बजट / जोधपुर को सौगातें देने में गहलोत ने नहीं रखी कोई कसर, लिफ्ट नहर के तीसरे चरण को स्वीकृति



अशोक गहलोत। अशोक गहलोत।
X
अशोक गहलोत।अशोक गहलोत।

  • आखलिया से पावटा तक एलिवेटेड रोड की तैयार होगी डीपीआर
  • एमडीएम में स्थापित की जाएगी 31 करोड़ की कैंसर जांच मशीन

Dainik Bhaskar

Jul 10, 2019, 02:56 PM IST

जोधपुर. तीसरी बार प्रदेश की बागडोर संभालने के बाद बुधवार को अपना पहला बजट पेश करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने गृह नगर जोधपुर को सौगातें देने में कोई कसर नहीं छोड़ी। जोधपुर शहर को पेयजल संकट से मुक्त करने के लिए राजीव गांधी लिफ्ट नहर का तीसरा चरण शुरू किया जाएगा। वहीं यातायात समस्या से मुक्त करने के लिए जोधपुर शहर की हार्ट लाइन मानी जाने वाली रोड आखलिया से पावटा तक एलिवेटेड रोड बनाने की योजना तैयार की जाएगी। इसके अलावा कई महत्वपूर्ण घोषणाएं गहलोत ने की। 


लोकसभा चुनाव में जोधपुर से बेटे वैभव की करारी हार के बाद माना जा रहा था कि गहलोत के मन में यहां के मतदाताओं के प्रति नाराजगी है, लेकिन उन्होंने सभी कयास को दरकिनार कर जोधपुर के विकास से जुड़ी कई योजनाओं को स्वीकृत कर दिखा दिया कि यह शहर अभी भी उनके दिल में बसता है। 


बजट में गहलोत की मुख्य घोषणाएं
राजीव गांधी लिफ्ट नहर के तीसरे चरण को एशियन डवलपमेंट बैंक से 1454 करोड़ रुपए का ऋण लेकर पूरा कराया जाएगा। इस योजना से पानी की उपलब्धता बढ़ेगी। 
शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी जोधपुर में वेटनरी कॉलेज की खल रही कमी को गहलोत ने दूर कर दिया है। अब यहां एक वेटनरी कॉलेज खोला जाएगा। 
जोधपुर सहित कुछ अन्य शहरों में नए औद्योगिक क्षेत्र विकसित किए जाएंगे। नए औद्योगिक क्षेत्र के अभाव में जोधपुर का औद्योगिक विकास बरसों से अटका हुआ है। 
पचपदरा में रिफाइनरी का कार्य वर्ष 2022 तक पूर्ण करने का लक्ष्य है। इस रिफाइनरी से जुड़े उद्योगों की स्थापना के लिए जोधपुर-बाड़मेर के बीच में नया क्षेत्र विकसित किया जाएगा। इस क्षेत्र में पेट्रोलियम से जुड़े उत्पादों से जुड़े उद्योगों की स्थापना होगी। 
जोधपुर की हार्ट लाइन मानी जाने वाली आखलिया से पावटा तक की रोड पर यातायात का बहुत अधिक दबाव है। इस रोड पर एलिवेटेड रोड बनाने की योजना तैयार करने के लिए बजट में राशि का प्रावधान किया गया है। योजना तैयार होने के बाद ऋण लेकर इसे शुरू किया जाएगा। 
कैंसर रोगियों को बड़ी राहत प्रदान करते हुए गहलोत ने जोधपुर के एमडीएम अस्पताल में 31 करोड़ की लागत से नई मशीन लगाने की घोषणा की। इसकी स्थापना के पश्चात कैंसर से जुड़ी सभी जांचें यहीं पर हो सकेगी। 
एमडीएम अस्पताल के आईसीयू पर बढ़ते भार को कम करने के लिए यहां पर मल्टी स्टोरी आईसीयू बनाया जाएगा। 
ठीक हो जाने के बावजूद कई मानसिक रोगी वापस अपने घर नहीं पहुंच पाते है। ऐसे लोगों के रहने के लिए जोधपुर व जयपुर में पच्चीस-पच्चीस करोड़ रुपए की लागत से हाफ वे होम का निर्माण किया जाएगा। 
जोधपुर के उम्मेद स्टेडियम में दर्शकों के बैठने की सुविधा विकसित करने के लिए दो करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। 
दिल्ली-मुंबई फ्रेट कॉरिडोर मार्ग पर जोधपुर व पाली में औद्योगिक क्षेत्र विकास करने के लिए एक प्राधिकरण का गठन किया जाएगा। यह प्राधिकरण इस क्षेत्र के विकास की योजना तैयार कर उसका क्रियान्वयन करेगा। 
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना