--Advertisement--

राजनीति / राजे के भ्रष्टाचार पर गहलोत ने पर्दा डाला, दोनों पाप के भागी, चुनाव हरा घर भेजेंगे : बेनीवाल



हनुमान बेनीवाल हनुमान बेनीवाल
X
हनुमान बेनीवालहनुमान बेनीवाल
  • खींवसर विधायक ने कहा- जयपुर में 29 अक्टूबर को हुंकार रैली में करेंगे नए दल का ऐलान

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 06:40 AM IST

जोधपुर. खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने कहा कि राजस्थान के गौरव को वसुंधरा ने मिटाया और गहलोत इसलिए दोषी हैं, क्योंकि उन्होंने वसुंधरा के भ्रष्टाचार पर पर्दा डाला है। दोनों पाप के भागी हैं। इनको हम घर बिठाएंगे और प्रदेश में पहली बार जवान और किसान की सरकार बनेगी। प्रदेश की जनता दोनों ही दलों से परेशान है, इसलिए अब राजस्थान की जनता को नए दल और युवा नेतृत्व की तलाश है।

 

29 अक्टूबर में जयपुर की हुंकार महारैली में नए दल का ऐलान किया जाएगा। उस दिन 15 लाख लोग जुटेंगे। वे हुंकार रैली में भारी समर्थन जुटाने के लिए जोधपुर व बाड़मेर दौरे के दौरान मीडिया से बात कर रहे थे। जोधपुर में बेनीवाल ने कहा कि भले ही किरोड़ीलाल मीणा ने उनका साथ छोड़ दिया है पर वे पीछे नहीं हटेंगे। यह आंदोलन दोनों दलों को घर पर बिठा देगा। कांग्रेस के अशोक गहलोत और भाजपा से वसुंधरा राजे दोनों दो-दो बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं पर आज भी राजस्थान बीमारू प्रदेश में गिना जाता है।

 

दिल्ली में केजरीवाल की सरकार बन सकती है तो इस बार किसान और जवान सरकार बनाएंगे। यहां के युवाओं के अंदर परमाणु विस्फोट सी ताकत है और सारे कयास फेल हो जाएंगे। बीजेपी पीछे चली जाएगी और कांग्रेस भी हारेगी। एक सवाल के जवाब में कहा कि  गठबंधन को लेकर घनश्याम तिवाड़ी से बातचीत चल रही है, बसपा, सपा और अन्य दलों से भी संपर्क किया जा रहा है। गठबंधन वहां-वहां होगा, जहां उस दल का प्रभाव हो। बेनीवाल ने कहा कि दूसरे दल के नेता भी हमारे दल में शामिल हो सकते हैं, बशर्त वे सच्चे व ईमानदार छवि के हों।

 

हम भी सोशल इंजीनियरिंग करेंगे और सभी जाति के लोगों को जोड़ेंगे। हमारी ताकत गठबंधन हाेगी। इसकी शुरुआत उन्होंने 2010 से कर दी है और आज उनके साथ किसान और जवान हैं। किसान हित से जुड़े दल हमारे पास आएं। उन्हें आमंत्रण देने आया हूं कि वे साथ आकर गठबंधन बनाएं।


उन्होंने कहा कि दिसंबर 2016 से हुंकार रैली की शुरुआत की थी। हमारे मुद्दे हैं कि किसानों का संपूर्ण कर्ज 82 हजार करोड़ रुपए माफ हो। स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू हो। पंजाब, तेलंगाना, कर्नाटक, चेन्नई की तरह किसानों को मुफ्त बिजली मिले। टोल मुक्त राजस्थान और मजबूत लोकपाल मिले।

 

बेरोजगारी भत्ता, 4 लाख खाली पद भरे जाएं और मजबूत कानून व्यवस्था हो। यह हमारे जन आंदोलन का ही परिणाम है कि सरकार को झुकना पड़ा और 50 हजार का कर्जा माफ किया, स्टेट हाइवे टोल मुक्त किया और जाते-जाते सरकार ने फ्री बिजली की घोषणा की।

 

हमारी मांग है कि स्टेट हाइवे की तरफ नेशनल हाइवे भी टोल मुक्त हो। रेवन्यू की व्यवस्था के लिए सरकार 20 हजार करोड़ शराब से कमाती है अौर बिजली का कर्जा 6-7 करोड़ से ज्यादा नहीं है। हमारी सबसे बड़ी मांग है कि राजस्थान को विशेष राज्य का दर्जा मिले।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..