Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» हनी-ट्रैप हो गए एक्सईएन, पहले लालच में गंवाए 55 लाख, फिर झांसे में ले ठगों को पकड़ा दिया

हनी-ट्रैप हो गए एक्सईएन, पहले लालच में गंवाए 55 लाख, फिर झांसे में ले ठगों को पकड़ा दिया

कुड़ी भगतासनी में रहने वाले प्रतापगढ़ जिला परिषद के एक्सईएन सुखाराम माचरा को एक विदेशी युवती ने हनी-ट्रैप कर लिया।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 03:50 AM IST

हनी-ट्रैप हो गए एक्सईएन, पहले लालच में गंवाए 
55 लाख, फिर झांसे में ले ठगों को पकड़ा दिया
कुड़ी भगतासनी में रहने वाले प्रतापगढ़ जिला परिषद के एक्सईएन सुखाराम माचरा को एक विदेशी युवती ने हनी-ट्रैप कर लिया। जनवरी में सोशल मीडिया फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकारी और 15 दिन में ही दोस्ती इतनी परवान चढ़ी कि वह उस युवती से सीरिया के मॉल से खरीदे गिफ्ट लेने का तैयार हो गए। एक्सईएन को फंसता देख युवती ने जाल बिछाया और हजारों अमेरिकन डॉलर भिजवाने का झांसा देकर उनसे करीब 55 लाख रुपए ठग लिए। कभी गिफ्ट कूरियर कंपनी से छुड़ाने के लिए तो कभी जीएसटी व कस्टम ड्यूटी भरने के नाम पर पैसा दिल्ली के बैंक खातों में ऑनलाइन ट्रांसफर करवाया। एक्सईएन भी हजारों डॉलर के लालच में फंस गए थे। दिल्ली की होटल में केमिकल से ब्लैक पेपर को साफ करते हुए 100 डाॅलर के नोट में बदलते देख लाखों रुपए देने को तैयार हो गए। अंतरराष्ट्रीय ठग जोधपुर में उनके घर तक आ गए। यहां आते ही उन्होंने केमिकल खरीदने के लिए 22 लाख और मांगे तो एक्सईएन समझ गए कि उनके साथ ठगी हो रही है। एक्सईएन ने उल्टी चाल शुरू की और रुपए देने के बहाने दिल्ली पहुंच गए। मयूर विहार थाने के सब इंस्पेक्टर मनोज शर्मा ने बताया कि बीस लाख देने के बहाने बुलाकर नाइजीरिया निवासी सीरवा और उनेय-डी-काशी को पकड़ा। दोनों से पूछताछ के आधार पर दिल्ली से ही मुख्य सरगना इफाइन को भी पकड़ लिया। अब दोस्ती करने वाली लड़की व उसके एक साथी की तलाश कर रहे हैं। एक्सईएन के साथ जिन लोगों ने जिस नाम से बातचीत की और पैसे लिए उनमें से किसी का भी असली नाम नहीं था। वहीं एक्सईएन से जिस नंबर पर बात हो रही थी, वो मोबाइल सिम भी बाद में बंद हो गई। जिस कूरियर से गिफ्ट आना बताया गया था, वह कूरियर कंपनी भी फर्जी थी। कूरियर छुड़ाने के लिए कस्टम ड्यूटी जमा कराने वाली मेल-आईडी भी फर्जी बना रखी थी।

सुखाराम माचरा

नोट को 100 डॉलर में बदलने के डेमो से बढ़ा था लालच काला सच देखा तो नाइजीरियन ठगों के लिए बिछाया जाल

दोस्ती

दरअसल, कुड़ी हाउसिंग बोर्ड सेक्टर 8 मकान संख्या ए-4 निवासी सुखाराम माचरा पुत्र लादूराम प्रतापगढ़ जिला परिषद में अधिशासी अभियंता के पद पर कार्यरत हैं। उन्हें गत 16 जनवरी को नाइजीरियन युवती ने अपना नाम लीना एंजल बताकर फ्रैंडशिप ऑफर की। एक्सईएन ने भी विदेशी युवती की दोस्ती सोशल मीडिया पर स्वीकार कर ली। 4 फरवरी को युवती ने उन्हें एक मैसेज किया कि सीरिया में यूनाइटेड नेशंस की तरफ से काम करने के एवज में उसे 50 हजार यूएस डॉलर मिले हैं और इस पैसे से उसने सीरिया के एक बड़े मॉल से गिफ्ट खरीदे हैं, जो केपटाउन के हेल्थ ऑफिसर एलेक्जेंडर सी लेह जिनेवा से अपना चार्टर्ड प्लेन लेकर दिल्ली आते समय दे देंगे। 15 फरवरी को एलेक्जेंडर का प्रोग्राम कैंसिल हो गया और उन्हें एलेक्जेंडर ने ये मैसेज किया कि गिफ्ट कोरियर से आएगा।

डेमाे

एक्सईएन गत 26 फरवरी को दिल्ली की बेलाविस्टा होटल में ठहरे। यहां जोसुओ एलेना तिजोरी लेकर आया और दो हजार रु. नोट की साइज के काले कागज की तीन गड्डियां दिखाई। उसने एक गड्डी को केमिकल व पाउडर के साथ दो हजार रु. के नोट से साफ कर 100 यूएस डॉलर निकाल दिए। फिर इस तिजोरी का इलेक्ट्राॅनिक लॉक लगा दिया और बोला कि दो हजार के ढाई हजार नोट यानी 50 लाख रु. की व्यवस्था करो। वो तिजोरी एक्सईएन को देकर गया। 15 मार्च को एक्सईएन 50 लाख का बंदोबस्त कर पहाड़गंज के एक होटल में ठहरे। वहां दो नाइजीरियन व चिकी पहुंचे। वे यह बोलकर पैसे ले गए कि नोटों की इस गड्डी को घर में फ्रिज में रख देना। तीन बाद हम आकर इसे नोटों और केमिकल से साफ कर देंगे।

सभी नाम व आईडी फर्जी

16 जनवरी:आई फ्रेंडशिप रिक्वेस्ट

26 फरवरी:नोट को बदला डॉलर में

एक्सईएन के साथ जिन लोगों ने जिस नाम से बातचीत की और पैसे लिए उनमें से किसी का भी असली नाम नहीं था। वहीं एक्सईएन से जिस नंबर पर बात हो रही थी, वो मोबाइल सिम भी बाद में बंद हो गई। जिस कूरियर से गिफ्ट आना बताया गया था, वह कूरियर कंपनी भी फर्जी थी। कूरियर छुड़ाने के लिए कस्टम ड्यूटी जमा कराने वाली मेल-आईडी भी फर्जी बना रखी थी।

डिपॉजिट

18 फरवरी को एक्सईएन को एक शख्स ने फोन कर कहा कि गिफ्ट पैकेट के बदले 36 हजार 550 रुपए देने होंगे और तुम यूरो कहां से लाओगे, इसलिए एसबीआई द्वारका नई दिल्ली ब्रांच में वीणादेवी के खाते में पैसे जमा करवा दो। इस पर एक्सईएन ने यह राशि ऑनलाइन जमा करवा दी। फिर दुबारा कॉल आया कि अब बोवीटो येपटो के खाते में 68 हजार 330 रुपए जमा करवाओ। एक्सईएन ने वो भी जमा करवा दिए। फिर आए कॉल की बिनाह पर जीएसटी के 1 लाख 29 हजार रुपए भी जमा करवा दिए। इसके बाद करीब 30 हजार रुपए की एक और डिलेवरी बीवीटो येपटो के खाते में जमा हुई। तीन लाख रुपए से अधिक की राशि जमा होने के बाद भी जब पार्सल नहीं पहुंचा तो कोरियर वाले को शिकायत की, उसने बोला- दिल्ली आकर पार्सल ले लो।

डिटेक्ट

केमिकल खरीदने के लिए भी जब 22 लाख रुपए की मांग की गई तो एक्सईएन को संदेह हो गया। उन्होंने यह पैसा देने की हामी भर ली और उनके जाते ही बॉक्स खोल कर देखा तो वे काले पन्ने ही निकले। वे तुरंत दिल्ली पहुंचे और 24 मार्च को मयूर विहार थाने में ठगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया। पुलिस के प्लान के मुताबिक शुक्रवार को ठगों को पैसा लेने के बहाने बुलाया गया। पैसा लेने दो नाइजीरियन युवक ही आए थे, उनमें से एक वह भी था जो 50 लाख लेने जोधपुर आया था। एक्सईएन पैसों का बैग देता उसी दौरान दिल्ली पुलिस ने दोनों युवकों को पकड़ लिया। शनिवार को उनके सरगना को भी गिरफ्तार कर लिया। अब दिल्ली पुलिस उस युवती व उसके एक अन्य साथी की तलाश कर रही है।

18 फरवरी:गिफ्ट भेज मांगे पैसे

31 मार्च:झांसे में आ फंसे ठग

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×