Home | Rajasthan | Jodhpur | News | at five hundread meter hight surya kiran aerobatic team will perform in jodhpur

आसमान में पांच सौ मीटर की ऊंचाई रोमांचक करतब दिखाएंगे एयरफोर्स के जांबाज

आसमान में पांच सौ मीटर की ऊंचाई रोमांचक करतब दिखाएंगे एयरफोर्स के जांबाज

SUNIL CHOUDHARY| Last Modified - Dec 04, 2017, 01:02 PM IST

1 of
at five hundread meter hight surya kiran aerobatic team will perform in jodhpur
इंडियन एयर फोर्स की सूर्यकिरण टीम।

जोधपुर। जोधपुर के लोग एक बार फिर एयर फोर्स की सूर्य किरण टीम के हैरत अंगेज करतबों के साक्षी बनेंगे। पलक झपकते ही आसमान में विभिन्न तरह की फॉर्मेशन बनाने में माहिर नौ हॉक्स विमानों की गति के समान ही दिल की धड़कने भी ऊपर-नीचे होना शुरू हो जाती है। महज पांच सौ मीटर की ऊंचाई पर साढ़े छह सौ किलोमीटर की गति के साथ एक-दूसरे के सामने आते विमानों को देख मारे घबराहट के लोग भले ही अपनी आंखें बंद कर ले, लेकिन इन्हें उड़ाने वाले इंडियन एयर फोर्स के जांबाज पायलट्स महज पांच मीटर की दूरी से अपना विमान खिलौने के माफिक निकाल ले जाते है। एक घंटे के एयर शो के दौरान सूर्यकिरण टीम ग्रुप कैप्टन अजीत कुलकर्णी के नेतृत्व में नौ विमानों से अपनी 21 हवाई कला बाजियों दिखाएगी। एयर फोर्स की दक्षता की प्रतीक है सूर्य किरण


- पलक झपकते ही आसमान में सूर्य की किरणों के समान फैल जाने वाली सूर्य किरण टीम इंडियन एयर फोर्स की प्रतीक है। इसके माध्यम से एयर फोर्स अपनी दक्षता और व्यावसायिक कुशलता को दर्शाता है।
- वर्ष 1996 में विंग कमांडर कुलदीप मलिक को एयरोबिक टीम तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। उसके बाद से यह टीम बेहतरीन करतब दिखा देश-विदेश में लाखों लोगों का दिल जीत चुकी है।
- नौ हवाई जहाज के साथ आसमान में बेहतरीन करतब दिखाने वाली यह दुनिया की चुनिन्दा टीम है। ट्रेनर जेट की कमी के कारण वर्ष 2011 में इसका काम बंद कर दिया गया।
- इसके बाद वर्ष 2015 में छह हाक ट्रेन जेट विमान के साथ इसे एक बार फिर शुरू किया गया। अब इस टीम में एक बार फिर से नौ विमान शामिल हो चुके है।
- जोधपुर एयर बेस पर यह टीम स्कूली छात्रों के समक्ष पांच दिसम्बर को अपना प्रदर्शन दिखाएगी। ताकि स्कूली बच्चे एयर फोर्स का हिस्सा बनने को प्रेरित हो सके।


बहुत मुश्किल से होता है चयन


- एयर फोर्स की ब्रांड एम्बेसडर बन चुकी सूर्य किरण टीम में सिर्फ तेरह पायलट्स होते है। इनके चयन के मापदंड बहुत ऊंचे है। सिर्फ लड़ाकू फाइटर जेट उड़ाने वाले पायलट्स ही इसमें चयन के हकदार होते है। प्रत्येक पायलट को कम से कम दो हजार घंटों की उड़ान का अनुभव होना अनिवार्य होता है। साथ ही एक हजार घंटे तक किरण विमान उड़ाने का अनुभव भी होना चाहिए।
सभी पायलट ट्रैंड फ्लाइट इंस्ट्रक्टर होने चाहिए। इस टीम में उनकी नियुक्ति तीन साल के लिए होती है। चयन से पूर्व कई तरह की कठिन परीक्षा से गुजरना पड़ता है पायलट को। सूर्य किरण टीम एक साल में करीब तीस प्रदर्शन शो आयोजित करती है। एक दिन में सामान्यतया प्रत्येक पायलट को तीन उड़ान भरनी होती है।


करतब के दौरान हो जाते है हादसे


- सूर्य किरण टीम की ओर से हैरत अंगेज खतरनाक करतब दिखाने के दौरान कई बार हादसे भी हो जाते है। मार्च 2006 में बीदर के निकट अभ्यास के दौरान एक विमान क्रैश हो गया था। इस हादसे में विंग कमांडर धीरज भाटिया और स्क्वाड्रन लीडर शैलेन्द्र सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इसी तरह जनवरी 2009 में बीदर में ही एक प्रदर्शन के दौरान विंग कमांडर आरएस धालीवाल का विमान क्रैश हो गया था।

 

सूर्य किरण की इन फॉर्मेशन से आसमां में ठहरेगी आंखें

 

टेक ऑफ इन थ्री: एक साथ 9 विमान तीन तीन के ग्रुप में उड़ान भरेंगे

डायमंड फॉर्मेशन: 9 विमान डायमंड की तरह ग्रुप में उड़ेंगे

चेंज टू फुलक्रम फॉर्मेशन एंड फ्लाई बाय: 9 विमान एक साथ लेफ्ट साइड से अर्द्ध गोलकार घूमकर उड़ेंगे।

रिवर्सल इन फुलक्रम एंड चेंज फॉर्मेशन टू सुखोई : नौ विमान आसमां में सीधे सुखोई विमान की फॉर्मेशन बनाते हुए उड़ेंगे।

चेंज टू ग्रिपन फॉर्मेशन एंड फ्लाई बाय: सभी नौ विमान राइड साइड से अर्द्ध गोलाकार घूमकर उड़ेंगे।

चेंज अपोलो रिवर्सल एंड फ्लाई बाय: चार विमान आगे और पांच विमान पीछे अपोलो फॉर्मेशन में उड़ेंगे।

चेंज राफेल एंड फ्लाई बाय: ये विमान फ्रांस के लड़ाकू विमान राफेल की फार्मेशन बनाएंगे।

अपोलो फार्मेशन फ्रॉम द लेफ्ट: ओपोल फॉर्मेशन में एक साथ लेफ्ट से उड़ेंगे।

प्रजेंटिंग द डेल्टा फॉर्मेशन: सबसे आगे पांच, तीन और एक विमान उल्टा टाइंग में उड़कर राइड साइड से डेल्टा बनाएंगे।

चेंज डायमंड: डायमंड फॉर्मेशन को बदलते हुए ये विमान स्वदेसी लड़ाकू विमान तेजस बनाएंगे।

चेंज थंडरबोल्ट: 9 विमान तीर जैसी फॉर्मेशन में अचानक पीछे से आएंगे। इसके बाद शॉकवेव में तब्दील होकर विक्सेन ब्रेक में तब्दील होकर पोजिशन लेंगे।

अगली स्लाइड्स में देखें अन्य फोटो

 

at five hundread meter hight surya kiran aerobatic team will perform in jodhpur
ऐसे परफोर्म करती है सूर्यकिरण टीम।
at five hundread meter hight surya kiran aerobatic team will perform in jodhpur
जोधपुर एयर बेस पर सूर्य किरण टीम के विमान।
at five hundread meter hight surya kiran aerobatic team will perform in jodhpur
पांच मीटर की दूरी से निकलते दो विमान।
at five hundread meter hight surya kiran aerobatic team will perform in jodhpur
सूर्य किरण टीम के पायलट्स।
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now