--Advertisement--

4 दिनों से भूख हड़ताल पर बैठी कैंडिडेट्स का सब्र टूटा, विधायक को सुनाई खरी-खरी

अनशन स्थल पर पहुंचे भाजपा के नेताओं और विधायक को भारी आक्रोश और नाराजगी झेलनी पड़ी।

Dainik Bhaskar

Nov 17, 2017, 08:29 AM IST
सांत्वना देने पहुंचे तो रो पड़े सांत्वना देने पहुंचे तो रो पड़े

डूंगरपुर. शिक्षक भर्ती 2013 के मामले में अनशन स्थल पर पहुंचे भाजपा के नेताओं और विधायक को भारी आक्रोश और नाराजगी झेलनी पड़ी। अभ्यर्थियों ने विधायक देवेंद्र कटारा, पूर्व काबिना मंत्री कनकमल कटारा और जिला प्रमुख माधवलाल वरहात को खरी-खोटी सुनाई। उन्होंने भाजपा और प्रदेश सरकार की निष्क्रियता पर सवाल उठाते हुए अब राजनीति करने का आरोप लगाया।

- अभ्यर्थियों ने पूर्व काबिना मंत्री को कहा कि चार साल से मंत्री, विधायक, जिलाध्यक्ष और जिला प्रमुख के चक्कर काटे तब तक कोई सुध लेने वाला नहीं था। अनशन शुरू किया तब भी कोई सुनने वाला नहीं था। अब बगैर राजनीति मदद के काम होने आ रहा है तो श्रेय लेने आ गए हो।
- अभ्यर्थियों के आक्रोशित होने के दौरान महिला अभ्यर्थी सीमा मनात पत्नी गणेशलाल मनात अचानक नेताओं के सामने बेहोश हो गई। इसके बाद पूरा माहौल गमगीन हो गया। 108 एम्बुलेंस बुलाकर महिला अभ्यर्थी को अस्पताल में भर्ती कराया गया। इससे पूर्व समानता मंच के संरक्षक दिग्विजयसिंह चूंडावत के नेतृत्व में प्रतिनिधी मंडल कलेक्टर से मिला।
- कलेक्टर से जयपुर स्तर पर विधि और वित्त विभाग के मध्य चल रही वार्तालाभ की जानकारी दी। साथ ही विधि से संबंधित तकनीकी कारणों को समझाया। ऐसे में पूरे मामले में शुक्रवार को फैसला आने की उम्मीद हैं।

सीईओ को नोटिस

जिला परिषद सीईओ परशुराम धानका को गुरुवार को 17 सीसी नोटिस जारी किया गया। बुधवार को बगैर सूचना के मुख्यालय से गायब होने के बाद गुरुवार को उन्होंने पुरानी तारीख में कलेक्टर के समक्ष छुट्टी का प्रार्थना पत्र दिया। जिस पर कलेक्टर ने उसके विरुद्ध कार्रवाई करते हुए 17 सीसीए नोटिस जारी किया। वहीं शिक्षक प्रकरण में लापरवाही पर पंचायतीराज में कार्रवाई की गई।

महिला ने कहा - विकलांग होने के बावजूद अनशन
विकलांग अभ्यर्थी निवृत्ता पंचाल ने अनशन स्थल पर रोते हुए पूरे माहौल को गमगीन कर दिया। निवृत्ता ने बताया कि विकलांग होने के बावजूद तीन मंजिला रीट कोचिंग सेंटर में जाती थी। नियुक्ति मिलने की आस में रोज 10 किमी. दूर मुख्यालय पर आती हूं। ऐसे में चौथे दिन से सिर्फ निराशा ही मिल रही है। ऐसा कहते ही अनशन स्थल पर सारी महिला अभ्यर्थियों रोने लग गई।

X
सांत्वना देने पहुंचे तो रो पड़ेसांत्वना देने पहुंचे तो रो पड़े
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..