--Advertisement--

एक बाराती के साथ पाकिस्तान से शादी करने आया दूल्हा, मां और भाई को अब तक नहीं मिला वीजा

एक बाराती के साथ पाकिस्तान से शादी करने आया दूल्हा, मां और भाई को अब तक नहीं मिला वीजा

Danik Bhaskar | Feb 12, 2018, 11:05 AM IST
पाकिस्तान से आया दूल्हा डॉ. हम पाकिस्तान से आया दूल्हा डॉ. हम

जोधपुर। पाकिस्तान से एक अनूठी बारात जोधपुर पहुंच गई है। इस बारात में सिर्फ दो लोग ही है। एक स्वयं दूल्हा और दूसरे उसके पिता। दूल्हे की मां और छोटा भाई अभी तक वीजा मिलने के इंतजार में पाकिस्तान में ही अटके है। दूल्हा बने इस पाकिस्तानी डॉक्टर हमीर सिंह की शादी 18 फरवरी को जोधपुर में जालोर निवासी वंदना कुमारी के साथ होगी। इससे पहले भी ये दूल्हा इसी लड़की से शादी करने भारत आ चुका है। थार एक्सप्रेस से पहुंचा दूल्हा...

- शादी करने के लिए थार एक्सप्रेस से रविवार को जोधपुर पहुंचे पाकिस्तान के उमरकोट निवासी डॉ. हमीरसिंह ने बताया कि रवाना होने से पहले तक उन्होंने अपनी मां और छोटे भाई के वीजा के लिए भरसक प्रयास किए, लेकिन अधिकारियों की तरफ से किसी प्रकार का आश्वासन तक नहीं मिला। अधिकारियों ने रटा रटाया एक ही जवाब दिया कि आप आवेदन जमा करवा दे। यदि भारत सरकार अब भी वीजा जारी कर दे तो उनकी मां व भाई हवाई जहाज से भारत आ उनकी शादी में शामिल हो सकते है।


मां-भाई के बगैर अधूरी रहेगी शादी


- डॉ. हमीर सिंह ने बताया कि नियमों के फेर में उनकी मां और भाई पाकिस्तान में अटके हुए है। उन दोनों के बगैर मेरी शादी में एक अधूरापन रहेगा। बेहतर होता दोनों को भी वीजा मिल जाता। उन्होंने बताया कि मां व भाई के बगैर शादी करना अच्छा नहीं लग रहा है। अपने पिता पदमसिंह के साथ यहां पहुंचे दूल्हे ने बताया कि हमें यहां रवाना करते समय मां के आंसू नहीं थम रहे थे।


यह है मामला


- पाकिस्तान के उमरकोट जिले के सिनोई गांव निवासी डॉ. हमीर सिंह का रिश्ता जालोर जिला निवासी वंदना कुमारी के साथ तय हो रखा है। दूल्हे की बड़ी बहन कविता की शादी चार वर्ष पूर्व जोधपुर के अभिषेक सिंह के साथ हो रखी है। कविता ने ही अपने भाई के लिए यहां पर लड़की देखी। इसके बाद गत वर्ष उसकी मां और अन्य परिजन जोधपुर आए। इसके बाद रिश्ता तय हुआ। उस समय यह परिवार लड़की देखने और रिश्ता तय करने के लिए काफी दिन भारत में ठहरा। गत वर्ष सितम्बर में दोनों की शादी तय हो गई, लेकिन इस बीच दूल्हे के अंकल का निधन हो गया। ऐसे में पूरा परिवार शादी को स्थगित कर पाकिस्तान लौट गया।

- अब एक बार फिर दोनों की शादी 18 फरवरी को करना तय किया गया। शादी में शामिल होने के लिए डॉ. हमीर के साथ ही उनके माता-पिता व छोटे भाई ने वीजा के लिए आवेदन किया। भारत सरकार ने दूल्हा व उसके पिता का ही वीजा जारी किया। उन्होंने दूल्हे की मां और छोटे भाई को इस आधार पर वीजा देने से इनकार कर दिया कि वे गत वर्ष भारत में काफी दिन ठहर कर गए थे।

अगली स्लाइड्स में देखें अन्य फोटो