• Home
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • दलित समाज का बंद आज, 1400 सफाईकर्मी छुट‌‌्टी पर
--Advertisement--

दलित समाज का बंद आज, 1400 सफाईकर्मी छुट‌‌्टी पर

एससी-एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में दलित सगठनों की ओर से सोमवार को प्रस्तावित भारत बंद में कई...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:50 AM IST
एससी-एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में दलित सगठनों की ओर से सोमवार को प्रस्तावित भारत बंद में कई संगठन एकजुट हो गए हैं। बंद समर्थक जालोरी गेट पर एकत्रित होंगे और यहां से शहर के अलग-अलग हिस्सों में जाएंगे। इसके बाद में आखलिया से पावटा तक रैली निकाली जाएगी और रैली सभा में तब्दील होगी। सभा के बाद में कलेक्टर को राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री के नाम का ज्ञापन सौपा जाएगा। शैक्षणिक संस्थाओं व आपातकालीन सेवाओं को बंद से मुक्त रखा गया है। बंद के दौरान नगर निगम में कार्यरत करीब 1400 सफाई कर्मचारी अवकाश पर रहेंगे। इससे सफाई व्यवस्था भी गड़बड़ा सकती है। दलित वर्ग से जुडे अधिकारी और कर्मचारी भी स्वैच्छिक अवकाश लेकर बंद में शामिल होंगे।

बंद के दौरान पुलिस की ओर से माकूल सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। इसके लिए विभिन्न चौराहों और बाजारों पर पुलिस के गश्ती दल और आरएएसी तैनात रहने के अलावा विभिन्न थानों के स्टाफ को भी लगाया गया है। डीसीपी मुख्यालय व यातायात भुवन भूषण यादव व डीसीपी ईस्ट अमनदीप सिंह कपूर ने बताया, कि किसी को भी जबरदस्ती बंद नहीं करवाने दिया जाएगा और बंद समर्थकों की रैली के दौरान पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। आमजन को किसी तरह की परेशानी न हो, इसके लिए पुख्ता प्रबंध किए गए हैं।

बैठकों में बनती रही रणनीति, कई संगठनों ने दिया समर्थन, शैक्षणिक संस्थान बंद से मुक्त

रैलियां : बंद को सफल बनाने के लिए रविवार को एससी एसटी वर्ग से जुड़े संगठनों की ओर से रैली निकाली गई। यह रैली शाम को राजकीय विद्यालय भदवासिया से आरंभ होकर शहर के विभिन्न मार्गो से होते हुए रोडवेज बस स्टैंड स्थित अंबेडकर सर्किल पर पहुंचकर संपन्न हुई। भदवासिया रैगर कन्या छात्रावास से रैगर समाज की तरफ से रैली निकाली गई। इस अवसर पर मूलाराम खोरवाल, चंपालाल नवल, अशोक बालोटिया, शंकरलाल नवल, सोनाराम, पारसमल नवल, परसराम बालोटिया सहित अनेक लोग उपस्थित थे। झालामंड दलित समाज की तरफ से रैली निकाली गई। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंका गया एवं कई लोगों ने मुंडन करवाया।

दस कमेटियों का गठन

बंद को लेकर अनुसूचित जाति अनुसूचित जन जाति महासभा की ओर से विधानसभावार दस कमेटियों का गठन किया गया है, यह बंद में सक्रिय रहेंगी। दलित नेता घनश्याम मेघवाल की अगुवाई में रविवार को हुई बैठक में रणनीति तय की गई। सुबह दस बजे दलित समाज के कार्यकर्ता जालोरी गेट पहुंचेंगे और यहां से टोलियों के रूप में बाजार बंद करवाने निकलेंगे। बैठक में ओमप्रकाश राणा, दूदाराम भाटी, मनोज कल्ला, दासलाल भील, घासीराम भाटी, बादल मेघवाल आदि शामिल हुए।

बैठकें : छात्र नेता किशन खुडिवाल, दलित शोषण मुक्ति मंच के किशन मेघवाल, शैलेष मोसलपुरिया, दलित नेता धनाराम खुड़ियाला ने अलग-अलग क्षेत्रों में बैठकें कर रणनीति बनाई। राजस्थान जटिया (रैगर) विकास सभा की ओर से अध्यक्ष ताराचंद जाटोल की अध्यक्षता में बैठक आयोजित कर बंद को समर्थन दिया। सरगरा भवन में हुई सभा में संस्थान सचिव विष्णु सरगरा ने बताया, कि बैठक में असामाजिक तत्वों से दूरी बनाते हुए शांतिपूर्वक बंद को सफल बनाने का निर्णय लिया गया। बारदाना व्यापारी एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र कुमार आर्य की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में व्यापारियों ने बंद को सफल बनाने का निर्णय लिया। मेघवाल अधिकारी कर्मचारी कल्याण संघ की बैठक नेहरू पार्क में हुई। प्रदेशाध्यक्ष धनाराम जोगावत ने बताया, कि संगठन शांतिपूर्ण बंद का समर्थन करेगा। राष्ट्रीय सफाई मजदूर कांग्रेस (इंटक) की बैठक कार्यालय में हुई। प्रदेश महासचिव प्रेम आदिवाल ने बताया कि सफाई कर्मचारी सामूहिक अवकाश पर रहेंगे। जीनगर जागृति फोर्स के अध्यक्ष डूंगरमल चौहान ने अधिनियम को पूर्व की भांति पुन: लागू करने की मांग की।

दलित संगठनों की ओर से भारत बंद की पूर्व संध्या पर प्रधानमंत्री का पुतला फूंककर विरोध प्रदर्शन किया गया।

समर्थन : राजस्थान मेघवाल परिषद और अखिल भारतीय रैगर महासभा ने भी बंद को समर्थन का निर्णय लिया। अंबेडकर युवा विकास मंडल की ओर से बंद के दौरान शांतिपूर्ण रैली निकाली जाएगी। राजस्थान प्रदेश युवा कांग्रेस के प्रदेश महासचिव पुखराज दिवराया ने बताया, कि बंद को समर्थन देंगे। स्वामी हरि रामाचार्य पीठ के महंत स्वामी आत्माराम उपाध्याय महाराज ने सभी दलित समाज व संगठनों से बंद शांतिपूर्वक रखकर सफल बनाने की अपील की। सांगरिया फांटा व्यापारी संस्थान के अध्यक्ष संतोष सारण के अनुसार सांगरिया व्यापार मंडल बंद का समर्थन करेगा। दलित सेना राजस्थान के जिलाध्यक्ष सागर मेघवाल ने, बैतमाल कमेटी ने बंद का समर्थन किया है। राजस्थान धोबी महासभा, धोबी संस्थान ने एक्ट पर पुनर्विचार करने की मांग की है। भीमराव अंबेडकर सेवा समिति और जमींदारा पार्टी ने बंद को समर्थन दिया है। युवा प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष रजनीश मिश्रा ने बताया, कि 3 अप्रैल को युवा प्रदेशाध्यक्ष विजय नायक के नेतृत्व में कलेक्टर को ज्ञापन दिया जाएगा। भारतीय जाटव समाज ने भी बंद को समर्थन दिया है। संस्था के सोहनसिंह आजाद ने कहा कि सब मिलकर बंद सफल बनाएंगे।

परशुराम सेवा दल ने विरोध जताया

सोमवार को बंद का परशुराम सेवा दल ने विरोध जताया है। इस संबंध में दल की बैठक नेहरू पार्क में आयोजित हुई। दल के विकास शर्मा के अनुसार अभी यह मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है। ऐसे में बंद समर्थकों द्वारा शहर में जबरदस्ती दुकानें बंद करवाई गई तो दल के सदस्य इसका विरोध जताएंगे।