Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» होली के पर्व पर मारवाड़ में फिर साकार होंगी विभिन्न परंपराएं

होली के पर्व पर मारवाड़ में फिर साकार होंगी विभिन्न परंपराएं

आहोर में होली पर भाटा गेर आयोजित होती थी, जिसमें दो दलों के बीच मोटी कांटेदार दीवार बना एक-दूसरे पर पत्थर फेंके जाते...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 04:30 AM IST

होली के पर्व पर मारवाड़ में फिर साकार होंगी विभिन्न परंपराएं
आहोर में होली पर भाटा गेर आयोजित होती थी, जिसमें दो दलों के बीच मोटी कांटेदार दीवार बना एक-दूसरे पर पत्थर फेंके जाते थे। विजयी दल की ओर से भोज दिया जाता था। बुजुर्गों के अनुसार मुगल सैनिकों को खदेड़ने की यह तरकीब त्योहार बन गई, अब कोर्ट के आदेश से बंद है।

बिलाड़ा:हुणगांव में मुगल काल से नहीं किया जा रहा दहन

बिलाड़ा से 25 किमी दूर हुण गांव में एक बार गांव से निकल रही मुगल सेना के डर से लोग शुभ मुहूर्त के समय दूसरे गांवों में चले गए और मुहूर्त में रोपे गए डांडे का दहन नहीं कर पाए। वे वापस आए तब तक डांडा अंकुरित होकर हरा-भरा हो गया। तब से गांव में दहन नहीं करने की परंपरा है।

भीनमाल:युवाओं व बुजुर्गों के सामंजस्य का संदेश है घोटा गेर

भीनमाल में युवा और बुजुर्ग साफा पहने और हाथ में लाठी लेकर एक साथ गेर निकालते हैं। विभिन्न गली-मोहल्लों के युवा-बुजुर्ग एक चौराहे पर एकत्रित होकर सामूहिक गेर नृत्य करते हुए चंडीनाथ मंदिर जाते हैं। वहां पूजा-अर्चना कर गेर बड़े चोहटे के लिए रवाना होती है।

जोधपुर:श्लील गायन से मनुहार

भीतरी मोहल्लों में सगे-सगियों की मनुहार के लिए श्लील गायन की परंपरा है। नवचौकिया में मंडलेश्वर फाग व अन्य गेर दलों की ओर से, तो बनियाबाड़ा में मधुर फाग के गायक मूलसा की ओर से श्लील गायन किया जाएगा।

लोहावट:ज्वाला नहीं देखते विश्नोई

लोहावट में विश्नोई समुदाय होलिका दहन की ज्वाला नहीं देखता। विश्नोई भक्त प्रहलाद के अनुयायी हैं। वे दहन के दिन न उत्सव मनाते हैं, ना ही व्यंजन बनाते हैं। दूसरे दिन प्रहलाद के बचने की खुशी में शब्दवाणी का पाठ कर पाहल बनाते हैं, रंग लगा मिठाई खिलाते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |
Web Title: होली के पर्व पर मारवाड़ में फिर साकार होंगी विभिन्न परंपराएं
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×