--Advertisement--

शांति वार्ता के लिए पहले आतंकियों को समर्थन देना बंद करें पाकिस्तान: जनरल रावत

शांति वार्ता के लिए पहले आतंकियों को समर्थन देना बंद करें पाकिस्तान: जनरल रावत

Danik Bhaskar | Dec 22, 2017, 04:55 PM IST
भारत के सेनाध्यक्ष जनरल रावत। भारत के सेनाध्यक्ष जनरल रावत।

जोधपुर। भारत के सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने शुक्रवार को सीमा के निकट से पाकिस्तानी सेनाध्यक्ष की ओर से भारत के सात सम्बन्ध सुधारने के बयान पर करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को पहले आतंकियों को दिए जा रहे समर्थन को रोकना होगा। उसके पश्चात ही शांति वार्ता की जा सकती है। उन्होंने कहा कि हम भी चाहते है कि सीमा पर शांति हो, लेकिन इसकी वास्तविक पहल पाकिस्तान को ही करनी होगी। जनरल रावत सीमा क्षेत्र में सेना के युद्धाभ्यास को देखने आए हुए थे। ये बोले जनरल रावत...


- पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष जनरल कमर बाजवा के अपने सांसदों से भारत के साथ सम्बन्ध सुधारने की पहल करने के बारे में में जनरल रावत से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हम भी चाहते है कि दोनों देशों के बीच सम्बन्ध में सुधार हो, लेकिन इसके लिए सबसे पहले पाकिस्तान को वहां से आतंकियों को मिल रहे समर्थन पर रोक लगानी होगी। इस पर रोक लगाए बगैर दोनों देशों के बीच सम्बन्ध सामान्य नहीं हो सकते। पाकिस्तान को पहल करनी होगी।
- पाकिस्तान और चीन सीमा पर बढ़ती हलचल के बारे में जनरल रावत ने कहा कि यह सामान्य प्रक्रिया है। वे अपने क्षेत्र में सुरक्षा की व्यवस्था करते है। उसी तरह हम भी अपने देश की सुरक्षा में जुटे है। इस बारे में किसी प्रकार की चिंता नहीं की जानी चाहिये। सीमा पर हमारी तैयारियों में किसी प्रकार की कमी नहीं है।
- जनरल रावत ने कहा कि सेना को नई असाल्ट रायफल के बारे में शीघ्र फैसला कर लिया जाएगा। इस बारे में सरकार ने फैसला सेना पर छोड़ दिया है। सेना कुछ रायफल की ट्रायल कर रही है। इस प्रक्रिया के पूरा होने के बाद खरीद प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।
जम्मू-कश्मीर में बड़ी संख्या में आतंकियों के मारे जाने के बारे में उन्होंने कहा कि यह अकेले सेना नहीं कर रही है। इसमें सभी अन्य सुरक्षा बलों को पूरा सहयोग मिल रहा है। सामूहिक प्रयास के बेहतर नतीजे मिल रहे है।

अगली स्लाइड्स में देखें अन्य फोटो