मौसम / ऋतुओं के राजा बसंत पंचमी आज और कल उत्सव, पीले वस्त्रों में होगी मां सरस्वती की आराधना



मां सरस्वती। मां सरस्वती।
X
मां सरस्वती।मां सरस्वती।

  • मौसम में बदलाव की उम्मीद, सर्दी से मिलेगी राहत  

Dainik Bhaskar

Feb 09, 2019, 11:11 AM IST

जोधपुर. कड़ाके की सर्दी के बीच बसंत ऋतु बसंत का आगमन हो रहा है। मां सरस्वती के समर्पित बसंत पंचमी से मौसम में बदलाव होना शुरू हो जाता है। यहीं कारण है कि इसे सभी ऋतुओं का राजा माना जाता है। बसंत पंचमी इस बार शनिवार और रविवार दो दिन मनाई जाएगी। पंचमी तिथि का प्रवेश शनिवार दोपहर 12:15 बजे होगा और रविवार को दोपहर 2:08 बजे तक इसका प्रभाव रहेगा। 


इस दिन साधक पीले वस्त्रों के साथ ही पीले पकवान ग्रहण करेंगे। पंडित रमेश द्विवेदी ने बताया, कि अनुसार माघ शुक्ल पंचमी पर मां सरस्वती की आराधना की जाती है। बसंत पंचमी से बसंत ऋतु का आगमन होता है। यह वह मौसम है जब न अधिक गर्मी होती है और न ही सर्दी। प्रकृति का इस दिन आनंदोत्सव माना गया है। लेकिन इस बार बसंत पंचमी के आगमन के बावजूद अभी तक सर्दी से निजात नहीं मिल पाई है।

 

पंडित द्विवेदी ने बताया, कि बसंती पंचमी मां सरस्वती की आराधना का पर्व है। इस दिन विद्या आरंभ करना शुभ माना गया है। मंदिरों में यज्ञ का भी विधान है। शहर के अधिकांश मंदिरों में भगवान की प्रतिमाओं को पीले वस्त्र पहनाए गए है। वहीं स्कूलों में मां सरस्वती की पूजा अर्चना के कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है।  


आज अबूझ सावों का मुहूर्त 
बसंत पंचमी पर शनिवार को अबूझ सावों का मुहूर्त है। इस दिन बैंड-बाजा-बारात की धूम रहेगी। कई विवाह आयोजन भी होंगे। बसंत की अनुगूंज में 125 जोड़ों का सामूहिक विवाह भी होगा। 
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना