• Home
  • Rajasthan News
  • Jodhpur News
  • News
  • जीवन में सफलता के लिए धैर्य, साहस और संतुलन जरूरी : डॉ. पदमचंद्र
--Advertisement--

जीवन में सफलता के लिए धैर्य, साहस और संतुलन जरूरी : डॉ. पदमचंद्र

जोधपुर | जैन संत डॉ. पदमचंद्र मुनि ने कहा, कि जीवन में सफलता के लिए धैर्य, साहस और संतुलन जरूरी है। इन तीनों के समन्वय...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:50 AM IST
जोधपुर | जैन संत डॉ. पदमचंद्र मुनि ने कहा, कि जीवन में सफलता के लिए धैर्य, साहस और संतुलन जरूरी है। इन तीनों के समन्वय से ही हर बाधा दूर हो सकती है। वे रविवार को लक्ष्मीनगर में धर्मसभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने भगवान राम का उदाहरण देते हुए कहा, कि उनके जीवन में कठिनाइयां कम नहीं थीं। उन्हें वनवास मिला। सीता का अपहरण हो गया। मगर उन्होंने धैर्य नहीं खोया। उन्होंने भालुओं और बंदरों को मित्र बनाया और कड़ी से कड़ी जुड़ती गई। अपने धैर्य, साहस और संतुलन से रावण का वध किया और सीता को छुड़ाया।

लक्ष्मीनगर में आयोजित धर्मसभा में बड़ी संख्या में महिलाएं उमड़ीं।

जीवन में क्षमा भाव जरूरी : उन्होंने कहा, कि जीवन में क्षमा भाव जरूरी है। देह तो एक दिन निर्जीव होनी है। जीवन में कभी भी अहंकार न करें। जहां भी विनम्रता की आवश्यकता हो वहां विनम्र रहें और सबसे बड़ी बात क्षमा भाव जरूरी है। क्षमा भाव से सारी समस्याओं का हल हो सकता है। उन्होंने कहा, कि क्षमा भाव से आंतरिक उपलब्धियों और ऊर्जा का अकूत भंडार हो सकता है। क्षमा वह र|ाकर है, जिसमें र|ों का खजाना छिपा है। संत सोमवार को सुबह लक्ष्मीनगर से विहार कर महावीर भवन दाधीच नगर पहुंचेंगे।