आस्था / बेंगलुरू से साइकिल पर 2700 किलोमीटर के सफर पर रवाना हुए 29 प्रवासी, 4 सितंबर को पहुंचेंगे रामदेवरा

बेंगलुरू से रामदेवरा के लिए रवाना होता दल। बेंगलुरू से रामदेवरा के लिए रवाना होता दल।
X
बेंगलुरू से रामदेवरा के लिए रवाना होता दल।बेंगलुरू से रामदेवरा के लिए रवाना होता दल।

  • पंद्रह साल से लगातार बेंगलुरू से रामदेवरा पहुंचते हैं जालोर के प्रवासीबंधु 

दैनिक भास्कर

Aug 05, 2019, 10:17 AM IST

जालोर. व्यवसाय की मजबूरी के चलते भले ही अन्य प्रदेशों में जाना पड़ा हो, लेकिन भक्ति भावना जब हिलोरे मारती है तो ये लोग अपने आराध्य देव के दर्शन करने सैकड़ों किलोमीटर के सफर पर निकल पड़ते है। ऐसे ही बेंगलुरु में निवास कर रहे 29 प्रवासी जालोरवासी बंधुओं का एक दल रविवार को वहां से साइकिलों पर रामदवेरा के लिए रवाना हुआ। यह दल 2700 किलोमीटर का सफर तय कर चार सितम्बर को रामदेवरा में लोक देवता बाबा रामदेव के दर्शन करने पहुंचेगा। जालोर प्रवासी पंद्रह वर्ष से लगातार साइकिलों पर बेंगलुरु से रामदेवरा की यात्रा कर रहा है। 


29 प्रवासियों का दल बेंगलुरू से साइकिल पर हुआ रवाना 
एसपी रोड बेंगलुरू निवासी चौधरी मालाराम पटेल ने बताया कि पिछले पन्द्रह वर्षों से जालोर के प्रवासी व्यवसायी बेंगलुरू से साइकिल पर रवाना होकर बाबा रामदेव के दर्शन करने निकलते हैं। करीब 2700 किलोमीटर की दूरी पार कर एक महीने में रुणिचाधाम पहुंचते हैं। जहां खुशहाली और शांति की कामना करते हैं। इस दल में इस बार 29 दर्शनार्थी शामिल है। 


यात्रा रवानगी की पूर्व संध्या पर हुआ भक्ति कार्यक्रम 
रुणिचाधाम के दर्शनार्थ साइकिल यात्रा के रवानगी की पूर्व संध्या पर बेंगलुरू में भक्ति कार्यक्रम का आयोजन हुआ। प्रवासी जितेन्द्र चौधरी सराणा ने बताया कि कार्यक्रम में मारवाड़ के प्रसिद्ध भजन कलाकार रमेश माली ने बेहतरीन भजनों की प्रस्तुतियां दी। वहीं हास्य कलाकार जुगलकिशोर उर्फ पिंटिया ने हास्य प्रस्तुतियों से मनमोह लिया। कार्यक्रम में विभिन्न समाजवर्गों के प्रवासीबंधुओं ने भाग लिया। 


जालोर के मंदिरों में भी करेंगे दर्शन
बेंगलुरू एकता साइकिल यात्रा संघ के अध्यक्ष रतनसिंह राजपुरोहित मोदरा ने बताया कि बेंगलुरू से रवाना होने वाली यह यात्रा जालोर जिले के विभिन्न मंदिरों में भी दर्शन करते हुए रामदेवरा पहुंचती है। इसमें सुंधामाता धाम, वावेश्वरी माताजी बासड़ाधनजी, आशापुरी माताजी मंदिर मोदरा, सारणेश्वर महादेव सरत, सिरे मंदिर जालोर, जलंधरनाथ महादेव मंदिर बोकड़ा, चौंदरा माताजी देबावास होते हुए रामदेवरा तक पहुंचेंगे।
 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना