--Advertisement--

लोकसभा चुनाव / बेटे वैभव को लॉच करने की तैयारी में मुख्यमंत्री गहलोत, जोधपुर व सवाई माधोपुर से है मजबूत दांवेदारी

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 11:55 AM IST


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने बेटे वैभव व परिवार के अन्य सदस्यों के साथ। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने बेटे वैभव व परिवार के अन्य सदस्यों के साथ।
X
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने बेटे वैभव व परिवार के अन्य सदस्यों के साथ।मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने बेटे वैभव व परिवार के अन्य सदस्यों के साथ।

  • अब तक गहलोत नहीं चाहते थे बेटे को चुनाव लड़ाना, लेकिन अब प्रदान की स्वीकृति

जोधपुर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने बेटे वैभव को सक्रिय राजनीति में उतारने को पूरी तरह से कमर कस ली है। लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस की तरफ से प्रदेश में कार्यकर्ताओं के बीच कराई जा रही रायशुमारी में तीन स्थानों जोधपुर, जालोर-सिरोही व सवाई माधोपुर से वैभव का नाम प्रस्तावित किया गया है। तीनों स्थान पर वैभव का नाम प्रस्तावित कर फैसला गहलोत पर छोड़ दिया गया। अब गहलोत को तय करना है कि वे अपने बेटे को कौनसे स्थान से लॉच करते है। 


प्रदेश कांग्रेस के महासचिव वैभव को वर्ष 2008 में प्रदेश कांग्रेस कमेटी का सदस्य बनाया गया था। वर्ष 2009 में उन्हें सवाई माधोपुर से लोकसभा चुनाव लड़ाने का प्रस्ताव सामने आया था। लेकिन मुख्यमंत्री गहलोत ने उन्हें चुनावी रण में उतारने से मना कर दिया। अब मुख्यमंत्री स्वयं अपने बेटे को चुनावी रण में उतारने को पूरी तरह से तैयार है। हाल ही संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के दौरान गहलोत ने कहा भी पहले वे अपने बेटे के चुनाव लड़ने के पक्षधर नहीं थे, लेकिन दस वर्ष से प्रदेश की राजनीति में सक्रिय वैभव को अब वे चुनाव लड़ने से नहीं रोकेंगे।

 

उसके बाद से यह माना जा रहा है कि वैभव इस बार लोकसभा का चुनाव अवश्य लड़ेंगे। लेकिन कहां से चुनाव लड़ेंगे इसका फैसला उनके पिता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत करेंगे। वैभव का नाम तीन स्थान से प्रमुखता से लिया जा रहा है, लेकिन माना जा रहा है कि वे सवाई माधोपुर या फिर जोधपुर से चुनाव मैदान में उतरेंगे।

 

विधानसभा चुनाव में जोधपुर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस के प्रत्याशी चयन को देख कर यह माना जा रहा है कि गहलोत वैभव को यहां से मैदान में उतार सकते है। लोकसभा क्षेत्र में गहलोत ने अधिकांश बड़ी जातियों के लोगों को प्रत्याशी बना वैभव के लिए राह तैयार की है। जोधपुर लोकसभा क्षेत्र की आठ सीटों में से छह पर कांग्रेस का कब्जा है। वहीं स्वयं गहलोत जोधपुर से पांच बार सांसद चुने जा चुके है। साथ ही जिले के प्रत्येक कार्यकर्ता तक उनकी सीधी पहुंच है। ऐसे में उनके लिए वैभव को जोधपुर से चुनाव मैदान में उतारना सबसे सुगम माना जा रहा है। हालांकि गहलोत ने हमेशा की तरह इस बार भी अपने पत्ते नहीं खोले है कि वैभव को कहां से चुनाव लड़ाया जाएगा। 
 

Astrology

Recommended

Click to listen..