नई पीढ़ी को भारतीय संस्कृति व परंपरा का ज्ञान करवाना जरूरी : सुकन मुनि / नई पीढ़ी को भारतीय संस्कृति व परंपरा का ज्ञान करवाना जरूरी : सुकन मुनि

Bhaskar News Network

Dec 09, 2018, 03:45 AM IST

Jodhpur News - भास्कर न्यूज | बोरुंदा/जोधपुर मानव जाति को जीवन में धार्मिक कार्यों का निर्वहन करना चाहिए, क्योंकि धार्मिक...

Jodhpur News - knowledge of indian culture and tradition must be made to the new generation sukan muni
भास्कर न्यूज | बोरुंदा/जोधपुर

मानव जाति को जीवन में धार्मिक कार्यों का निर्वहन करना चाहिए, क्योंकि धार्मिक कार्यों से सामाजिक परंपराओं का मनोबल बढ़ता है। यह बात जैन संत सुकन मुनि ने शनिवार को खवासपुरा में आयोजित धर्मसभा में कही। उन्होंने कहा, कि नई पीढ़ी को पाश्चात्य संस्कृति से हटकर भारतीय संस्कृति व परंपराओं का ज्ञान करवाना जरूरी है। ऐसा करने से प्राचीन परंपराओं व भारतीय संस्कृति का संरक्षण किया जा सकता है।

संत अमृत मुनि ने कहा, कि हर इंसान को अपनी कमाई का कुछ हिस्सा पुण्य के नाम पर धार्मिक कार्यों में लगाना चाहिए। साथ ही मूक प्राणियों की सेवा करनी चाहिए। धर्मसभा में डॉ. वरुण मुनि ने कहा, कि सोशल मीडिया के युग में आज की युवा पीढ़ी ने ईश्वरीय स्मरण से परहेज रखते हुए भक्ति भाव से दूरियां बना ली है। अपने प्राचीन संस्कार व संस्कृति को युवाओं को नहीं भूलना चाहिए। सोशल मीडिया के युग में सामाजिक कार्यों के प्रति युवाओं को जागरूक होना चाहिए। इस दौरान बाबूलाल सोनी, प्रसन्नचंद, अशोक कोठारी, अमरदास वैष्णव, रामनिवास, सुरेश कोठारी, महावीरचंद, अमरचंद व नथमल आदि मौजूद थे। रविवार को जैन स्थानक में दोपहर एक बजे से तीन बजे तक धर्मसभा होगी।

खवासपुरा में जैन मुनि ने साधकों को संस्कृति और परंपरा का ज्ञान करवाया और युवा पीढ़ी को जागरूक किया।

भास्कर न्यूज | बोरुंदा/जोधपुर

मानव जाति को जीवन में धार्मिक कार्यों का निर्वहन करना चाहिए, क्योंकि धार्मिक कार्यों से सामाजिक परंपराओं का मनोबल बढ़ता है। यह बात जैन संत सुकन मुनि ने शनिवार को खवासपुरा में आयोजित धर्मसभा में कही। उन्होंने कहा, कि नई पीढ़ी को पाश्चात्य संस्कृति से हटकर भारतीय संस्कृति व परंपराओं का ज्ञान करवाना जरूरी है। ऐसा करने से प्राचीन परंपराओं व भारतीय संस्कृति का संरक्षण किया जा सकता है।

संत अमृत मुनि ने कहा, कि हर इंसान को अपनी कमाई का कुछ हिस्सा पुण्य के नाम पर धार्मिक कार्यों में लगाना चाहिए। साथ ही मूक प्राणियों की सेवा करनी चाहिए। धर्मसभा में डॉ. वरुण मुनि ने कहा, कि सोशल मीडिया के युग में आज की युवा पीढ़ी ने ईश्वरीय स्मरण से परहेज रखते हुए भक्ति भाव से दूरियां बना ली है। अपने प्राचीन संस्कार व संस्कृति को युवाओं को नहीं भूलना चाहिए। सोशल मीडिया के युग में सामाजिक कार्यों के प्रति युवाओं को जागरूक होना चाहिए। इस दौरान बाबूलाल सोनी, प्रसन्नचंद, अशोक कोठारी, अमरदास वैष्णव, रामनिवास, सुरेश कोठारी, महावीरचंद, अमरचंद व नथमल आदि मौजूद थे। रविवार को जैन स्थानक में दोपहर एक बजे से तीन बजे तक धर्मसभा होगी।

X
Jodhpur News - knowledge of indian culture and tradition must be made to the new generation sukan muni
COMMENT