Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» यात्रीगण कृपया ध्यान दें... जोधपुर से सूरतगढ़ और भीलड़ी के रास्ते पर वर्ष 2021 से इलेक्ट्रिक ट्रेनें चलेंगी

यात्रीगण कृपया ध्यान दें... जोधपुर से सूरतगढ़ और भीलड़ी के रास्ते पर वर्ष 2021 से इलेक्ट्रिक ट्रेनें चलेंगी

वर्ष 1992 में बड़ी रेल लाइन मिलने के 29 साल बाद जोधपुर रेल मंडल में बड़ा परिवर्तन होने वाला है। अब वर्ष 2021 में यहां...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 03:00 AM IST

यात्रीगण कृपया ध्यान दें... जोधपुर से सूरतगढ़ और भीलड़ी के रास्ते पर वर्ष 2021 से इलेक्ट्रिक ट्रेनें चलेंगी
वर्ष 1992 में बड़ी रेल लाइन मिलने के 29 साल बाद जोधपुर रेल मंडल में बड़ा परिवर्तन होने वाला है। अब वर्ष 2021 में यहां इलेक्ट्रिक ट्रेनें चलाने की तैयारी है। बरसों से रेल बजट में अटकी सूरतगढ़-फलोदी-जोधपुर-समदड़ी-भीलड़ी (फलोदी-जैसलमेर शामिल) तक 902 किमी लंबी लाइन को विद्युतीकृत किया जाएगा। इसके लिए केंद्रीय रेल विद्युतीकरण संगठन (कोर) ने इंजीनियरिंग तैयार कर निर्माण सामग्री खरीद प्रोजेक्ट तैयार करने वाले ईपीसी मोड पर इसे मूर्त रूप देने की तैयारी कर ली है। ईपीसी मोड पर कार्य होने के कारण इसके पूरे होने के दिन भी तय हैं, जो ढाई से तीन साल रखे जाएंगे। करीब 611 करोड़ के इस प्रोजेक्ट के लिए अगले माह के अंत तक कोर की ओर से ईपीसी बिड के लिए औपचारिकताएं पूरी कर ली जाएंगी। रेलवे ने पिछले बजट में पश्चिमी राजस्थान में एक रूट पर विद्युतीकरण के प्रोजेक्ट को मंजूरी दी थी। सूरतगढ़ से लालगढ़, फलोदी, जोधपुर, समदड़ी होकर भीलड़ी व जैसलमेर को शामिल करते हुए 902 किलोमीटर रेलमार्ग का खाका तैयार किया गया था। बजट में घोषणा थी, राशि नहीं मिली थी। इस साल बजट में इस प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाया, लेकिन सिर्फ 1 करोड़ फंड देकर। इस बीच रेल मंत्रालय ने विद्युतीकरण योजना के लिए अंब्रेला प्रोजेक्ट बना दिया। इसमें यह प्रोजेक्ट भी सूचीबद्ध करने से कोर ने इस प्रोजेक्ट की तैयारी कर ली।

बिड में सफल कॉन्ट्रेक्टर तय सीमा में करेगा कार्य

कोर के अनुसार ईपीसी के तहत बिड में सफल रहने वाले कॉन्ट्रेक्टर को इस रूट पर ट्रेनों को बिजली से चलाने के लिए डिजाइन, आपूर्ति और निर्माण करना होगा। इसके बाद परीक्षण भी करना होगा। इसके तहत 25 केवी, 50 हर्ट्ज एसी करंट की सिंगल फेज लाइन डाली जाएगी। योजना के तहत ओवरहेड उपकरण (ओएचई), कर्षण सब स्टेशन (टीएसएस) पर्यवेक्षण नियंत्रण और डाटा संग्रहण प्रणाली (एससीएडीए) व इलेक्ट्रिकल के अन्य कार्य किए जाएंगे।

बड़ी लाइन के 29 साल बाद बिजली की सौगात

611 करोड़ के प्रोजेक्ट में सूरतगढ़-भीलड़ी रेल लाइन विद्युतीकृत होगी

दो से तीन साल में पूरा करने का लक्ष्य

कोर के उप मुख्य अभियंता (इलेक्ट्रिकल) मृत्युंजय मिश्रा का कहना है कि ईपीसी के लिए टेंडर की प्रक्रिया अगले चार से पांच माह में पूरी कर ली जाएगी। उसके तुरंत बाद वर्क आॅर्डर जारी होगा। ईपीसी में इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के दिन तय होंगे, जो दो से तीन साल के बीच होंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×