Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» अनु हत्याकांड में महिला इंस्पेक्टर मंजू हिरासत में

अनु हत्याकांड में महिला इंस्पेक्टर मंजू हिरासत में

आरोपी महिला पुलिस इंस्पेक्टर। बेटियां स्कूल निदेशक के साथ थाने पहुंची। मृतका के भाई ने बताया अनु पाठक का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:10 PM IST

आरोपी महिला पुलिस इंस्पेक्टर।

बेटियां स्कूल निदेशक के साथ थाने पहुंची।

मृतका के भाई ने बताया

अनु पाठक का भाई भुवनेश्वर में रहता है। वह जब पहुंचा तब शव का पोस्टमार्टम किया गया। मेडिकल बोर्ड में शामिल डॉ एके रंजन, डॉ तापस और डॉ ओपी रब्बानी ने पोस्टमार्टम किया। कहा कि हम तीन बहन एक भाई हैं। बहनों में अनु सबसे छोटी थी। आपस में विवाद होता रहता था। लेकिन हालात यहां तक पहुंच जाएगा इसकी उम्मीद नहीं थी। इसी क्रम में शहर का एक अनजान व्यक्ति सामने आया और बमबम झा को अपनी मोटरसाइकिल में बैठा कर यह कहते हुए साथ ले गया कि मीडिया से कुछ भी कहना नहीं है।

अब तक सामने आए तथ्य

टीओपी प्रभारी ने बताया कि विनोद पाठक की अनु दूसरी प|ी थी। पहली प|ी कहां गई इसकी जानकारी बच्चों को नहीं है। वह रांची में सीएमपीडीआई में जब काम कर रहा था तब अनु की मां भी वहीं काम करती थी। अनु मेस चलाती थी साथ ही ब्यूटी पार्लर भी खोल रखा थी। इसके पहले भी दोनों में विवाद हुआ करता था। जिसमें दो बार महिला पुलिस भी जांच में पहुंची थी। विनोद पाठक का मोबाइल 20 जनवरी से ही बंद है। सारे संदिग्ध नंबर का सीडीआर निकाला जा रहा है जिसमें कुछ डिटेल मिले भी हैं।

बेटी ने इंस्पेक्टर पर लगाए आरोप, कहा-हत्या के लिए वह भी जिम्मेवार

भास्कर न्यूज | हजारीबाग

अनु पाठक हत्या कांड में बेटी कृति पाठक के बयान पर मामला दर्ज कर लिया गया। जिसमें मृतका के पति विनोद पाठक को नामजद बनाया गया है। बयान में आए नाम के आधार पर पुलिस ने बुधवार दोपहर में पीटीसी की पुलिस इंस्पेक्टर मंजू ठाकुर को हिरासत में लिया है। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।

इधर, आरोपी पति विनोद पाठक मंगलवार सुबह से फरार है। पुलिस उसके लोकेशन को ट्रेस करने में जुटी है। मंगलवार को शाम तक शहर के शिवपुरी में मौजूदगी का लोकेशन पता चला फिर चार बजे शाम से ट्रेसआउट है। हिरासत में ली गई महिला पुलिस पदाधिकारी मंजू ठाकुर का कहना है कि इस घटना से उसका कोई लेना देना नहीं है। विनोद पाठक से व्यावसायिक संबंध रहा है। मृतका की बेटी कृति बेवजह फंसा रही है। जबकि थाने में पुलिस की मौजूदगी में कृति ने काउंटर डिस्कशन में महिला पुलिसकर्मी से कहा कि तुम मम्मी की हत्या की जिम्मेदार हो। तुम मेरे घर पर आती थी। रुकती भी थी। पापा के साथ राजस्थान भी गई थी। जबकि पुलिस अधिकारी ने कहा कि विनोद पाठक से वर्ष 2013 में पतंजलि योग पीठ के माध्यम से परिचय बना। हम भारत स्वाभिमान ट्रस्ट से जुड़ कर काम करते रहे। दोनों ने पार्टनरशिप में मटवारी में ऑफिस सह दुकान खोला। हम कंपनी की ओर से राजस्थान टूर में गए थे। इधर कुछ ऐसे संदिग्ध भी दिखे जिनकी भूमिका बच्चों का हमदर्द बन कर उनपर निगरानी करने जैसी थी। वे मृतका के भाई को मीडिया से दूर रखने में जुटे थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×