कैटेगराइज भी चेंज हुआ है। फ्लू गर्भवती को ज्यादा प्रभावित करता है।

इसका कारण यह है कि गर्भ के समय महिलाओं में इम्यूनिटी कम हो जाती है। गर्भवती का प्रतिरोधक तंत्र (इम्यून सिस्टम) शरीर में होने वाले हॉर्मोन संबंधी बदलावों के कारण कमजोर होता है। खासतौर पर गर्भावस्था के तीसरे चरण यानी 27वें से 40वें सप्ताह के बीच उन्हें ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत है।